'कभी चर्चा में थी ललित-वसुंधरा की दोस्ती'

By: | Last Updated: Friday, 19 June 2015 5:30 PM

जयपुर: आईपीएल के पूर्व प्रमुख ललित मोदी और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की दोस्ती भले ही आज कमजोर पड़ गई हो, लेकिन एक वक्त था जब राजस्थान में दोनों की नजदीकियां चर्चा में थी.

 

ललित मोदी ने टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में राजे के साथ अपनी दोस्ती स्वीकार की थी. उन्होंने इंडिया टूडे से इस सप्ताह कहा, “मेरी दोस्ती वसुंधरा राजे से 30 साल पुरानी है. वह मेरे परिवार और मेरी पत्नी की करीबी मित्र हैं.”

 

वहीं राजे ने बयान जारी कर स्वीकारा था कि वह आईपीएल के पूर्व प्रमुख के परिवार को जानती हैं, जिन पर वित्तीय अनियमितता और धन की हेराफेरी के आरोप हैं.

 

राजस्थान के लोगों ने मोदी को तब जाना जब वह 2005 में राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन (आरसीए) के अध्यक्ष बने, जब राजे नीत बीजेपी सरकार राज्य में सत्ता में थी. इसके बाद मोदी ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा, और वह आईपीएल के पहले प्रमुख बने.

 

राजे के 2003 में मुख्यमंत्री बनने के बाद वह 2008 तक पर पर बनी रहीं, मोदी पर समानांतर सरकार चलाने का आरोप लगा. वह एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जाने जाते थे, जो पांच सितारा होटल के सुइट में ही ठहरते थे. कांग्रेस नेताओं ने उन पर सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप करने का भी आरोप लगाया था.

 

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 2010 में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था, “उस वक्त अधिकारी उनके सुइट में फाइल लेकर मिलने जाते थे, लेकिन राजे को इसकी जानकारी होने के बावजूद वह नहीं रोकती थीं.”

 

गहलोत ने हाल ही में बयान जारी कर कहा, “मैं 2003-04 से ही राजे और ललित के भ्रष्टाचार से जुड़े संबंध को उठाता रहा हूं.”

 

दोनों के संबंध इतने नजदीकी थे कि मोदी के अनुसार राजे उनकी पत्नी को कैंसर का उपचार कराने के लिए 2012 और 2013 में पुर्तगाल ले गई थीं. उन्होंने जयपुर में आधुनिक कैंसर संस्थान स्थापित करने के लिए उसी अस्पताल के साथ समझौता भी किया था, जहां ललित की पत्नी का इलाज चल रहा था.

 

राजस्थान सरकार की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, राजे नीत बीजेपी सरकार ने दो अक्टूबर, 2014 को फिर पुर्तगाल के चैम्पालिमौद फाउंडेशन के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया. समझौते पर हस्ताक्षर राजे की मौजूदगी में किया गया, जहां उन्होंने कहा कि कैंसर मरीजों को ज्यादा बेहतर उपचार उपलब्ध होगा और केंद्र उन लोगों के लिए वरदान साबित होगा, जो कैंसर उपचार का महंगा खर्च वहन नहीं कर सकते.

 

हालांकि, दोनों के बीच का संबंध समय के साथ कड़वा होता गया. इसके पीछे कोई एक निश्चित वजह तो नहीं, लेकिन एक वजह 2013 विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारा भी माना जाता है.

 

राजे के समर्थन में आई राजस्थान बीजेपी

 

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की राजस्थान इकाई शुक्रवार को राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके बेटे दुष्यंत सिंह के समर्थन में खुलकर सामने आई. बीजेपी की राज्य इकाई के प्रमुख अशोक परनामी ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि विपक्ष, मुख्य रूप से कांग्रेस झूठा प्रचार कर रही है.

 

उन्होंने कहा, “ये बातें बिहार चुनाव के पहले क्यों उठाई जा रही हैं? वे अनावश्यक रूप से राजे और दुष्यंत की छवि को धूमिल करने का प्रयास कर रहे हैं.”

 

परनामी ने कहा कि कानूनी रूप से किए गए व्यापारिक लेनदेन के संबंध में भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं. उन्होंने कहा कि दुष्यंत की कंपनी ने कुछ भी गलत काम नहीं किया है.  दुष्यंत राजस्थान के झालवाड़-बारां निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा सांसद हैं.

 

दुष्यंत सिंह का बचाव करते हुए परनामी ने कहा, “सभी लेनदेन कानून के मुताबिक किए गए हैं और कंपनी नियमित रूप से आयकर रिटर्न जमा करती है.” उन्होंने कहा, “दुष्यंत और ललित मोदी के बीच में यह पूर्ण रूप से व्यापारिक सौदा था.”

 

उन्होंने कहा, “इसके अतिरिक्त सभी साझा लेनदेन का विवरण कंपनी की बैलेंस सीट में दर्ज है.” उन्होंने अपने बयान के समर्थन में कंपनी की बैलेंस सीट, ऑडिट रिपोर्ट और कुछ अन्य दस्तावेज पेश किए.

 

परनामी ने कहा, “अगर कुछ गलत हुआ है, तो कांग्रेस ने उस दौरान जांच शुरू क्यों नहीं की जिस दौरान वह केंद्र और राज्य दोनों जगह सत्ता में थी.” परनामी ने कहा, “इससे स्पष्ट होता है कि कांग्रेस के आरोप निराधार हैं और वह ओछी राजनीति कर रही हैं.”

 

राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री राजेंद्र राठौर भी इस दौरान संवाददाता सम्मेलन में मौजूद रहे. उन्होंने कहा कि पार्टी के सभी विधायक और कुछ निर्दलीय विधायक पूरी तरह से राजे के समर्थन में हैं.

 

राठौर ने कहा, “हम सभी (विधायक दल), केंद्रीय नेतृत्व और कुछ निर्दलीय विधायक उनके साथ हैं.” राठौर ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके बेटे वैभव गहलोत पर भी हमला बोला.

 

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, “यह किसी से छिपा नहीं है कि वैभव एक होटल मामले में भ्रष्टाचार में लिप्त थे. मुख्यमंत्री रहते हुए अशोक गहलोत ने उन्हें मदद पहुंचाने की कोशिश की थी.”

 

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ललित मोदी के जनसंपर्क दल द्वारा जारी किए गए दस्तावेजों के कारण विवादों में हैं. ललित मोदी को यात्रा दस्तावेज मुहैया कराने के मामले में 2011 में उन्होंने गवाही दी थी और ललित मोदी ने उनके बेटे दुष्यंत की कंपनी में निवेश किया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Jaipur_Rajasthan_BJP
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: BJP CM jaipur Rajasthan vasundhra raje
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017