कन्हैया पर पलटे पुलिस कमिश्नर, उमर खालिद को दिल्ली हाईकोर्ट से झटका!

By: | Last Updated: Tuesday, 23 February 2016 5:03 PM
JNU row: Suspense over arrest of Umar Khalid

नई दिल्ली: जेएनयू से बड़ी खबर आई है. जेएनयू के गेट पर बीएसएफ और सीआरपीएफ को तैनात किया गया था. इसके बाद फिलहाल बीएसएफ के जवानों को हटा दिया गया है. ये व्यवस्था इसलिए की गई है क्योंकि देशद्रोह के आरोपी छात्र जेएनयू कैंपस में हैं. आरोपी उमर खालिद ने हाईकोर्ट में सरेंडर की इजाजत मांगी लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट से उमर खालिद को झटका लगा है. कोर्ट का कहना है कि पुलिस के सामने सरेंडर करे.

उन्हें सरेंडर करना है लेकिन उन्होंने ऐसा किया नहीं है. पुलिस को अंदर जाने की इजाजत नहीं है. इसलिए गेट पर भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई है. कन्हैया की जमानत पर पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी ने पलटी मारी है. पहले बस्सी ने कहा था कि जमानत का विरोध नहीं करेंगे लेकिन अब बस्सी ने कहा है कि अब जमानत दिए जाने का विरोध करेंगे.

देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार कन्हैया को लेकर दिल्ली पुलिस ने यू टर्न ले लिया है. पहले दिल्ली पुलिस ने कहा था कि वो कन्हैया की जमानत का विरोध नहीं करेगी लेकिन अब ये खबर आ रही है कि दिल्ली पुलिस जमानत का विरोध करेगी.

ये पहला मौका नहीं है जब जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया को लेकर दिल्ली के पुलिस कमिश्नर अपने बयान से पलटे हैं. इससे पहले 17 फरवरी की सुबह उन्होंने डंके की चोट पर कहा था कि कन्हैया के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं.

लेकिन 17 फरवरी को ही शाम होते होते कमिश्नर साहब का दिल ऐसा पसीजा था कि दिल्ली पुलिस ने पहले कन्हैया की शांति की अपील जारी की और फिर कमिश्नर साहब ने कहा था कि पुलिस जमानत का विरोध नहीं करेगी. कल हाईकोर्ट में कन्हैया की जमानत अर्जी पर सुनवाई होनी है. कोर्ट ने पुलिस से स्टेटस रिपोर्ट मांगी है और सुनवाई से पहले एक बार फिर कमिश्नर साहब अपने बयान से पलट गए हैं. सवाल ये है कि आखिर कन्हैया के केस में दिल्ली पुलिस का रवैया बार-बार बदल क्यों रहा है. क्या वाकई कन्हैया के खिलाफ दिल्ली पुलिस के पास पुख्ता सबूत हैं या फिर अति उत्साह में पुलिस ने कन्हैया को गिरफ्तार कर लिया था.

कन्हैया की जमानत अर्जी पर HC में आज सुनवाई टली
देशद्रोह के आरोपों का सामना कर रहे जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की जमानत याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में आज सुनवाई नहीं हुई. अब इस मामले में कल सुनवाई होगी.

याचिका में कन्हैया ने कहा है कि मामले में उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया है क्योंकि उन्होंने देश विरोधी नारे नहीं लगाए थे. अपनी जमानत याचिका में कन्हैया ने दावा किया है कि उन्हें साक्ष्यों को दरकिनार कर एक प्राथमिकी के आधार पर गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया.

इस याचिका में जमानत की मांग के अलावा कन्हैया कुमार ने सुरक्षा मुहैया कराने की भी अपील की है. अनुच्छेद 21 का हवाला देते हुए जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार को लेकर कन्हैया कुमार ने 15 और 17 फरवरी को पटियाला हाउस में हुई हिंसक घटनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि जिस तरह से उसके शारीरिक उत्पीड़न की अनुमति दी गई. यह साफ इशारा करता है कि न्याय पाने के उसके अधिकार को बाधा पहुंचाई गई है.

कन्हैया कुमार को राष्ट्रद्रोह के आरोप में जेएनयू में संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी के खिलाफ आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान 12 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था.शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने कन्हैया की जमानत याचिका पर सुनवाई से इनकार करते हुए याचिकाकर्ता को हाईकोर्ट में अपील करने के लिए कहा था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहले हाईकोर्ट में याचिका दी जानी चाहिए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: JNU row: Suspense over arrest of Umar Khalid
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: JNU Row kanhaiya umar khalid
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017