जम्मू-कश्मीर और झारखंड के चुनाव नतीजों के क्या हैं मायने?

By: | Last Updated: Tuesday, 23 December 2014 1:29 AM

नई दिल्ली: आज के नतीजे तय करेंगे कि दिल्ली विधासभा के चुनाव फरवरी में होंगे या मोदी सरकार राष्ट्रपति शासन की मियाद बढ़ाने की सोचेगी. नतीजों से साफ होगा कि मोदी का जादू बरकरार है या फीका पड़ रहा है. सबसे बड़ी बात है कि यह नतीजे आर्थिक सुधारों को लेकर मोदी सरकार की आगे की दशा दिशा भी तय करेंगे.

 

तमाम एग्जिट पोल बता रहे हैं कि झारखंड में बीजेपी गठबंधन भारी बहुमत से सरकार बनाने जा रही है, वहीं जम्मू-कश्मीर में बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी बन सकती है.

 

मोदी लहर बरकरार है?

 

झारखंड और जम्मू-कश्मीर के नतीजे सामने आने में अब बस कुछ मिनट हैं. नतीजे अगर एग्जिट पोल की तर्ज पर आए तो, साफ हो जाएगा कि लोकसभा चुनाव के छह महीने बाद भी देश में मोदी की लहर बरकरार है.

 

जम्मू-कश्मीर में चला मोदी का जादू?

 

एग्जिट पोल जम्मू-कश्मीर में त्रिशंकु विधानसभा रहने की आशंका जता रहे हैं. बीजेपी मिशन-44 से दूर सही लेकिन बड़ी बढ़त के साथ दूसरे नंबर की पार्टी बनती दिख रही है.

 

यानी नतीजे… एग्जिट पोल के मुताबिक रहे, तो बीजेपी इस बार जम्मू-कश्मीर में किंगमेकर की भूमिका में दिखेगी. वहीं साल 2002 से अबतक किंगमेकर की भूमिका निभा रही कांग्रेस हाशिये पर नजर आएगी.

 

कश्मीर घाटी में बीजेपी का खाता खुलेगा?

 

इस चुनाव में बीजेपी ने कश्मीर घाटी में भी पूरा दम लगाया है. कार्यकर्ता घाटी में बीजेपी का खाता खुलने की उम्मीद भी कर रहे हैं.

 

ऐसा होना बीजेपी के लिए ये किसी जीत से कम नहीं है, क्योंकि धारा 370 का हवाला देकर घाटी में बीजेपी को कठघरे में खड़ा किया जाता है. ऐसे में नतीजे एग्जिट पोल की तर्ज पर आए अलगाववादियों तक जम्मू-कश्मीर की जनता का संदेश सख्ती से पहुंचा यानी अब बदलाव और विकास की बारी है.

 

झारखंड में बीजेपी को पूर्ण बहुमत!

 

साल 2000 में गठन के बाद से अबतक मिली-जुली सरकार के सहारे चल रहे झारखंड ने भी इस बार मोदी लहर में भरोसा जताया है.

एग्जिट पोल के मुताबिक झारखंड में बीजेपी पूर्ण बहुमत से सरकार बना रही है.

 

ऐसा तब है जब बीजेपी की ओर से सीएम उम्मीदवार का एलान नहीं किया गया था.

 

इशारा साफ है कि लोकसभा चुनाव की तर्ज पर मोदी लहर ने इस चुनाव में झारखंड में जाति समीकरण को तोड़ कर रख दिया है.

 

ऐसे में झारखण्ड को पहले गैर आदिवासी मुख्यमंत्री मिलने की उम्मीद भी बढ़ गई है.

 

बिहार के चुनाव पर दिखेगा असर?

 

वैसे झारखंड के एग्जिट पोल के मुताबिक अगर कांग्रेस, जेडीयू और आरजेडी का गठबंधन हाशिये पर गया तो इसका असर अगले साल होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव पर पड़ना तय है.

 

मुलायम, लालू, नीतीश एक मंच पर आएंगे?

 

जम्मू-कश्मीर और झारखंड के नतीजे एग्जिट पोल के मुताबिक रहे तो मुलायम सिंह की सरपरस्ती में लालू यादव और नीतीश कुमार मोदी को रोकने के लिए एक छत के नीचे आने को मजबूर हो जाएंगे.

 

दिल्ली चुनाव पर फैसला होगा?

 

झारखंड और जम्मू-कश्मीर में मनमुताबिक नतीजे आए तो मोदी सरकार दिल्ली में जल्द से जल्द चुनाव करवाना चाहेगी.

 

इन हालत में फरवरी तक दिल्ली में चुनाव करवा सकती है मोदी सरकार.

 

आम आदमी पार्टी की किस्मत का फैसला होगा?

 

जम्मू-कश्मीर और झारखंड में मोदी लहर पर मुहर के बाद दिल्ली में चुनाव पूर्व सर्वेक्षर्णों में पहले से ही पिछड़ रही अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी के सामने जीत की चुनौती भी बढ़ जाएगी.

 

आर्थिक सुधारों को लागू करने का मौका मिलेगा?

 

जम्मू-कश्मीर और झारखंड चुनाव के बाद लगभग एक साल तक किसी बड़े राज्य में चुनाव नहीं है. लिहाजा मोदी सरकार के सामने एक अच्छा मौका होगा आर्थिक सुधारों को लागू करने का.

 

अब तक सरकार कड़े फैसले लेने की बात तो करती रही है, लेकिन पहले महाराष्ट्र, हरियाणा और फिर झारखण्ड, जम्मू कश्मीर चुनावों के कारण हिचकती भी रही है. दोनों राज्यों में मनमुताबिक चुनावी नतीजों के बाद मोदी सरकार इस मोर्चे पर फैसला लेने के लिए आजाद होगी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Jammu-Kashmir and Jharkhand result impact
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017