मानव बम के जरिए मोदी को मारने के लिए IS ने रची साजिश?

By: | Last Updated: Friday, 22 January 2016 10:29 PM
ISIS use manav bomb to kill pm modi?

नई दिल्ली: खुफिया एजेंसियों के मुताबिक गणतंत्र दिवस की परेड के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बड़ी हस्तियों को निशाना बनाने के लिए आतंकी संगठन आईएस ने खतरनाक साजिश रची है . खबर ये है कि इसके लिए आईएस बच्चा बम यानी कि छोटे बच्चों को मानव बम के तौर पर इस्तेमाल कर सकता है लेकिन ऐसी किसी साजिश को नाकाम करने की पूरी तैयारी हो चुकी है.

देश का गणतंत्र बनने का जश्न होता है गणतंत्र दिवस. लेकिन आतंकियों की नापाक नजरें इस खास दिन पर खून खराबे की साजिश में जुटी हैं. इस बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि हैं फ्रांस के प्रेजीडेंट फ्रेनकोइस हौलेंड.

हौलेड को आतंकी संगठन आईएस से बड़ा खतरा है. खुफिया एजेंसियो को अब तक जो जानकारियां मिली है उसके मुताबिक इस बार गणतंत्र दिवस पर सब से बड़ा खतरा आंतकी संगठन आईएस के साथ-साथ पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश ए मौहम्मद और लश्कर से है.

खुफिया एजेंसियो के मुताबिक खुफिया एजेंसियो को दो दिन पहले जो सूचना मिली है उसने सुरक्षा एजेंसियो के होश उडा दिए है इस खुफिया रिपोर्ट में बताया गया है कि क्योकि प्रधानमंत्री मोदी बच्चों को पास आने से नही रोकते लिहाजा गणतंत्र दिवस के मौके पर उन्हें मानव बम बच्चे द्वारा निशाना बनाया जा सकता है आतंकी संगठनों की इस हमले से एक तीर से कई निशाने करने की सोच है.

खुफिया सूत्रों ने बताया कि आतंकियों की इस बारे में बैठक भी हुई थी जिसमें 12 से 14 साल के बच्चों के जरिए प्रधानमंत्री औऱ दूसरे वीआईपीज को निशाना बनाए जाने को कहा गया. खुफिया एजेंसियों ने इस सूचना को बेहद गंभीरता से लिया है.
गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर जाने वाले हर शख्स पर निगाह रखने के लिए वहां लगे कैमरों के अलावा चार अन्य हेलीकाप्टरो के जरिए भी नजर रखी जाएगी. साथ ही तीन हथियारों से लैस हैलीकाप्टर भी तैयार रखे जायेगें.

खुफिया सूत्रों के मुताबिक इसके अलावा मिलिट्री इंटेंलीजेस की एक सूचना के आधार पर सुरक्षा एजेंसियां खासी परेशान है इस सूचना में कहा गया है कि बांग्लादेश से तहरीर नाम का एक आतंकी हथियार और विस्फोटक लेकर आ चुका है औऱ परेड स्थल के आसपास के वीआईपी इलाके में विस्फोट को अंजाम दे सकता है इस आंतकी का कोडवर्ड है डाक्टर मेडिसन लेकर आय़ेगा.

सूत्रों ने बताया कि सुरक्षा एजेंसियों को ये भी बताया गया है कि आतंकी किसी वीआईपी या सुरक्षा से जुडे किसी अधिकारी की गाड़ी या फर्जी पहचान पत्र प्रयोग कर सकते हैं. लिहाजा हर पहचान पत्र पर एक खास तरह के निशान लगाए जा रहे हैं गणतंत्र दिवस वाले दिन लगभग बीस हजार सुऱक्षाकर्मियो की तैनाती की जा रही है जिसमें आठ हजार कर्मी दिल्ली पुलिस से है. इसके अलावा परेड स्थल पर लगभग डेढ दर्जन डीसीपी.. 30 से ज्यादा एसीपी और दो सौ से ज्यादा महिला पुलिस कर्मी तैनात की जा रही है. मौके पर कोई भी फौरन फैसला लेने के लिए एक ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप बनाया गया है जिसमें पुलिस खुफिया विभाग गृह मंत्रालय औऱ सेना के अधिकारी शामिल है.

खुफिया सूत्रों के मुताबिक फ्रेच प्रेजीडेंट की सुरक्षा को खतरा देखते हुए हर उस गतिविधि पर अकुंश लगाया जा रहा है जिसके जरिए छोटी सी चिंगारी भी बडा रुख अख्तियार कर सकती है यही कारण है पिछले एक सप्ताह के दौरान आईबी की रिपोर्टो के आधार पर कर्नाटक मुबई दिल्ली यूपी औऱ कई दूसरी जगहों पर आईएस से संबंध रखने वाले लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है. साथ ही रिमोट कंट्रोल के जरिए उडने वाले उपकरणों पर भी विशेष निगाह रखी जायेगी.

सूत्रों ने बताया कि इस बार की सुरक्षा में कई औऱ अभूतपूर्व इंतजाम किए जा रहे है क्योंकि फ्रेंच प्रेजीडे़ट और प्रधानमंत्री मोदी दोनों ही आतंकियों की हिट लिस्ट में है औऱ आतंकियों की सोच है कि एक छोटी घटना भी उन्हें बडी पब्लिसिटी दिला सकती है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ISIS use manav bomb to kill pm modi?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: PM Narendra Modi
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017