कोर्ट से सजा मिलने के बाद जयललिता ने की सीने में दर्द की शिकायत, अस्पताल में भर्ती

By: | Last Updated: Saturday, 27 September 2014 11:03 AM
Jayalalitha convicted in disproportionate assets case

नई दिल्ली : तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता के लिए बुरी खबर है. जयललिता को चार साल की सजा हुई है. आय ज्यादा संपत्ति के केस में उन्हें दोषी ठहराया जा चुका है . अब 10 साल तक वह चुनाव नहीं लड़ सकती हैं. अब जयललिता को जेल जाना पड़ेगा.

 

कोर्ट से सजा मिलने के बाद जयललिता ने सीने में दर्द की शिकायत की. जिसके बाद उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया. आय से अधिक संपत्ति मामले में तमिलनाडु की सीएम जयललिता को 4 साल की सजा. बैंगलोर की विशेष कोर्ट ने सजा सुनाई.

 

जयललिता पर 1991 से 1996 के दौरान सीएम रहते हुए 66 करोड़ की ऐसी संपत्ति अर्जित करने का आरोप है जिसके स्रोत की जानकारी नहीं मिली.

 

अब जयललिता को सीएम की कुर्सी छोड़नी पड़ेगी साथ ही उनके चुनाव लड़ने पर रोक लग जाएगा. कोर्ट जयललिता को एक से सात साल तक के लिए जेल की भी सजा सुना सकती है.

 

विशेष न्यायाधीश जॉन माइकल कुन्हा ने शहर के दक्षिणी उपनगर के पारापन्ना अग्रहारा में स्थित केंद्रीय कारागार में स्थापित एक विशेष अदालत में कड़ी सुरक्षा के बीच अपना फैसला सुनाया.

 

आय से अधिक संपत्ति मामले में तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता दोषी करार, छोड़नी होगी CM की कुर्सी 

कोर्ट के बाहर बड़ी संख्या में जयललिता के समर्थक भी मौजूद हैं. कोर्ट का फैसला आने के बाद एआईएडीएमके समर्थक निराश हैं. जयललिता के समर्थकों ने बेंगलुरु और चेन्नई में विरोध शुरू कर दिया है.

 

जयललिता को दोषी करार दिए जाने के बाद चेन्नई में डीएमके के कार्यकर्ता जश्न मना रहे हैं. DMK और AIADMK के समर्थकों के बीच डीएमके प्रमुख करुणानिधि के घर के बाहर झड़प हो गई है.

 

एनसीपी नेता तारिक अनवर ने कहा है कि कोर्ट ने यह सिद्ध कर दिया है कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है. सीपीआई नेता डी आराज ने कहा है कि यह बहुत ही महत्वपुर्ण निर्णय है. इससे तमिलनाडु की राजनीति पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा.

 

इस मामले में 18 साल की लंबी कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद आज विशेष अदालत जयललिता और उनके तीन सहयोगियों के खिलाफ फैसला सुनाया है.

 

क्या हैं आरोप?

जयललिता पर 1991-96 में पहली बार मुख्यमंत्री बनने के बाद से आय के अज्ञात स्रोतों से 66 करोड़ रुपए अधिक संपत्ति इकट्ठा करने का आरोप है. 1996 में जयललिता के घर में छापे में 896 किलो चांदी, 28 किलो सोना मिला था.

 

मामले में कई राजनीतिक और कानूनी उतार-चढ़ाव देखने को मिले. उनकी निकट सहयोगी शशिकला नटराजन, उनकी रिश्तेदार इलावरासी, उनके भतीजे और जयललिता द्वारा बेदखल किए जा चुके उनके गोद लिए गए बेटे सुधाकरन समेत अन्य को मामले में आरोपी बनाया गया है.

 

बेंगलूर शहर की पुलिस ने सुरक्षात्मक उपायों के तहत अदालत के फैसले से पहले आपराधिक दंड संहिता की धारा 144 के अंतर्गत निषेधाज्ञा के आदेश लागू कर दिया था.

 

तमिलनाडु सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक विभाग ने इसे चेन्नई की विशेष अदालत में 1996 में केस दायर किया था. इस मामले को वर्ष 2003 में उच्चतम न्यायालय ने उस समय बेंगलूर की विशेष अदालत में स्थानांतरित कर दिया था, जब द्रमुक के नेता के. अन्बझगन ने याचिका दायर करके तमिलनाडु में निष्पक्ष सुनवाई पर संदेह जाहिर किया था. उस समय राज्य में जयललिता की सरकार थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Jayalalitha convicted in disproportionate assets case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: CBI jayalalitha
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017