कन्हैया की पेशी से पहले कोर्ट में पत्रकारों से वकीलों ने की बदसलूकी

By: | Last Updated: Monday, 15 February 2016 7:04 PM
JNU students and teachers, attacked in court

नई दिल्ली: जेएनयू कांड को लेकर दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बीएस बस्सी ने बड़ा दावा किया है. बस्सी ने कहा है कि जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने देश विरोधी नारे लगए हैं. पुलिस कमिश्नर ने कहा कि 9 फरवरी के कार्यक्रम में कन्हैया मौजूद थे और उन्होंने भाषण भी दिया था, देश विरोध नारे भी लगा थे.

पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी ने कहा कि उन्होंने कन्हैया कुमार से पूछताछ की है और उन्हें जो जानकारी चाहिए थी, वो ले ली है.

आपको बता दें कि कन्हैया की तीन दिन की पुलिस हिरासत आज खत्म हो रही है. कन्हैया को आज पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा. साथ ही कन्हैया कुमार की रिहाई को लेकर आज जेएनयू में हड़ताल है और इसका खासा असर देखा जा रहा है. जेएनयू में पढ़ाई-लिखाई पूरी तरह से  ठप है.

कोर्ट में पेशी से पहले वकीलों की पत्रकारों के साथ बदसलूकी

पटियाला हाउस कोर्ट में थोड़ी देर में कन्हैया कुमार की पेशी होगी, इस दौरान कोर्ट में वकीलों और जेएनयू के छात्रों-शिक्षकों की भिड़ंत हुई है. वकीलों ने शिक्षकों और छात्रों को कोर्ट रुम से बाहर निकाल दिया है. इस दौरान वकीलों ने एबीपी न्यूज़ संवाददाता अंकित गुप्ता के साथ भी बदसलूकी की.

court peshi2

अंकित गुप्ता ने बताया कि कोर्ट रूम में वकील मीडिया वालों का विरोध कर रहे थे. वकील मीडिया पर आरोप लगा रहे थे कि जेएनयू मामले में मीडिया आरोपी छात्रों के पक्ष में खबरें चला रहा है. इसी बात का विरोध करते हुए वकील मीडिया वालों को कोर्ट बाहर निकालने लगे. वकीलों एक महिला पत्रकारों के साथ भी बदसलूकी की.

जब मीडियाकर्मियों ने इसका विरोध किया तो पत्रकारों ने मारपीट की. इस पूरी गटना से पहले वकीलों ने कोर्ट परिसर में भारत माता की जय के नारे भी लगाए.

गृह मंत्री के साथ डोभाल की बैठक

दूसरी ओर इस विवाद पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के अलावा खुफिया विभाग के बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की है.

कन्हैया को दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया था. दिल्ली पुलिस ने बीजेपी सांसद महेश गिरी और एबीवीपी की शिकायत पर गुरुवार को अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी के तहत देशद्रोह और आपराधिक साजिश का मुकदमा दर्ज किया था.

JNU में आज हड़ताल
JNU छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की रिहाई की मांग को लेकर छात्र आज यूनिवर्सिटी कैम्पस में हड़ताल पर हैं. हड़ताल की वजह से आज पढ़ाई लिखाई ठप है.

इस हड़ताल का एलान वामपंथी संगठनों की तरफ से चलाए जा रहे जेएनयू बचाओ अभियान की तरफ से किया गया है जिसमें छात्र और शिक्षक दोनों शामिल हैं.

कन्हैया के समर्थन में 40 केंद्रीय विश्वविद्यालय के शिक्षक और छात्र, पुणे के एफटीआईआई और हैदराबाद विश्वविद्यालय के शिक्षक भी शामिल हैं.

जेएनयू कुलपति का बयान

जेएनयू के कुलपति जगदीश कुमार ने कहा कि हर मुद्दे का हल बातचीत से हो सकता है और इसे लेकर हड़ताल की जरूरत नहीं है. जेएनयू के वीसी ने कहा कि हम आजाद माहौल में शांतिपूर्वक तरीके से अभिव्यक्ति की आजादी के पैरोकार हैं.

राहुल माफी मांगे

जेएनयू कांड को लेकर अब अमित शाह ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोला है. अमित शाह ने फेसबुक पर ब्लॉग लिखकर हमला किया है. अमित शाह ने कहा कि जेएनयू में भारत की बर्बादी के नारे लगाए गए, राहुल गांधी वैसे लोगों की वकालत कर रहे हैं. राहुल गांधी माफी मांगे. अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस इस समय अवसाद की स्थिति में है.

आपको बता दें कि शनिवार को राहुल गांधी जेएनयू कैंपस गए और कहा कि छात्रों की गिरफ्तारी दरअसल खुले आवाज़ को दबाने की कोशिश है.

राहुल के बोल

poster1

इस बीच दिल्ली में नए किस्म की पोस्टरबाज़ी देखने को मिल रही है. इस ‘पोस्टर वॉर’ को देखिए, लिखा है ‘हिन्दुस्तानी धरती पर पाकिस्तानी ढोल, राहुल क्यों बोल रहे हाफिज सईद के बोल’. इस पोस्टर को दिल्ली बीजेपी के उपाध्यक्ष कुलजीत सिंह चहल ने छपवाया है.

राजनाथ के बयान पर बवाल
रविवार को गृह मंत्री ने इलाहाबाद में कहा कि संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी के खिलाफ दिल्ली में जेएनयू परिसर में आयोजित कार्यक्रम को सईद का समर्थन मिला था.

Allahabad-Rajanath-Singh-580x395

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बयान को सही करार दिया है. गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा है कि गृह मंत्री का बयान विभिन्न एजेंसियों से प्राप्त सूचनाओं पर आधारित है. राजनाथ सिंह के इस बयान पर एक राजनीतिक बवंडर खड़ा हो गया और विपक्षी पार्टियों ने सिंह से सबूत पेश करने के लिए कहा.

क्या है JNU का ये पूरा विवाद?
9 फऱवरी को जेएनयू में वामपंथी और दलित संगठनों से जुड़े छात्रों ने संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु की बरसी मनाई. इसमें कश्मीर के छात्र भी शामिल थे. इसके लिए कैंपस में एक सांस्कृतिक संध्या का आय़ोजन भी किया गया था. इस दौरान देश विरोधी नारे भी लगाए गए. आरोप है कि विरोध करने पर इन लोगों ने ABVP के कार्यकर्ताओं की पिटाई भी की.

JNU-580x395

जेएनयू प्रशासन इस बात की जांच शुरू कर चुका है कि आखिर इजाजत नहीं मिलने के बाद भी कैंपस में अफजल गुरु की बरसी का कार्यक्रम कैसे आयोजित हुआ.

वैसे ये पहला मौका नहीं है जब देश की इस नामी यूनिवर्सिटी में इस तरह की देश विरोधी हरकत हुई है. अफजल गुरु की फांसी के वक्त भी यहां विरोध प्रदर्शन देखने को मिले थे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: JNU students and teachers, attacked in court
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: JNU controversy jnu students
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017