चांदी के 108 कलश से होगा कान्हा का अभिषेक

By: | Last Updated: Monday, 18 August 2014 12:53 PM
janmashtmi_shri krishna_bihar

पटना: बिहार के कई मंदिरों और घरों में रविवार को श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया. इस मौके पर मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रही. कृष्ण जन्मोत्सव का आयोजन रविवार के साथ सोमवार को भी होगा. यहां के इस्कॉन मंदिर में सोमवार को लड्डू गोपाल को चांदी के 108 कलश से अभिषेक करने की तैयारी है.

जन्माष्टमी को लेकर बाजारों से लेकर मंदिरों तक में तैयारी पूरी कर ली गई है. कृष्णाष्टमी को लेकर बाजारों में रौनक है तो नन्हे गोपाल के लिए श्रद्घालु जम कर खरीददारी कर रहे हैं. बाजार कान्हा को झुलाने के लिए विभिन्न तरह के पालनों से भर गए हैं.

पटना स्थित अंतर्राष्ट्रीय श्रीकृष्णभावनामृत संघ (इस्कॉन) मंदिर में इस वर्ष कृष्णाष्टमी को लेकर खास तैयारी की जा रही है. गोपाल के जन्म के साथ महाप्रसादम का आयोजन किया जाएगा. इस्कॉन के प्रवक्ता नंदगोपाल दास ने आईएएनएस को बताया कि कार्यक्रम का प्रारंभ सोमवार को रात में साढ़े नौ बजे से हो जाएगा.

उन्होंने बताया कि लॉली दीक्षित और हर्षिता पाठक द्वारा कृष्ण का अवतरित होना नाटक के माध्यम से दिखाया जाएगा. जन्म को लेकर कई अलौकिक चित्र दिखाए जाएंगे. चांदी के 108 कलश से महाभिषेक और एक हजार नदियों के सहस्त्र जल से भगवान को अभिषेक कराया जाएगा.

पटना के आर्य कुमार रोड स्थित महाराणा प्रताप भवन में भी पूजा की भव्य तैयारी की गई है. इन स्थानों पर श्रद्घालु भक्तों द्वारा भजन-कीर्तन और कई उत्कृष्ट आध्यात्मिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे.

पटना के रामजानकी चौराहा स्थित राधा-कृष्ण और जगन्नाथ मंदिर में भी जन्मोत्सव की पूरी तैयारी कर ली गई है. मंदिरों को आकर्षक ढंग से सजाया गया है तथा झांकियों की तैयारी भी कर ली गई है.

इधर मंदिरों के साथ-साथ बाजारों में भी कृष्णाष्टमी को लेकर बिक्री तेज हुई है. बाजारों में कान्हा के छोटे-छोटे वस्त्र, झूले और गहने खास हैं. कान्हा के लिए सार्टन और वेल्बेट पर रंग-बिरंगे छोटे-छोटे कपड़े ग्राहकों को खासे लुभा रहे हैं. ये कपड़े बाजार में 20 रुपये से लेकर 100 रुपये तक में बिक रहे हैं.

नन्हे कान्हा को झूले पर झुलाने की चाहत में श्रद्घालु जमकर झूले की खरीददारी कर रहे हैं. बाजार में लकड़ी, पाइप और चांदी के झूले उपलब्ध हैं. चांदी के झूलों की मांग ऐसे तो कम है परंतु उजले मेटल के झूले पर पीतल के कान्हा को देखकर हर श्रद्घालु इसे खरीदने का मोह नहीं छोड़ पा रहा है.

कान्हा के गहने भी बाजारों में रौनक बढ़ाए हुए हैं. बाजार में कान्हा के हाथ-पैर के चूड़े से लेकर मुकुट तक सभी गहने एक सेट में उपलब्ध हैं. इस सेट में कान्हा के छोटे कपड़े भी हैं. कान में कुंडल, और बांसुरी के कई क्वालिटी भी लोगों को खासे पसंद आ रहे हैं. इसके अलावे गले के छोटे-छोटे नग के हार और चूड़े अलग से भी उपलब्ध हैं.

धर्माचार्यो के मुताबिक इस वर्ष जन्माष्टमी रविवार और सोमवार को भी होगा. ज्योतिषियों के मुताबिक इस वर्ष दो दिन कृष्ण जन्मोत्सव हो रहा है. हिन्दू धर्म में किसी भी तिथि की शुरुआत सूर्योदय माना जाता है. यह संयोग है कि रविवार और सोमवार को अष्टमी उदय तिथि में हैं.

इस दिन भक्त रात-दिन को उपवास रखकर भगवान श्रीकृष्ण, यशोदा, और वासुदेव की पूजा करते हैं. बिहार के कई स्थानों और मंदिरों में रविवार की रात भी कृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया. रविवार को दिन भर उपवास के साथ रात को भगवान भोग का आयोजन किया गया.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: janmashtmi_shri krishna_bihar
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017