IN DEPTH: भारत में दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन से जुड़ी पूरी जानकारी

IN DEPTH: भारत में दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन से जुड़ी पूरी जानकारी

अहमदाबाद से मुंबई तक इस रेल लाइन मार्ग पर कुल 12 स्टेशन होंगे जहां पर ट्रेन केवल 165 सेकेंड के लिए रुकेगी. इसके साथ ही 20 घंटे के सफर के बाद चार घंटे तक इनकी सफाई की जाएगी.

By: | Updated: 14 Sep 2017 07:41 PM

अहमदाबाद: अहमदाबाद के साबरमती रेलवे स्टेशन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर दिया है. मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन 2022 तक बनकर तैयार होगी. आइए आपको बताते हैं बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट से जुड़ी खास बातें.


 1. सरकार ने इस 1.08 लाख करोड़ रुपये की महत्वकांक्षी परियोजना को भारतीय स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ 15 अगस्त 2022 के मौके पर भारत की जनता को सौंपने का लक्ष्य रखा है.


2. यह हाई स्पीड लाइन गुजरात के अहमदाबाद से मुंबई तक चलाई जाएगी. यह लाइन दो राज्यों के बीच सात घंटे की दूरी को महज तीन घंटों में पूरा करेगी.


3. इस रेल लाइन पर दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन की अधिकतम गति 217 मील प्रति घंटा यानी 350 किमी प्रति घंटा जबकि औसत गति 320 किमी प्रति घंटा होगी, जो वर्तमान में देश की सबसे तेज चलनी वाली दूसरी ट्रेनों से दो गुना से भी ज्यादा होगी.


4. यह बुलेट ट्रेन राजधानी दिल्ली से आगरा जाने वाली गतिमान एक्सप्रेस (100 मील प्रति घंटा) से लगभग तीन गुना ज्यादा तेजी से दौड़ेगी. यह शिंकांसेन मॉडल ट्रेन अहमदाबाद से मुंबई तक आठ घंटे के सफर को तीन घंटे और करीब 316 मील की यात्रा में कटौती करेगी.


5. भारत से मजबूत दोस्ती का सबूत देते हुए जापान, भारत को इस परियोजना के लिए 88,000 करोड़ रुपये 0.1 फीसदी के न्यूनतम ब्याज पर कर्ज देगा.


6. इस ट्रेन के परिचालन की शुरुआत में 10 कोच होंगे जिसमें कुल 750 यात्रियों के बैठने की क्षमता होगी. बाद में इसको बढ़ाकर 16 कोच का कर दिया जाएगा (जो कि प्रस्तावित है) जिसमें 1,250 यात्रियों की बैठने की क्षमता होगी. इस ट्रेन का किराया राजधानी एक्सप्रेस के एसी 2-टीयर की कीमत के बराबर होगा.


7. शुरुआत में रेलवे करीब 35 हाई स्पीड बुलेट ट्रेन चलाएगा, जिसके लगभग 70 फेरे हर दिन लगाए जाने की उम्मीद है. साल 2050 तक बुलेट ट्रेनों की संख्या बढ़कर 105 तक की जा सकती है.


8. रेलवे के मुताबिक बुलेट ट्रेन के शुरू होने के बाद सालाना 1.6 करोड़ लोग इन ट्रेनों से यात्रा करेंगे. वहीं 2050 तक इस संख्या में भारी इजाफा होने की उम्मीद है, यह आंकड़ा उस वक्त तक बढ़कर रोजाना 1.6 लाख तक पहुंच जाएगा जो इन ट्रेनों से सफर करेंगे.


9. इस हाई स्पीड बुलेट ट्रेन परियोजना के शुरू होने से रोजगार क्षेत्र में वृद्धि होगी. परियोजना से करीब 36000 लोगों को रोजगार मिल सकेगा.


10. इस 1.08 लाख करोड़ रुपये की महत्वकांक्षी परियोजना के लिए रेलवे को लगभग 825 हेक्टेयर जमीन की आवश्यकता होगी. जिसमें 92 फीसदी (468 किमी ऊंचा ट्रैक) जमीन से ऊंचाई पर रहेगा, छह फीसदी (सुरंग के भीतर 27 किलोमीटर) सुरंगों के जरिए और बचे हुए दो फीसदी (13 किमी भूमि पर) जमीन पर बनाया जाएगा.


11. अहमदाबाद से मुंबई तक इस रेल लाइन मार्ग पर कुल 12 स्टेशन होंगे जहां पर ट्रेन केवल 165 सेकेंड के लिए रुकेगी. इसके साथ ही 20 घंटे के सफर के बाद चार घंटे तक इनकी सफाई की जाएगी.


12. रेलवे ने स्पीड के आधार पर दो प्रकार की बुलेट ट्रेन चलाने की योजना बनाई है. पहली हाई स्पीड ट्रेन जो मुंबई और अहमदाबाद के बीच प्रस्तावित है, सभी 12 स्टेशनों पर रुकेगी, दूसरी तेज गति वाली ट्रेन केवल प्रमुख स्टेशनों पर ही रुका करेगी.


13. रेलवे के मुताबिक कुल 24 हाई स्पीड बुलेट ट्रेनें जापान से आयात की जाएगी और फिर बाकी की बची ट्रेनों को भारत में ही निर्मित किया जाएगा.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story टमाटर की कीमतों में लगी आग, 80 से 100 रुपये प्रति किलो हुआ भाव