छात्रों से बेहद प्यार करने वाले कलाम ने अंतिम सांसें भी छात्रों के बीच लीं

By: | Last Updated: Tuesday, 28 July 2015 4:48 AM
KALAM DIED IN IIM SHILLONG

नई दिल्ली : कलाम पूरे देश के लिए प्रेरणा स्रोत रहे. राष्ट्रपति बनने से पहले और राष्ट्रपति बनने के बाद भी वो अक्सर स्कूल, कॉलेज और इंजीनियरिंग संस्थानों के बच्चों को आगे बढ़ने की प्रेरणा देते थे, जिंदगी के आखिरी दिन जब मौत ने दस्तक दी तब भी कलाम शिलॉन्ग में IIM के छात्रों के बीच ही थे.

 

 

बीती रात जब पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अद्बुल कलाम के पार्थिव शरीर को मिलिट्री अस्पताल ले जाया जा रहा था तो आंखों में आंसू भरे पूरा शिलॉन्ग बेथनी अस्पताल के बाहर सांसें थामे खड़ा था और जैसे ही पार्थिव शरीर उनके सामने पहुंचा किसी की आंखों से आंसू बहने लगे तो कोई अपने इस अजीज के अमर रहने के नारे लगाने लगा.

 

पूर्व राष्ट्रपति के पार्थिव शरीर को रात में ही बेथनी अस्पताल से मिलिट्री हॉस्पिटल में शिफ्ट कर दिया गया. जहां रात भर उनके प्रशंसकों का जमावड़ा लगा रहा.

 

वहां मौजूद एक शख्स ने कहा, ” हमें बहुत दुख हो रहा है कि हमने एक महान शख्स को खो दिया है, एक शख्स जिसने नॉर्थ ईस्ट के लोगों का हमेशा ख्याल रखा और बच्चों को बहुत प्यार दिया.”

 

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम  27 जुलाई को गुवाहाटी एयरपोर्ट से आईआईएम शिलॉन्ग में अपना लेक्चर देने के लिए निकल गए थे.

 

84 साल के कलाम शाम 6.30 बजे आईआईएम में लेक्चर देने के दौरान ही गिरकर बेहोश हो गए. शाम 7 बजे कलाम को बेथनी अस्पताल लाया गया. डॉक्टरों ने उन्हें आईसीयू में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा.

 

आर्मी हॉस्पिटल और नॉर्थ ईस्टर्न इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल साइंसेज के डॉक्टर भी कलाम को बचाने के लिए बेथनी अस्पताल पहुंच गए. 45 मिनट तक डॉक्टरों ने बचाने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो सके. शाम 7.45 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

 

कलाम ने अपने आखिरी ट्वीट में भी आईआईएम जाने की बात लिखी थी.  डॉ कलाम की मौत के बाद केंद्र सरकार की ओर से  सात दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गई है. संसद के दोनों सदनों में पूर्व राष्ट्रपति को श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही को स्थगित कर दिया जाएगा.

 

तमिलनाडु के रामेश्वरम में कलाम का अंतिम संस्कार होगा. दिल्ली से उनके पार्थिव शऱीर को रामेश्वरम ले जाया जाएगा, रामेश्वरम में ही कलाम का जन्म हुआ था. जैसे ही उनके 99 साल के बड़े भाई मुथु मीरा और परिवार के दूसरे लोगों को उनकी मृत्यु की खबर मिली सब बिलख बिलख कर रो पड़े, पूरे रामेश्वरम में रात से ही गम का माहौल है जो शायद कभी भर ना सकेगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: KALAM DIED IN IIM SHILLONG
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: died iim shillong Kalam
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017