मैं टिकट खरीद कर बैठा : केजरीवाल

By: | Last Updated: Saturday, 6 December 2014 11:02 AM
kejriwal

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बिजनेस क्लास में सफर करके दुबई जाने के विवाद पर सफाई दी है . अपनी सफाई में केजरीवाल ने जो कुछ कहा है वो भी कम चौंकाने वाला नहीं है . केजरीवाल ने कहा है कि टिकट उन्होंने खरीदा है . जब परसों इस पर विवाद हुआ था तब पार्टी ने सफाई दी थी कि आयोजक ने टिकट दिया है. तो विवाद क्यों?

अब खुद केजरीवाल कह रहे हैं कि उन्होंने बिजनेस क्लास का टिकट खरीदा है. बीजेपी सवाल उठाती रही है कि आम आदमी की बात करने वाला शख्स इतने पैसे खर्च कर बिजनेस क्लास में क्यों सफर कर रहा है . 

 

केजरीवाल की सफाई पर बीजेपी ने कहा कि वह जानबूझकर ऐसा करते हैं और अब चूंकि फंस गए हैं इसलिए सफाई दे रहे हैं. आइए आपको बताते हैं कि केजरीवाल बिजनेस क्लास में जाने पर किस तरह विवादों में घिर गए थे. 3 घंटे 50 मिनट के दुबई के सफर के लिए केजरीवाल ने दो दिन पहले बिजनेस क्लास से सफर किया.  ध्यान दीजिएगा. पार्टी आम आदमी की है लेकिन पार्टी का सबसे बड़ा चेहरा बिजनेस क्लास में सफर करेगा तो शोर तो मचेगा ही.

 

ये वही केजरीवाल हैं जो सीएम बनने के बाद मेट्रो से शपथ लेने गए थे. ये वही केजरीवाल हैं जिन्होंने देश को सादगी का संदेश देने के लिए लाल बत्ती की कारों का काफिला नहीं अपनी छोटी सी कार से सफर किया. ये वही केजरीवाल हैं जो दिल्ली के मुख्यमंत्री होते हुए भी जनता के हक के लिए कंपकंपाती ठंड में सड़क पर रात गुजार रहे थे. लेकिन सादगी को छोड़ते हुए और आराम को तवज्जो देते हुए अरविंद केजरीवाल ने बिजनेस क्लास में सफर किया.

 

सवाल ये उठ रहा है कि आम आदमी की राजनीति करने वाले अरविंद केजरीवाल बिजनेस क्लास में सफर करके कौन सा संदेश देना चाहते हैं. अरविंद केजरीवाल चंदा जुटाने के लिए फ्लाइट से दुबई जा रहे थे. लेकिन हवाई यात्रा में बिजनेस क्लास की तस्वीरें जैसे ही सामने आई. विवाद शुरू हो गया. फोटो ट्विटर पर वायरल होने लगी. बीजेपी ने केजरीवाल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया.

 

केजरीवाल अगर बिजनेस क्लास की जगह इकॉनमी क्लास में सफर करते तो 13 हजार 219 रुपए का टिकट होता. केजरीवाल जिस सीट पर बैठे दिखाई दे रहे हैं उस बिजनेस क्लास का टिकट 47 हजार 751 रुपए है. और अगर फर्स्ट क्लास में सफऱ करते तो 82 हजार 823 रुपए चुकाने होते.

 

केजरीवाल का दुबई तक सफर 3 घंटे 50 मिनट का था. सवाल ये भी है कि केजरीवाल को 20 घंटे की फ्लाइट लेकर अमेरिका तो जाना नहीं था फिर 3 घंटे 50 मिनट के सफर के लिए बिजनेस क्लास क्यों?

 

बिजनेस क्लास यानी सीट खुलकर आपके लिए बेड बन जाती है. इकॉनमी क्लास की तुलना में पैर रखने के लिए जगह बहुत ज्यादा होती है. सीटें भी काफी चौड़ी होती हैं.

 

खाने के लिए खास तरह का मेन्यू होता है. घर से गाड़ी एयरपोर्ट तक के लिए लेने आती है. इस मुद्दे पर आम आदमी पार्टी के पूर्व विधायक बिन्नी ने भी केजरीवाल पर निशाना साधा.

 

इस सवाल पर आम आदमी पार्टी अपने नेता केजरीवाल का बचाव कर रही है. पार्टी का कहना है कि बिजनेस क्लास का टिकट आयोजकों की तरफ से दिया गया था. इसमें पार्टी फंड का इस्तेमाल नहीं किया गया है इसलिए इसमें कुछ भी गलत नहीं है. उधर अब केजरीवाल कह रहे हैं कि टिकट उन्होंने खुद खरीदा था.

 

केजरीवाल दो दिनों के लिए दुबई गए हैं. दुबई के बाद केजरीवाल न्यू यॉर्क जाएंगे. और चंदा जुटाने के लिए 7 दिसंबर को अप्रवासी भारतीयों के कार्यक्रम में शामिल होंगे. बताया जा रहा है कि अमेरिका में रह रहे केजरीवाल के IIT के दोस्तों ने न्यू यॉर्क में चंदा जुटाने का कार्यक्रम आयोजित किया है लेकिन चंदा जुटने से पहले ही विवाद ने जन्म ले लिया है.

 

और ये पहली बार नहीं है इससे पहले भी इंडिया टुडे के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए केजरीवाल चार्टर्ड प्लेन से जयपुर से दिल्ली पहुंचे थे. तब केजरीवाल की तरफ से सफाई ये आई थी कि आयोजकों यानी इंडिया टुडे ग्रुप ने चार्टर्ड प्लेन का खर्च उठाया था. बिजनेस क्लास और चार्टर्ड प्लेन में सफर करने वाले केजरीवाल मोदी और राहुल गांधी की हवाई यात्रा पर सवाल उठा चुके हैं.

 

जब सवाल उठते हैं तो केजरीवाल आयोजकों के पाले में गेंद डाल देते हैं मतलब ये कि अपने खर्च पर आराम करें तो गलत और अगर आयोजक आराम के लिए पैसा देते हैं तो सही. केजरीवाल जी आप ही बताइए ये कौन सी परिभाषा है जो आम आदमी के लिए कहीं से भी फिट बैठती है.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: kejriwal
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017