असम, नागालैंड सीमा विवाद सुलझाने को तैयार : रिजिजू

By: | Last Updated: Thursday, 21 August 2014 3:37 PM
kiren rijiju_asam_nagaland

गुवाहाटी: केंद्रीय गृह मंत्री किरन रिजिजू ने गुरुवार को कहा कि असम और नागालैंड सीमा पर तनाव समाप्त करने के लिए एक संयुक्त प्रक्रिया के तहत जल्द काम शुरू किया जाएगा. असम और नागालैंड के मुख्यमंत्रियों तरुण गोगोई और नागालैंड के टी.आर.जेलियांग ने मीडिया से कहा कि केंद्र सरकार दोनों राज्यों की सरकार को हर संभव सहायता देगी.

उन्होंने कहा, “हम हिंसा प्रभावित इलाके में जल्द शांति स्थापित करना चाहते हैं. केंद्र सरकार इस दिशा में हर संभव सहायता देगी.”

असम और नागालैंड के मुख्यमंत्रियों ने कहा कि दोनों राज्य संयुक्त व्यवस्था के जरिए सीमा से संबंधित लंबित मुद्दे के समाधान के लिए तैयार हैं.

गोगोई ने कहा कि पहली प्राथमिकता शांति स्थापित करना और विस्थापितों को उनके घरों तक पहुंचाना है.

उन्होंने कहा, “हमने प्रभावित लोगों के बीच भरोसा बहाली और सीमा से लगे प्रभावित इलाके में जनजीवन सामान्य करने का प्रयास शुरू किया है.”

इधर, जेलियांग ने कहा कि दोनों ही राज्य 12 अगस्त की घटना के बाद एकदूसरे के संपर्क में हैं और राजनीतिक और प्रशासनिक स्तर पर वार्ता जारी है.

उन्होंने कहा, “हम हालात को स्थिर करने और सीमा से जुड़े लंबित मसले के हल के लिए हर स्तर पर वार्ता जारी रखेंगे.”

स्थानीय लोगों के बीच संपर्क को आवश्यक बताते हुए रिजिजू ने कहा कि ये प्रयास आशंका को दूर करेंगे और अंतर-राज्यीय सीमा पर रह रहे लोगों के बीच समझादारी का पुल बनाने में मदद करेंगे.

उन्होंने कहा, “लोगों के बीच संपर्क जमीनी स्तर पर अविश्वास की कमी को खत्म कर देगा. बार-बार बैठकें करने से समझ विकसित होने में मदद मिलेगी.”

रिजिजू ने कहा कि दोनों राज्यों के साथ आने से यह संकेत जाएगा कि दोनों बातचीत के साथ समस्या का समाधान चाहते हैं.

गौरतलब है कि असम-नागालैंड सीमा के सेक्टर बी में पिछले सप्ताह भड़की हिंसा में असम की तरफ के नौ लोगों की मौत हो गई थी और 10,000 लोग विस्थापित हो गए थे.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: kiren rijiju_asam_nagaland
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017