Jat Aarakshan_NDA_UPA_Supreme Court_Banned

Jat Aarakshan_NDA_UPA_Supreme Court_Banned

By: | Updated: 17 Mar 2015 05:44 AM

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को पूर्ववर्ती यूपीए सरकार की उस अधिसूचना को निरस्त कर दिया, जिसमें नौ राज्यों में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के तहत जाटों को भी आरक्षण देने की घोषणा की गई थी. कोर्ट ने पिछड़ा वर्ग के लिए राष्ट्रीय आयोग (एनसीबीसी) की सिफारिशों को नजरंदाज कर दिया. इस फैसले का मोदी सरकार ने भी समर्थन किया और इस बात को दरकिनार किया कि पिछली सरकार द्वारा ऐसा चुनावी विवशतावश किया गया था.

 

जज रंजन गोगोई और जज रोहिंटन फली नरीमन की पीठ ने कहा, "हम इससे सहमत नहीं हो सकते कि राजनीतिक दृष्टि से संगठित जाट पिछड़ा वर्ग में आते हैं और इसलिए इसके तहत आरक्षण के हकदार हैं."

 

जज गोगोई ने आदेश पारित करते हुए कहा, "जाट जैसे राजनीतिक रूप से संगठित वर्ग को आरक्षण के हकदारों की श्रेणी में शामिल करने की पुष्टि नहीं की जा सकती."

 

कोर्ट ने कहा, "अतीत में अन्य पिछड़ा वर्ग सूची में किसी जाति को संभावित तौर पर गलत रूप से शामिल किया जाना दूसरी जातियों को गलत रूप से शामिल करने का आधार नहीं हो सकता. जाट जैसे राजनीतिक रूप से संगठित वर्ग को शामिल किए जाने से दूसरे पिछड़े वर्गों के कल्याण पर प्रतिकूल असर पड़ेगा."

 

कोर्ट ने कहा, "इन परिस्थितियों में चार मार्च, 2014 को जारी की गई अधिसूचना को न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता."

 

कोर्ट ने कहा, "उक्त अधिसूचना जिसमें बिहार, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली और राजस्थान के भरतपुर व धौलपुर जिले में जाटों को ओबीसी सूची में शामिल करने की घोषणा की गई है, को निरस्त किया जाता है."

 

उल्लेखनीय है कि यूपीए सरकार ने लोकसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता लागू होने से एक दिन पहले चार मार्च, 2014 को यह अधिसूचना जारी की थी, जिसके तहत नौ राज्यों में जाटों को भी ओबीसी के तहत आरक्षण देने का प्रावधान किया गया था. तत्कालीन यूपीए सकार ने इस मामले में राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग की अनुशंसा की अनदेखी करते हुए इसके उलट यह अधिसूचना जारी की थी.

 

कोर्ट का मंगलवार का आदेश जाटों को ओबीसी में शामिल करने के पूर्ववर्ती सरकार के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के बाद आया.

 

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि चार मार्च की अधिसूचना का उद्देश्य लोकसभा चुनाव में लाभ लेना और इस समुदाय का वोट हासिल करना था.

 

चुनाव बाद सत्ता में आने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने भी हालांकि कोर्ट में पूर्ववर्ती सरकार के फैसले का समर्थन किया और कहा कि यह चुनावी फायदे की सोच से नहीं, बल्कि सार्वजनिक हित को ध्यान में रखते हुए किया गया था.

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र की सरकार ने कोर्ट में दिए हलफनामे में कहा, "केंद्र सरकार ने जनहित में काम किया."

 

हलफनामे में अधिसूचना को चुनौती देने वाली ओबीसी आरक्षण रक्षा समिति और अन्य की याचिकाओं को खारिज करने का अनुरोध किया गया है. इसमें कहा गया है, "राष्ट्रीय पिछड़ा आयोग के परामर्श को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इसलिए खारिज कर दिया, क्योंकि इसने जमीनी हकीकत का ठीक से आकलन नहीं किया."

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पीएम मोदी आज करेंगे बीजेपी के नए हाईटेक हेडक्वार्टर का उद्घाटन, आधुनिक तकनीकों से है लैस