पीएम से मिलकर जम्मू-कश्मीर के मंत्रियों ने राज्य में आई बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की

By: | Last Updated: Saturday, 13 September 2014 1:07 PM
Jammu and Kashmir ministers meet PM Narendra Modi

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर में राहत और बचाव का काम लगातार जारी है. इस बीच सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि जल प्रलय से जम्मू-कश्मीर में पचास पुल, 170 किलोमीटर सड़क के साथ 300 घर बर्बाद हो गए . बाढ़ में मारे गए 34 लोगों के शव बरामद हो चुके हैं.

 

घाटी में बाढ़ से प्रभावित करीब 20 लाख लोगों में से डेढ़ लाख लोगों को निकाल लिया गया है. अलग-अलग रिलीफ कैंपों में करीब एक लाख सड़सढ़ हजार लोग रह रहे हैं. घाटी में कई जगहों पर पानी और बिजली सेवा बहाल हो चुकी है. सूत्रों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के बैंकों में जमा पैसे और दूसरी चीजें पूरी तरह से सुरक्षित हैं .

 

जम्मू कश्मीर के 7 मंत्री दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले और राज्य में बाढ़ से हुई तबाही की जानकारी दी . जम्मू-कश्मीर ने मंत्रियों ने राज्य में बाढ़ से हुई तबाही को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग करते हुए केंद्र सरकार से लोगों को फिर से बसाने के काम में मदद मांगी.

 

सेना ने कश्मीर में फंसी पाकिस्तानी सांसद आयशा जावेद और उनके साथियों को बचाया. पाक सांसद ने किया भारतीय फौजियों को सलामजम्मू कश्मीर में आई बाढ़ में नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल(एन) की सांसद आयशा जावेद भी फंस गई थीं. आयशा जावेद और दूसरे पाकिस्तानी पर्यटकों को सेना ने रेस्क्यू किया.

 

 

जम्मू कश्मीर अभी बाढ़ की विपदा की चपेट में है. पानी कम हुआ है लेकिन मुश्किलें खत्म नहीं हुई हैं. खत्म नहीं हुआ है लोगों को राहत पहुंचाने का काम.

 

फ्री पीसीओ की सुविधा

 

बीएसएनएल श्रीनगर एयरपोर्ट पर 6 फ्री पीसीओ भी चला रहा है. राहत शिविरों में भी फ्री पीसीओ की सुविधा दी जा रही है. बीएसएनएल श्रीनगर इलाके में फ्री में फोन करने की सुविधा दे रहा है. ये सुविधा अगले 10 दिन तक जारी रहेगी. बीएसएनएल के 54 टावर काम करने लगे हैं.

 

निजी मोबाइल कंपनियां भी बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए आगे आईं हैं. एयरटेल 50 मिनट तो वोडाफोन 25 रुपये का फ्री टॉकटाइम दे रहा है. जम्मू कश्मीर के ओमपुरा, नया रेलवे स्टेशन, हाजम मोहल्ला, ईदगाह, RTC कैंप, बाराजुल्ला, नूरानी कॉलोनी, पीरबाग, पुराना एयरपोर्ट, बडगाम रेलवे स्टेशन पर मोबाइल सेवा दुरुस्त हो गई है.

 

एयरपोर्ट और गुरुद्वारों पर बने राहत शिविरों में भी मोबाइल सेवाएं काम करने लगी हैं. करीब 9 एसटीडी बूथ भी बनाए गए हैं. राज्य में एयरसेल का नेटवर्क करीब पूरी तरह ठीक हो गया है. एयरसेल को 2जी सेवाएं शुरू करने के लिए जैनरेटर की जरूरत है. वायुसेना जैनरेटर पहुंचाने का काम करने वाली है.

 

भारी बाढ़ से जम्मू कश्मीर में बिजली सप्लाई पर भी असर पड़ा है. तीन ट्रांसमिशन लाइन टूट चुकी हैं. दो लाइन के आज ठीक होने की उम्मीद है.

 

पेट्रोल-डीजल की जरूरतों को पूरा करने के लिए अंबाला से 22 हजार लीटर तेल भेजा गया है. श्रीनगर एयरपोर्ट पर विमान ईंधन और डीजल की कमी नहीं है लेकिन एलपीजी गैस की कमी है. लेह से एलपीजी सप्लाई की जा रही है.

 

सरकार ने दिया 200 करोड़ की मदद-

जम्मू-कश्मीर सरकार ने बाढ़ पीड़ितों के लिए 200 करोड़ की मदद का एलान किया है. राज्य सरकार मृतकों के परिजनों को साढ़े तीन लाख और मकान गवांने वालों को पचहत्तर हजार रुपए की सहायता देगी. जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री के मुताबिक बाढ़ में मरने वालों की तादाद का सही आंकड़ा नहीं मिल पा रहा है.

 

भारतीय सेना जम्मू कश्मीर में बाढ़ में फंसे लोगों को हेलिकॉप्टर की मदद से बचाने के साथ साथ खाने पीने का इंतजाम भी कर रही है. भारतीय सेना की उत्तरी कमान ने जम्मू के ऊधमपुर में अपनी एक यूनिट को बाढ़ में फंसे लोगो के खाना बनाने के काम में लगाया है.

 

भारतीय सेना की यूनिट रोज़ाना करीब 5000 लोगों के लिए खाना बना रही है. सेना का बनाया ये खाना पूरी तरह से सुरक्षित है. ये खाना करीब एक हफ्ते तक खराब नहीं होता है. सेना इस खाने को पैकेट में डाल कर उधमपुर से हेलिकॉप्टर के जरिए श्रीनगर के बाढ़ प्रभावित इलाकों में भेज रही है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Jammu and Kashmir ministers meet PM Narendra Modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017