JNU: कौन है उमर खालिद? जानें जेहन में उठने वाले सभी सवालों के जवाब

By: | Last Updated: Friday, 19 February 2016 9:42 AM
JNU’s Umar Khalid had planned on Afzal Guru program

नई दिल्ली: जेएनयू में देश विरोधी नारों के पीछे उमर खालिद नाम के छात्र नेता का हाथ बताया जा रहा है. उमर खालिद तो विवाद के बाद से गायब हो गया है लेकिन छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया देशद्रोह के आरोप में जेल में है. दिल्ली पुलिस उमर खालिद की तलाश दिल्ली के बाहर भी कर रही है. दिल्ली के जाकिर नगर में उमर के पिता के दफ्तर और महाराष्ट्र के अमरावती में उमर खालिद के पुश्तैनी गांव एबीपी न्यूज पहुंचा.

जेएनयू कैंपस में नारे लगा रहा शख्स ही उमर खालिद है. जेएनयू के साबरमती ढाबे पर अफजल गुरु की बरसी पर कार्यक्रम डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन – DSU के छात्रनेता उमर खालिद की ही अगुवाई में हुआ था.

देश विरोधी नारों पर जब देश में बवाल मचा तो उमर खालिद अपने साथियों के साथ गायब हो गया. अब दिल्ली पुलिस को उसकी तलाश है. दिल्ली में जाकिर नगर के घर से लेकर महाराष्ट्र के अमरावती के तालेगांव तक में उमर खालिद की तलाश हो रही है.

एबीपी न्यूज भी तालेगांव में उमर खालिद के पुश्तैनी गांव पहुंचा. जहां जर्जर हालत में उमर खालिद का घर तो मिला लेकिन वहां उमर खालिद के परिवार का कोई सदस्य अब नहीं रहता.

उमर खालिद का पुश्तैनी घर टूटा फूटा है और यहां पर दूसरे कई लोग रहने लगे हैं. आस पास के लोग बताते हैं उमर खालिद के पिता यहां से करीब 30 साल पहले ही दिल्ली चले गए थे और तब से वो यहां नहीं लौटे.

उमर खालिद का जन्म भी इस घर में नहीं हुआ. उसके पिता सैयद कासिम रसूल इलियास के बारे में लोगों ने बताया कि वो ऊर्दू की मैगजिन ‘अफकार-ए-मिल्ली’ चलाते हैं और दिल्ली में ही रहते हैं. उमर खालिद को कभी यहां नहीं देखा गया.

उमर खालिद के परिवार के कुछ लोग हैदराबाद में और कुछ लोग अमरावती में जा चुके हैं. तालेगांव पुलिस भी कहती है कि उमर खालिद का परिवार कई बरस पहले यहां से जा चुका है.

जेएनयू में 9 फरवरी के दिन जब देश विरोधी नारे लग रहे थे तो उमर खालिद छात्रों की भीड़ में था. उमर खालिद जेएनयू में स्कूल ऑफ सोशल साइंस से इतिहास में पीएचडी कर रहा है. उमर खालिद को जेएनयू के ताप्ति हॉस्टल के कमरा नंबर 168 मिला हुआ है. उमर खालिद के संगठन DSU को CPI माओवादी समर्थित छात्र संगठन माना जाता है.

उमर खालिद की तलाश में दिल्ली पुलिस जगह जगह छापेमारी कर रही है, लेकिन क्या उमर खालिद का संबंध अलगाववादियों से भी है. इस सवाल पर पुलिस का कहना है कि जांच चल रही है.

khalid1-580x395उमर खालिद के टेरर लिंक के सवाल पर दिल्ली पुलिस कमिश्नर बी एस बस्सी ने कहा कि स्टूडेंट के अलावा कुछ बाहरी लोग भी थे, जिसके सबूत है, जांच कर रहे है, कुछ भी जांच में आएगा वो बताएंगे.

उमर खालिद और उसके संगठन DSU के बारे में दिल्ली पुलिस पहले भी सरकार और जेएनयू प्रशासन को आगाह कर चुकी है.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक उमर खालिद के ग्रुप ने ही कैंपस में देवी देवताओं की नंगी तस्वीरें लगाकर नफरत पैदा करने की कोशिश की थी.

उमर खालिद के ग्रुप ने आतंकी अफजल गुरु की फांसी पर जेएनयू कैंपस में मातम मनाया था. 2010 में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सीआरपीएफ जवानों की हत्या पर इन लोगों ने जश्न मनाया था.

दिल्ली पुलिस ने पिछले साल गृह मंत्रालय को भी एक रिपोर्ट भेजी थी. लेकिन बावजूद इसके न तो उमर खालिद के खिलाफ कोई कार्रवाई हुई और न ही उसके संगठन DSU की गतिविधियों पर कोई पाबंदी लगाई गई.

और अब जेएनयू में जिस कार्यक्रम में देश विरोधी नारे लगे उसका नेतृत्व करने वाला उमर खालिद पुलिस की पकड़ से बाहर है जबकि छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया देश विरोधी नारों के आरोप में देशद्रोह की धारा में जेल में है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: JNU’s Umar Khalid had planned on Afzal Guru program
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: afzal guru JNU Row kanhaiya umar khalid
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017