आजादी के सिपाही लाला लाजपत राय की मूर्ति को बीजेपी का मफलर पहनाकर विवादों में फंसी किरन बेदी

By: | Last Updated: Wednesday, 21 January 2015 4:06 AM
Kiran Bedi delhi Plan

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनावों में बीजेपी की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरन बेदी ने आज कृष्णानगर से अपना नामांकन भर दिया. नामांकन भरने से पहले वो कृष्णानगर में पदयात्रा पर निकली और लोगों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं पूछीं.

 

किरन बेदी ने कहा है कि वे हर रोज सुबह 9 बजे गरीबों से मिलेंगी, और शिकायत के लिए हेल्पलाइन होगी.

 

विवादों में आ गईं-

जिस लाला लाजपत चौक से किरन बेदी ने रोड शो की शुरुआत की वहीं पर लाला लाजपत राय की मूर्ति पर बीजेपी का मफलर पहना कर उन्होंने विवाद खड़ा कर दिया. किरन बेदी लाला लाजपत राय की मूर्ति को नमन करने पहुंची थी. पहले तो गले में पहने बीजेपी के मफलर से उन्होंने मूर्ति की सफाई की. फिर बीजेपी का ही मफलर लाला लाजपत राय के गले में पहना दिया. लाला लाजपत राय आजादी के सिपाही थे. उनको बीजेपी का मफलर पहनाने पर विवाद खड़ा हो गया है.

 

 

अरविंद केजरीवाल ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि कम से कम स्वतंत्रता सेनानियों को तो छोड़ दें, उनका भगवाकरण ना करें.

 

हालांकि इस पर सफाई देते हुए किरन बेदी ने कहा है कि उन्होंने लाजपत राय का आशीर्वाद लेने के लिए अपने गले का माला उनके गले में डाल दिया और फिर पहन लिया.

 

किरन बेदी ने बताया है कि वह हर रोज लोगों से मिलेंगी, उनकी समस्याएं सुनेंगी और उसका समाधान निकालने की कोशिश करेंगी. इस दौरान जब यह पूछा गया कि उनकी वजह से ट्रैफिक जाम हो सकता है तो किरन बेदी का कहना था कि वे मीडिया को बिना बताए ही निकलेंगी.

 

पद यात्रा के दौरान किरन बेदी ने एक न्यूज़पेपर बांटने वाले शख्स से मिलीं और उनसे पूछा कि कोई ऐसा भी है जो न्यूज़पेपर लेता है लेकिन उन्हें पैसे नहीं देता. इसके बाद किरन बेदी ने रास्ते में एक बाइक सवार को भी रोक लिया जिसने हेलमेट नहीं पहना था. किरन बेदी ने उसे सलाह दी कि ट्रैफिक नियमों का पालन करना चाहिए.

 

किरन बेदी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘मीडिया मेरे पीछे आया है, मैं फोटो खिंचवाने के लिए नहीं निकली. 60 साल के काम 6 दिन में नहीं कर सकती, NGO के साथ मिलकर काम करेंगे. वादा है एक भी दिन ज़ाया नहीं जाएगा. 14 साल की उम्र से मेरा दिल्ली से रिश्ता है. दिल्ली ने मेरा दिल जीता, दिल्ली कुर्बानी मांग रही है.’

 

पदयात्रा से पहले किरन बेदी केजरीवाल पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह चुनाव आयोग के आफिस समय से पहुंचना चाहती हैं. आपको बता दें कि मंगलवाल को  आम आमदी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल नामांकन भरने से पहले रोड शो कर रहे थे लेकिन देर होने के कारण वे नामांकन दाखिल नहीं कर सके.

 

क्या है दिल्ली प्लान-

नामांकन से पहले किरन बेदी ने मीडिया से बात करके अपने दिल्ली प्लान का खुलासा किया है. किरऩ बेदी ने जिस तरह बात की है उससे लग रहा है कि वो अपने को दिल्ली की सीएम मान चुकी हैं. किरऩ बेदी ने एलान किया है कि सरकार बनने पर हर विभाग का व्हाइट पेपर निकलेगा. दिल्ली की सुरक्षा का इंडेक्स तय होगा.

 

किरन बेदी की  बातों से ऐसा लग रहा है कि किरन बेदी ने चुनाव नतीजों से पहले ही खुद को दिल्ली का सीएम मान लिया है. मंगलवाल को कृष्णानगर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए किरन बेदी ने एलान किया था कि वो गृह विभाग अपने पास रखेंगी. शिक्षा विभाग भी उनके पास ही रहेगा.

 

रिसर्च करने के लिए CM बनना चाहती हैं बेदी- आशीष खेतान

आम आदमी पार्टी के नेता आशीष खेतान ने दिल्ली प्लान पर कहा, ‘वह मुख्यमंत्री मानकर चल रही हैं. लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद वह दिल्ली को समझेंगी. दिल्ली के हर विभाग, क्षेत्र को समझेंगी. हर विभाग पर ह्वाइट पेपर निकालेंगी. वह दिल्ली की मुख्यमंत्री बनने के बाद रिसर्च करेंगी. लेकिन आम आदमी पार्टी के पास सारे पेपर तैयार रखे हुए हैं. हमें पता है कि दिल्ली के किस क्षेत्र में क्राइम ज्यादा है.’

 

कृष्णानगर की केयर टेकर हूं- किरन

किरण बेदी ने कृष्णानगर विधानसभा क्षेत्र में हषर्वर्धन की लोकप्रियता को भुनाने की कोशिश करते हुए मंगलवार को कहा कि वह इस क्षेत्र में सिर्फ ‘केयरटेकर’ रहने वाली हैं. किरण ने कहा, ‘मैं उम्मीद करती हूं कि डॉक्टर साहब शेष सबकुछ होंगे. साथ ही यह केयरटेकर भी बहुत प्रभावी है और मेहनती है तथा यह जानती है कि क्या काम किया जाना है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं हषर्वर्धन की शुभचिंतक और प्रशंसक हूं. कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है. मैं यहां आपके लिए खुद को समर्पित करने के लिए हूं.’ किरण ने यह भी कहा कि दिल्ली अब प्रशासन चाहती है और यहां लोग अब धमकी और निलंबन नहीं चाहते हैं.

 

सीट पर होगा दिलचस्प मुकाबला

दिल्ली में कृष्णा नगर सीट पर मुकाबला काफी दिलचस्प माना जा रहा है. बीजेपी ने किरण बेदी को सीएम के तौर पर इस सीट से ही प्रोजेक्ट किया है. बीजेपी की सबसे सुरक्षित सीट कृष्णानगर से डॉ. हर्षवर्धन 1993 से लगातार विधायक रहे हैं. 1993 में यह सीट बनी थी.

 

आम आदमी पार्टी ने किरन बेदी के खिलाफ कृष्णानगर से एस के बग्गा को खड़ा किया है. पेशे से वकील रहे एस के बग्गा 40 साल से कांग्रेस में रहे हैं लेकिन पिछले साल बग्गा आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए. बग्गा पहली बार चुनाव मैदान में हैं. आम आदमी पार्टी ने किरन बेदी के खिलाफ एस के बग्गा को उतारकर इस चेहरे को खास बना दिया है. बग्गा पहली बार चुनाव मैदान में हैं.

 

वहीं कांग्रेस ने बंसीलाल को कृष्णा नगर से किरन बेदी के खिलाफ खड़ा किया है. बंसीलाल कृष्णा नगर से निर्दलीय पार्षद हैं. किरन बेदी और एस के बग्गा बुधवार को कृष्णा नगर से नामांकन दाखिल करेंगे.

 

सात फरवरी को वोटिंग

आपको बता दें कि दिल्ली में 7 फरवरी को वोटिंग होगी तो 10 फरवरी को वोटों की गिनती होगी. साल 2013 में दिल्ली में हुए विधानसभा  चुनाव में बीजेपी को 32,आप को 28, कांग्रेस को आठ और अन्य के खाते में दो सीटें गई थीं. उस समय कांग्रेस के समर्थन से आप ने सरकार ने बनाई थी जो 49 दिनों तक चली और फिर दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया.

 

यह भी पढ़ें-

चुनाव आयोग के नोटिस से बेअसर केजरीवाल, फिर दोहराया विवादित बयान 

दिल्ली चुनाव : बीजेपी के सहयोगी अकाली ने चार सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा की 

क्या नई दिल्ली सीट पर कांग्रेस-बीजेपी दे पाएगी केजरीवाल को टक्कर? 

कितना सेफ है किरन बेदी के लिए कृष्णानगर सीट? 

चुनावी वादे: पूरी दिल्ली में होगी फ्री वाई-फाई की सुविधा 

जानें: अरविंद केजरीवाल को टक्कर देने वाली कौन हैं नूपुर शर्मा? 

बीजेपी में टिकट बंटवारे पर अमित शाह को खरी खोटी, धीर सिंह विधूड़ी ने दिया इस्तीफा 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Kiran Bedi delhi Plan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: BJP Delhi election Kiran Bedi
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017