केरल वित्त मंत्री एम मणि के खिलाफ वाम मोर्चे की हड़ताल

By: | Last Updated: Saturday, 14 March 2015 6:39 AM
Kerala budget

नई दिल्ली: केरल में वित्त मंत्री एम मणि के खिलाफ आज वाम मोर्चा ने हड़ताल रखी है, वित्त मंत्री के एम मणि पर घूस लेने का आरोप लगाया है. विधानसभा में हंगामें पर सीपीआई नेता डी राजा का कहना है कि घूस के आरोपों से घिरे वित्त मंत्री मणि को इस्तीफा देना चाहिये था न कि बजट पेश करना चाहिए था.

 

केरल में वित्त मंत्री के खिलाफ हंगामे को कांग्रेस ने अलोकतांत्रिक करार दिया है। कांग्रेस का कहना है कि जानबूझकर विधानसभा में हंगामेदार माहौल बनाया गया है. शुक्रवार को केरल विधानसभा के अंदर और बाहर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया था, वित्त मंत्री को बजट पेश करने से भी रोकने की कोशिश की गई थी.

 

वित्त मंत्री के. एम. मणि राज्य का बजट पेश करने में तो सफल रहे लेकिन सदन में जबरदसत हंगामे के बीच विपक्षी सदस्यों ने अध्यक्ष का आसन फेंक दिया और वाच एंड वार्ड स्टाफ (मार्शल) के साथ उनकी हाथापाई हुई. मणि के खिलाफ सदन के बाहर हो रहे विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रूप धारण कर लिया.

 

आक्रोशित एलडीएफ और युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठियां चलायी. वहीं, खफा भीड़ ने शहर में पुलिस की एक जीप में आग लगा दी.

 

एलडीएफ के विरोध के बीच मणि बजट का कुछ अंश पढ़ने में तब कामयाब रहे जब सत्तारूढ़ यूडीएफ सदस्यों और वाच एंड वार्ड स्टाफ ने उनके पास एक घेरा बना लिया जिससे विपक्षी उन तक पहुंच नहीं पाए. विपक्षी सदस्य अपने इस रूख पर अड़े थे कि ‘भ्रष्ट’ मंत्री को बजट पेश नहीं करना चाहिए.

 

कल सत्र की शुरूआत के साथ ही हंगामा होने लगा. एलडीएफ सदस्यों ने अध्यक्ष के आसन के साथ ही सदन के सभी द्वारों को अवरूद्ध कर दिया था.

 

बजट पेश होने का समय जैसे जैसे करीब आ रहा था एलडीएफ के कुछ सदस्य सदन में बैठ गए और ‘इन्कलाब जिंदाबाद’ के नारे लगाने लगे. वाच एंड वार्ड स्टाफ ने जब उन्हें सदन से निकालने की कोशिश की तो हाथापाई शुरू हो गयी. जारी

 

स्थिति तब बिगड़ गयी जब आसन के पास एलडीएफ सदस्यों और सुरक्षाकर्मियों के बीच भिड़ंत हो गयी. के कुंज अहमद, ई पी जयराजन, जेम्स मैथ्यू, टी वी राजेश और वी शिवनकुट्टी ने अध्यक्ष के आसन को फेंक डाला और स्पीकर, कंप्यूटर और लाइट तोड़ डाले. हंगामे के बीच कुछ सदस्य आसन के सामने मेज पर चढ़ गए और सत्तारूढ़ मोर्चे को ललकारा. सत्तारूढ़ खेमे ने मणि को बजट पेश करने में सहूलियत के लिए घेरा तैयार किया था.

 

इसी शोर शराबे के बीच बगल के दरवाजे से सदन में नाटकीय तौर पर मणि का तब प्रवेश हुआ जब एलडीएफ सदस्य अध्यक्ष के आसन के प्रवेश द्वार पर सुरक्षाकर्मियों से उलझे हुए थे. एलडीएफ ने अध्यक्ष एन संकटन को सदन में घुसने से रोकने की रणनीति तैयार की थी जिससे कि बजट पेश नहीं किया जा सके.

 

जैसे ही मणि सदन में पहुंचे एलडीएफ सदस्यों की नजर उनपर पड़ी और उनमें से कुछ उनकी ओर लपके. लेकिन, सदन के भीतर सुरक्षाकर्मियों की भारी मौजूदगी से उनकी यह कोशिश नाकाम हो गयी.

 

मणि जब बजट पढ़ने लगे तो बिजुमोल (भाकपा) और के लतिका (माकपा) सहित कुछ महिला सांसद मेज पर चढ़ गयीं और सुरक्षा गाडरें के घेरा को तोड़ने की कोशिश की.

 

मणि ने 10 मिनट में ही बजट का कुछ हिस्सा पढ़ डाला. इस बीच यूडीएफ सदस्यों ने वित्त मंत्री के समर्थन में नारे लगाए और उनमें से कुछ ने मिठाइयां बांटी.

 

मुख्यमंत्री ओमन चांडी और उनके कैबिनेट सदस्य बजट पेश किये जाने के समय सुबह नौ बजे से पहले ही विधानसभा में पहुंच गए थे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Kerala budget
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017