खुद को बचाने के लिए तिरंगे का इस्तेमाल कर रहे हैं कन्हैया: सुशील कुमार

Kanhaiya Kumar is using Flag for defending himself: Susheel Kumar

नई दिल्ली: हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी के बाद देश की राजनीति नई करवट ले रही है. विरोध प्रदर्शनों के बीच राजनीतिक बंटवारा इस कदर बढ़ गया कि देश दो हिस्सों में बंटा हुआ दिखा. इसकी साफ झलक जेएनयू कांड में दिखी. जेएनयू कैंपस में 9 फरवरी को लगे कथित देश विरोधी नारे की गूंज के बीच जेएनयूएसयू के प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार पर देशद्रोह का मामला दर्ज हुआ. खूब हंगामा हुआ और कन्हैया कुमार को जमानत मिल गई. जेल से छूटते ही कन्हैया ने आरएसएस और पीएम मोदी को निशाने पर लेते हुए एक जोरदार भाषण दिया जिसकी चर्चा सोशल मीडिया पर खूब रही. इस दौरान जेएनयू में तिरंगे को लेकर मार्च भी हुआ.

हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के झगड़े के केंद्र में रहे हैं एबीवीपी नेता सुशील कुमार. ये वही सुशील हैं जिनके साथ रोहित का झगड़ा भी हुआ था. सुशील का आरोप है कि रोहित और उनके 30 साथियों ने उनके साथ मारपीट भी की थी.

सुशील कुमार का आरोप है कि अब कन्हैया तिरंगे के कवच में अपने आपको बचाने की कोशिश में है.

पेश है सुशील कुमार से एबीपी न्यूज़ की बातचीत. 

एबीपी न्यूज़ से बातचीत में सुशील ने कहा, ‘कन्हैया भगत सिंह नहीं हैं. देशविरोधी गतिविधियों को सपोर्ट करना भी देश विरोधी ही है. अब ये लोग तिरंगा झंडा लेकर चल रहे हैं इतने दिनों तक इन्होंने झंडे को पकड़ा भी नहीं. ये लोग खुद को बचाने के लिए झंडे का उपयोग कर रहे हैं.’

कन्हैया की जमानत पर सुशील ने कहा, ‘कन्हैया को शर्तों पर जमानत मिली है. कोर्ट ने बेगुनाह साबित नहीं किया है. उस कार्यक्रम के दौरान कुछ लोग घुस आए थे और देश-विरोधी नारे लगाए थे. कन्हैया को पता ही होगा कि आखिरी वो लोग कौन थे जो ऐसा कर रहे थे. अगर पुलिस कन्हैया से नहीं पूछेगी तो किससे पूछेगी. पुलिस ने गवाहों को पेश नहीं किया इसके पीछे कोई और वजह रही होगी.’

सुशील का ये भी कहना है कि जेएनयू स्टुडेंट यूनियन प्रेसिडेंट होने के नाते उस कार्यक्रम में नारा लगा रहे लोगों को उन्हें रोकना चाहिए था. उन्होंने ऐसा नहीं किया बल्कि उन लोगों का समर्थन किया. जेएनएसयू प्रेसिडेंट के नाते ये उनकी जिम्मेदारी है कि वे ऐसी गतिविधियां ना होने दे. सुशील का आरोेप है कि कुछ लोग उसे भगत सिंह बना रहे हैं.

आपको याद दिला दें कि कन्हैया कुमार और जेएनयू का मुद्दा ऐसे समय पर आया जब हैदराबाद युनिवर्सिटी सहित पूरे देश में रोहित वेमुला की खुदकुशी को लेकर प्रदर्शन चल रहे थे.

हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के झगड़े पर सुशील बताते हैं कि इस पूरे मुद्दे की शुरूआत कहां से हुई. सुशील के मुताबिक, ‘ये सारा मुद्दा दो अगस्त को शुरू हुआ था. याकूब मेनन को फांसी दिए जाने के तुरंत बाद ‘नमाज़-ए-जनाजा’ का आयोजन हुआ था. यहां पर याकूब मेनन के समर्थन में ‘एक याकूब मारेंगे तो घर-घर से याकूब निकलेंगे’,  ‘याकुब तेरे खून से इंकलाब आएगा’ जैसे नारे भी लगे थे. इसके बाद मैंने लोकल पुलिस को मैसेज के जरिए जानकारी दी थी. फेसबुक पर और दीवारों पर हमने इसके विरोध में पैंप्लेट्स लगाए थे. ये लोग हमें हमेशा भगवा टेररिस्ट बोलते. हमें लगा कि ये लोग इस भी आलोचना की तरह लेंगे. तीन अगस्त की रात को अंबेडकर स्टूडेंट एसोसिएशन (एएसए) से जुड़े कुछ छात्र मेरे कमरे में घुस आए और पूछने लगे कि तुमने ऐसा क्यों लिखा है. मैंने उनसे कहा कि आइए बैठकर बात करते हैं. अगर आप ‘फ्रीडम ऑफ एक्स्प्रेशन’ की बात करते हैं तो मेरे पास भी अपना ‘फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन’ है. मैंने सोशल वेबसाइट्स में अपनी राय रखी है और आप भी उसका जवाब वहीं दीजिए. फिर वो लोग मारते हुए मुझे बाहर तक ले गए. वो करीब 30-40 लोग थे, मैं उसमें से ज्यादा लोगों को पहचानता भी था.’

सुशील के मुताबिक इस मारपीट के बाद उनके पेट में दर्द हुआ और उन्हें युनिवर्सिटी हेल्थ सेंटर में ना जाकर बाहर हॉस्पिटल में जाकर इलाज कराने की सलाह दी गई. हॉस्पिटल में सुशील दस दिन तक एडमिट थे और इसी दौरान उन्हें अपेंडिक्स का ऑपरेशन करवाया था.

इसी बीच युनिवर्सिटी कैंपस में पहुंची सुशील की मां के साथ भी बदसलूकी हुई. सुशील का कहना है, ‘अगस्त चार को मेरी मां के साथ युनिवर्सिटी में बदसलूकी हुई. इसके बाद मां ने अदालत का रूख किया. हमने सरकार को इसकी सूचना देना जरूरी समझा चाहें जिसकी भी सरकार हो. इसके बाद युनिवर्सिटी प्रशासन ने कार्रवाई की और दोषी छात्रों को हॉस्टल से सस्पेंड कर दिया गया.’ सुशील का कहना है कि दोषी छात्रों का कहना था कि उन्हें सोशली बाइकॉट किया गया है लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था. इससे पहले भी बहुत सारे सस्पेंशन हुए थे. सस्पेशन का ये मामला कोर्ट में भी चल रहा था और इसी बीच 17 जनवरी को रोहित वेमुला ने सुसाइड कर लिया.

सुशील का कहना है कि यह उनके लिए भी बहुत डिप्रेस करने वाली खबर थी. सुशील ने खुद बताया, ‘हमारे बीच वैचारिक मतभेद जरूर थे लेकिन व्यक्तिगत रूप से किसी के लिए भी ऐसी भावना नहीं थी. हमें भी बहुत दुख हुआ. बाद में सुसाइड लेटर सामने आया जिसमें उसने किसी को भी दोषी नहीं ठहराया. मैंने उसपर कोई सवाल नहीं उठाए क्योंकि मुझपर खुद सवाल उठ रहे थे. मगर कुछ सवाल हैं कि रोहित का फोन, सिम कार्ड का क्या हुआ?  उसने सुसाइड  लेटर में अपने ही ऑर्गनाइजेशन पर सवाल उठाए हैं. इस मामले की जांच होनी चाहिए. मैं इस जांच से मैं भाग नहीं राह हूं. जो भी दोषी है उसे भी सजा मिलनी चाहिए.’

हैदराबाद यनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहे सुशील का कहना है कि वो अपनी रिसर्च पर ध्यान देना चाहते हैं क्योंकि इस केस में उनका पूरा एक साल बर्बाद हो चुका है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Kanhaiya Kumar is using Flag for defending himself: Susheel Kumar
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!
एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!

रायपुर: एबीपी न्यूज की खबर का असर हुआ है. छत्तीसगढ़ में गोशाला चलाने वाले बीजेपी नेता हरीश...

जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच
जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच

नई दिल्लीः आजकल सोशल मीडिया पर एक टीचर की वायरल तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि वो अपनी...

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे बातचीत
डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे...

नई दिल्ली: बॉर्डर पर चीन से तनातनी और नेपाल में आई बाढ़ को लेकर शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने...

15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी सरकार ने मंगवाए वीडियो
15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी...

लखनऊ: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने राज्य के सभी मदरसों में राष्ट्रगान गाए जाने का...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017