दोषसिद्धी के खिलाफ जयललिता पहुंचीं हाईकोर्ट, मांगी जमानत

By: | Last Updated: Monday, 29 September 2014 8:25 AM

नई दिल्ली: जेल में बंद अन्नाद्रमुक प्रमुख जयललिता ने आज कर्नाटक हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर अपनी दोषसिद्धी को चुनौती दी और अपने खिलाफ आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति के मामले में जमानत मांगी.

 

दो दिन पहले ही 66 वर्षीय जयललिता को विशेष अदालत ने इस मामले में दोषी ठहराते हुए चार साल कैद की सजा सुनाई जिसके फलस्वरूप जयललिता को विधानसभा की सदस्यता और मुख्यमंत्री पद गंवाना पड़ा.

 

जयललिता की करीबी सहायक शशिकला, उनके संबंधी वी एन सुधाकरन और इलावरासी ने भी हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर इस मामले में अपनी दोषसिद्धी को चुनौती देते हुए जमानत मांगी.

 

शनिवार को विशेष न्यायाधीश जॉन माइकल डी’कुन्हा ने इन तीनों को भी चार चार साल कैद की और दस-दस करोड़ रूपये के जुर्माने की सजा सुनाई.

 

विशेष न्यायाधीश ने 66.65 करोड़ रूपये के भ्रष्टाचार के 18 साल पुराने मामले में जयललिता को 100 करोड़ रूपये के जुर्माने की भी सजा सुनाई है.

 

इस ऐतिहासिक फैसले में भ्रष्टाचार के मामले में पहली बार किसी मुख्यमंत्री को दोषी ठहराया गया है. जयललिता सहित चारों आरोपियों को आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति रखने का दोषी ठहराया गया. इन लोगों को भ्रष्टाचार निरोधक कानून और भारतीय दंड संहिता के तहत आपराधिक षड्यंत्र का दोषी ठहराया गया. उच्च न्यायालय में 29 सितंबर से 6 अक्तूबर तक दशहरा अवकाश रहेगा और अवकाश पीठ की कल निर्धारित सुनवाई के दौरान इस याचिका को लिया जा सकता है.

 

चूंकि जयललिता की सजा तीन साल से अधिक की है इसलिए उनके मामले में उच्च न्यायालय से ही जमानत मिल सकती है.

 

जयललिता की दोषसिद्धी पर रोक से विधायक के तौर पर उनको अयोग्य ठहराया जाना निरस्त हो जाएगा. जब तक उच्च अदालत जयललिता की दोषसिद्धी के फैसले को पलट नहीं देती तब तक उन पर 10 साल तक चुनाव लड़ने पर रोक का खतरा बना रहेगा. दस साल की इस अवधि में कैद की सजा वाले चार साल और रिहाई के बाद के छह साल शामिल होंगे.

 

फिलहाल जयललिता और अन्य तीनों दोषी बेंगलूर की परप्पना अग्रहारा केंद्रीय जेल में बंद हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: jayalalithaa_appeals_in_highcourt
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017