एबीपी न्यूज का खुलासा: ISIS भारत में यहां बनाने वाला था पहला ट्रेनिंग कैंप!

isis training in india!

नई दिल्ली: आज की तारीख में दुनिया के खतरनाक आतंकी संगठन ISIS के बारे मे एबीपी न्यूज करने जा रहा है एक बड़ा खुलासा. ये खतरनाक आतंकी संगठन भारत में अपना पहला ट्रेनिंग कैंप बनाने जा रहा था. इस खुलासे से साफ हो जाएगा कि ISIS की जड़े भारत में कितने खतरनाक तरीके से पनप रही हैं. और ISIS के भारत में इरादे कितने खतरनाक हैं.

दुनिया के खतरनाक आतंकी संगठन ISIS के देशभर में करीब 20 संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है. ISIS के इन संदिग्धों से कई जानकारियां भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को मिल रही हैं. इन जानकारियों से कई खुलासे भी हो रहे हैं. और पता चल रहा है कि भारत में ISIS अपनी जड़ें फैलाने के लिए क्या कर रहा है? उसके प्लान क्या है, और उनको अंजाम देने के लिए ये संगठन किस तरह की तैयारियां कर रहा है?

isis2 isis3 isis4

ISIS की इन तैयारियों को समझने के लिए हम आपको सबसे पहले लिए चलते है, मुंबई से करीब 45 किलोमीटर दूर पनवेल, मुंबई से पुणे के रास्ते पर आता है पनवेल, वैसे तो इस शहर का नाम कभी किसी आतंकवादी गतिविधि में इससे पहले सामने नहीं आया. ना ही ये शहर किसी अनुचित घटना से कभी चर्चा में आया. और ना ही इस शहर का कोई आतंकी गतिविधियों का कोई इतिहास रहा, ये शहर जाना जाता मुंबई के प्रवेश द्वार के तौर पर. अगर आपको मुंबई से गोवा जाना है तो पनवेल से ही शुरु होता है, मुंबई गोवा हाईवे, और पुणे जाने का रास्ता भी इसी शहर से गुजरता है. और इसी शहर के आसपास ही आपको इस रास्ते पर नजर आता है घना जंगल.

मुंबई से करीब 45 किलोमीटर दूर बसे पनवेल के बारे हम आपको इतना क्यों बता रहे हैं. आखिर इस शहर और ISIS क्या संबंध है, इस शहर को ISIS के संदिग्धों ने एक मकसद के लिए चुना था. ISIS इस शहर के पास विरान इलाके में बनाने वाला था ISIS ट्रेनिंग कैंप.

पनवेल के पास घना जंगल है, और कई पहाड़ियां भी हैं. इस इलाके मे एक बर्ड सैंचुअरी भी है, कर्नाला बर्ड सैंचुअरी. यहां और जंगल की वजह से ये इलाका विरान सा रहता है, और शायद यही वजह है की इस इलाके को ISIS ने अपना ट्रेनिग कैंप बनाने के लिए चुना था. इस जगह को देखने के लिए आय़ा था ISIS का उत्तरप्रदेश से गिरफ्तार संदिग्ध रिजवाऩ अहमद. 20 साल का रिजवान अहमद जो उत्तर प्रदेश के कुशीनगर का रहने वाला है. सूत्रों के मुताबिक पकड़े गए संदिग्धों ने सुरक्षा एजंसियों को दी जानकारी के मुताबिक रिजवान इस इलाके में आकर जगह देखकर गया था. और उसके बाद ये जगह देखने के लिए बाकी लोग जाने वाले थे. यानि जाहिर सी बात है ये इलाका बनने वाला था ISIS का देश का पहला ट्रेनिंग कैंप.

रिजवान इस इलाके को देख कर गया था. अब बस उसके साथियों का ये जगह देखने के लिए आना बाकी था. उसके साथी यानी मुंबई के पास मुंब्रा से पकडा गया मुद्दबीर शेख, और औरंगाबाद से पकडा गया इमरान पठान. इन आतंकियों को यहां बम बनाने की ट्रेनिंग लेनी थी, यही नहीं उन्हें एक ऐसी जगह चाहिए थी जहां आसानी से कोई आ न सके और उनकी गतिविधियों के बारे में किसी को कोई शक ना हो.

आतंकी गतिविधियों की ट्रेनिंग के लिए मुंबई के पास किसी सुनसान विरान जगह का ढुंढना या उसका इस्तेमाल का ये कोई पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी आतंकी मुंबई के पास ऐसी जगहों का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए कर चुके हैं.

इससे पहले मुंबई में घाटकोपर और मुलुंड ट्रेन बम धमाके हूए थे, उन आतंकियों ने मुबई नाशिक हाईवे पर शहापुर के पास के जंगलो और पहाड़ियों का इस्तमाल ट्रेनिंग के लिए किया था, कुछ ऐसा ही करना चाहता था ISIS.

ISIS को भारत में बडे धमाकों को अंजाम देना था, और उसी की तैयारी चल रही थी. इन संदिग्धों को कहा गया था कि वो ट्रेनिंग के लिए एक जगह ढूंढे. इसलिए इस जगह को ढूंढा गया था. जांच में सामने आ रहा है कि ये तैयारियां कुंभ मेले को निशाना बनाने के लिए चल रही थी. एटीएस ने मुंब्रा से जिस मुद्दबीर को पकडा है, उसके घर से कई मोबाईल और बम बनाने से संबंधित चीजे बरामद की गई हैं, पकडे गए करीब 20 लोगो का सरगना यही शख्स था मुद्दबीर शेख, उम्र 40 साल, ये शख्स आईटी प्रोफेशनल था, और इन सबका सरगना था सीरिया मे बैठा शफी अरमार. वही जो आतंक का नया आका है भारत में ISIS के आतंकियों का.

आतंक के इस आका ने भारत मे ISIS का आतंक फैलाने के लिए एक नया संगठन बनाया है और मुद्दबीर शेख समेत सभी 20 संदिग्ध इसी संगठन के लिए काम करते है. इस संगठन का नाम है जुंदल खिलाफा. भारत में इंडियन मुजाहिदीन के बाद ये नया संगठन है जो ISIS के लिए काम करता है. जिसका सरगना है शफी अरमार, इसी शफी अरमार से सीधे संपर्क में थे ये संदिग्ध. यानी भारत में ISIS का दुसरा नाम है जुंदल खिलाफा. ये सारे संदिग्ध जुंदल खिलाफा के लिए काम करते हैं.

जुंदल खिलाफा आतंक का वो नाम है जो भारत मे ISIS का प्रचार, प्रसार और रिक्रुटमेंट सब करता है, इस संगठन के सरगना शफी अरमार ने बाकायदा इस संगठन का पूरा खाका खिंच दिया जिसमे मुंब्रा के मु्द्दबीर को आमीर ए हिंद बनाया गया यानी भारत का सरगना.

यही नहीं उत्तर प्रदेश से पकडे रिजवान को नायब ए हिंद बनाया गया. और बाकी लोगों को नायब ए मलियत यानी खजांची और नायब ए राब्ता बनाया गया. यानी एक नया संगठन ही खड़ा कर दिया गया भारत में जो ISIS के लिए काम करने लगा. अगर हम जुंदल खिलाफा की बात करे तो जुंदल खिलाफा को अल कायदा का ही गुट यानी एक संगठन माना जाता है, इसका इतिहास भी रहा है, इससे पहले अल कायदा का ये गुट कई और देशों में भी सक्रिय रहा है. लेकिन अब ये गुट ISIS का एक हिस्सा बन गया है. और अब ये भी जान लीजिए की ये लोग कब से देश के खिलाफ साजिश रच रहे थे. इसलिए हम आपको लिए चलते है उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में. ये वो शहर है जहां संगठन की पहली मीटिंग हुई थी . लखनऊ के मायावती नगर में हुई थी ये मीटिंग. यानी ISIS ने देश में एक साल पहले ही अपना जाल फैला दिया था. और एक नया संगठन भी खडा कर दिया था.

इस संगठन को हवाला से पैसा आता था, जांच में अभी पूरी रकम के बारे में जानकारी धीरे धीरे सामने आ रही है. लेकिन इस संगठन को अबतक विदेश से करीब 10 लाख से ज्यादा पैसा हवाला के जरिए आ चुका है. इसमें से कुछ पैसे औरंगाबाद से गिरफ्तार इमरान पठाण को दे दिए गए थे. ये पैसे उसे मुंबई के पास दिए गए थे.

नाम -इमरान पठान,
उम्र- 26 साल
शिक्षा- बीसीए
निवास- वैजापूर, औरंगाबाद
औरंगाबाद मे कम्प्यूटर हार्डवेयर का कोर्स करने वाला इमरान मुंबई में भी रह चुका है. उस पर ही जिम्मेदारी थी, ISIS के प्रचार प्रसार की. यही नहीं मुंबई के मझगांव इलाके से पकडा गया है इनका एक साथी हुसैन खान, उस पर शक है कि हवाला का पैसा उसके पास आता था. फिलहाल इन सब के पकडे जाने से भारत में एक बडे आतंकी हमले को अंजाम देने का ISIS के प्लान की धज्जियां सुरक्षा एजंसियों ने उड़ा दी है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: isis training in india!
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: isis
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017