कर्नाटक: विधानसभा चुनाव में दो सीटों पर कांग्रेस और एक पर बीजेपी की जीत

By: | Last Updated: Monday, 25 August 2014 7:15 AM

नई दिल्ली: कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस को बड़ी सफलता हाथ लगी है जहां पार्टी ने विधानसभा उप चुनाव में प्रतिष्ठित बेल्लारी ग्रामीण सीट बीजेपी से छीन ली. बीजेपी 21 अगस्त को हुए उप चुनाव में एक सीट पर जीत हासिल कर पायी है.

बीजेपी को तगड़ा झटका देते हुए कांग्रेस के एन वाई गोपालकृष्णा ने भाजपा के ओबालेश को बेल्लारी ग्रामीण सीट पर 33, 104 मतों के अंतर से हरा दिया जिसका प्रतिनिधित्व पहले बी श्रीरामालु कर रहे थे. लोकसभा सदस्य बनने के बाद उन्होंने यह सीट छोड़ दी थी.

 

किसी समय में खनन क्षेत्र के दिग्गज और पूर्व मंत्री जनार्दन रेड्डी के वफादार माने जाने वाले श्रीरामालु ने वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव में बीआरएस उम्मीदवार के रूप में बेल्लारी ग्रामीण सीट जीती थी, लेकिन लोकसभा चुनाव से पहले वह बीजेपी में फिर से शामिल हो गए थे .

 

शिकारीपुरा में बीजेपी बी वाई राघवेन्द्र के साथ यह सीट बचाने में कामयाब रही. यहां पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने 6430 मतों के अंतर से कांग्रेस के एस एच शांतावीरप्पा को कड़े मुकाबले में हराया.

 

येदियुरप्पा वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव में 24 हजार मतों के अधिक अंतर से यह चुनाव जीते थे. उस समय उन्होंने कर्नाटक जनता पक्ष (केजेपी)के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा था. उनकी पार्टी केजेपी का लोकसभा चुनाव से कुछ ही महीनों पहले भाजपा में विलय हो गया था.

 

पिछले आम चुनाव में शिमोगा से लोकसभा सदस्य बनने से पहले येदियुरप्पा सात बार शिकारीपुरा का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.

 

कांग्रेस ने अपने पारंपरिक गढ़ चिक्कोड़ी. सदालगा पर अपना कब्जा बरकरार रखा जहां उसके उम्मीदवार गणेश प्रकाश हुक्केरी ने भाजपा के महंतेश कवातागीमठ को 31, 820 मतों के अंतर से हराया. चुनाव परिणामों से मुख्यमंत्री सिद्धरमैय्या को काफी मजबूती मिली है जिनके कामकाज की शैली को लेकर पार्टी के भीतर असंतोष पनप रहा था और अब निकट भविष्य में उनके खिलाफ विरोध के ये स्वर मंद पड़ने की संभावना है.

 

कांग्रेस का इस चुनाव में काफी कुछ दांव पर लगा था. लोकसभा चुनाव के बाद यह पहला चुनावी शक्ति परीक्षण था. कर्नाटक में लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 28 में से 17 सीटें जीती थीं.

 

कांग्रेस ने 2013 के विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन किया था और दक्षिण भारत में भाजपा की पहली सरकार को बाहर का रास्ता दिखा दिया था. लेकिन वह लोकसभा चुनाव में केवल नौ सीटें जीत सकी और दो सीटें जद एस के खाते में गयीं.

 

जद एस नेतृत्व के कामकाज के तौर तरीकों को लेकर विधायकों के बीच असंतोष का सामना कर रही पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा की पार्टी ने तीनों विधानसभा क्षेत्रों में से किसी पर भी अपना उम्मीदवार खड़ा नहीं किया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: karnataka_congress_bjp_election_result
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017