देसी जीपीएस की ओर बढ़ते कदम: इसरो ने सफलतापूर्वक लांच किया आईआरएनएसएस-1 (सी)

By: | Last Updated: Thursday, 16 October 2014 4:45 AM
isro successfully launches irnss 1 c

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. राधाकृष्णन

श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश): भारत ने आज सफलतापूर्वक इसरो के पीएसएलवी सी-26 के जरिए आईआरएनएसएस उपग्रह को लांच कर दिया. उपग्रह को यहां तड़के एक बजकर 32 मिनट पर लांच किया गया और इस सफलता से माना जा रहा है कि भारत अमेरिका के ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम की बराबरी पर आकर देश का खुद का नेवीगेशन सिस्टम स्थापित करने की दिशा में और एक कदम आगे बढ़ गया है.

 

आईआरएनएसएस 1 सी इसरो द्वारा लांच किए जाने वाले सात उपग्रहों की श्रृंखला में तीसरा उपग्रह है. यहां ठीक एक बजकर 32 मिनट पर फर्स्ट लांच पैड से राकेट ने उपर की ओर उठना शुरू किया और रात के अंधेरे में उससे निकलने वाली लपटें किसी सुनहरी तरंगों जैसी लग रही थी और देखने वालों के लिए यह एक अद्भुत नजारा था. लांच के 20 मिनट बाद लांच यान ने सफलतापूर्वक 1425.4 किलोग्राम वजनी उपग्रह को लक्षित कक्षा में स्थापित कर दिया.

 

इसरो ने इस उपग्रह को 17.86 डिग्री के झुकाव के साथ पृथ्वी से सबसे नजदीक की दूरी 284 किलोमीटर और पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूरी 20,650 किलोमीटर पर सब जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट (सब जीटीओ) में स्थापित करने का लक्ष्य रखा था. इसरो के अध्यक्ष के राधाकृष्णन ने लांच के बाद कहा, ‘‘भारत ने सफलतापूर्वक आईआरएनएसएस-1 (सी) को लांच कर दिया है. इसरो की पूरी टीम इसके लिए बधाई की पात्र है.’’ उन्होंने इसके साथ ही उपग्रह के सफल लांच के लिए योगदान देने वाले पूरे दल को भी बधाई दी.

 

यह सातवां मौका है जब इसरो ने अपने अभियानों के लिए पीएसएलवी के एक्सएल एडीशन का इस्तेमाल किया है. 1425.4 किलोग्राम वजनी इस उपग्रह का जीवनकाल दस साल है. आईआरएनएसएस-1 (सी) के साथ पीएसएलवी-26 को वास्तव में दस अक्तूबर को लांच किया जाना था लेकिन कुछ तकनीकी कारणों से इसके लांच को स्थगित कर दिया गया. पूरी तरह से विकसित आईआरएनएसएस सिस्टम में पृथ्वी से 36 हजार किलोमीटर की उंचाई पर जीईओ स्थतिक कक्षा में तीन उपग्रह होंगे और चार उपग्रह भूस्थतिक कक्षा में होंगे.

 

नेवीगेशनल सिस्टम से दो प्रकार की सेवाएं प्राप्त होंगी…एक होगी स्टैंडर्ड पोजिशनिंग सर्विस जो सभी यूजर्स को उपलब्ध करायी जाती है और दूसरी होगी…रिसट्रिक्टिड सर्विस जो केवल अधिकृत यूजर्स को ही प्रदान की जाती है. आईआरएनएसएस सिस्टम में अंतत: सात उपग्रह शामिल होंगे और इसे 1420 करोड़ रूपये की लागत से साल 2015 तक पूरा किए जाने का लक्ष्य रखा गया है.

 

इस श्रंखला के पहले दो उपग्रहों, आईआरएनएसएस-1 (ए) और 1 (बी) को क्रमश: पिछले साल जुलाई और इस साल अप्रैल में प्रक्षेपित किया गया था. चूंकि इन्हें भारत द्वारा विकसित किया जा रहा है इसलिए आईआरएनएसएस को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि ये देश और इसकी सीमा से 1500 किलोमीटर के क्षेत्रीय दायरे में यूजर्स को सटीक स्थतिक सूचना सेवा मुहैया कराएंगे.

 

आईआरएनएसएस की विशेषताओं में क्षेत्रीय और जहाजरानी नौवहन, आपदा प्रबंधन, वाहनों का पता लगाना, बेड़ा प्रबंधन, पर्वतारोहियों और यात्रियों को यात्रा मार्ग में मदद करना और चालकों को नौवहन में मदद करना है. भारत अपना नेवीगेशन सिस्टम विकसित कर रहा है और कुछ चुनिंदा देशों के समूह भी अपने खुद के नेवीगेशन सिस्टम को विकसित कर चुके हैं जिनमें रूस का ग्लेबल आर्बटिंग नेवीगेशन सेटेलाइट सिस्टम, अमेरिका का ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम, यूरोपीय संघ का गैलेलियो, चीन का बीदयू सेटेलाइट नेवीगेशन सिस्टम और क्वासी जेनिथ सेटेलाइट सिस्टम शामिल है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: isro successfully launches irnss 1 c
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: gps irnss 1 c isro launch
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!
एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!

रायपुर: एबीपी न्यूज की खबर का असर हुआ है. छत्तीसगढ़ में गोशाला चलाने वाले बीजेपी नेता हरीश...

जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच
जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच

नई दिल्लीः आजकल सोशल मीडिया पर एक टीचर की वायरल तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि वो अपनी...

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे बातचीत
डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे...

नई दिल्ली: बॉर्डर पर चीन से तनातनी और नेपाल में आई बाढ़ को लेकर शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने...

15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी सरकार ने मंगवाए वीडियो
15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी...

लखनऊ: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने राज्य के सभी मदरसों में राष्ट्रगान गाए जाने का...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017