वायरल सच: क्या सीएम आदित्यनाथ योगी का खाना एक मुसलमान बनाता है?

By: एबीपी न्यूज़ | Last Updated: Monday, 20 March 2017 8:35 PM
वायरल सच: क्या सीएम आदित्यनाथ योगी का खाना एक मुसलमान बनाता है?

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश को योगी आदित्यनाथ के तौर पर नया मुख्यमंत्री मिला है. मुख्यमंत्री के लिए ये नाम अचानक सामने आया था और अब सोशल मीडिया पर योगी आदित्यनाथ से जुड़ी कई कहानियां पेश की जा रही हैं.

दावा है कि सीएम योगी का खाना बनाने वाला रसोइया एक मुसलमान है. ये दावा लोगों को चौंका रहा है क्योंकि योगी आदित्यनाथ की छवि एक कट्टर हिंदू की है. आम जनता के पास जब सोशल मीडिया पर घूम रहा एक वायरल मैसेज पहुंचा तो योगी के घर मुसलमान रसोइए की चर्चा बहुत तेज होने लगी

वायरल हो रहे मैसेज में क्या लिखा है?

संजय तिवारी नाम के शख्स ने फेसबुक पर एक किस्सा शेयर करते हुए लिखा है, ”किसी समय मैंने योगी का इंटरव्यू किया था. यहीं दिल्ली के नॉर्थ एवेन्यू वाले उनके फ्लैट में. इंटरव्यू के दौरान ही उनकी संध्या का वक्त हो गया. कड़क मिजाज योगी ने बातचीत बंद कर दी और किसी मुस्लिम लड़के को आवाज दी. एक 18-20 साल का नौजवान आया. उसने बताया कि उसने संध्या की व्यवस्था कर दी है और योगी पूजा करने चले गए.”

संजय ने आगे लिखा, ”मेरे लिए ये आश्यर्च की बात थी. बाद में मैंने पता किया तो मालूम हुआ कि ये मुस्लिम लड़का योगी आदित्यनाथ का सबसे करीबी है. दिन रात योगी के साथ रहता है. मुझे उसका नाम तो याद नहीं लेकिन बताया गया कि वो अनाथ बच्चा आया था योगी के पास. उसे उन्होंने अपने पास रख लिया. उसी नाम, धर्म, पहचान के साथ जो उसके अनाम मां-बाप ने उसे दिया था.” वायरल मैसेज में सबसे नीचे लिखा है, ”बनाई गई धारणाओं पर मत जाइए. दुनिया वैसी नहीं होती जैसी दिखाई जाती है.”

एबीपी न्यूज़ ने वायरल मैसेज की पड़ताल की
वायरल मैसेज का सच जानने के लिए एबीपी न्यूज दिल्ली में योगी आदित्यनाथ के सांसद आवास पहुंचा. हमने घर में मौजूद स्टाफ से बात करने की कोशिश की और वायरल हो रहे मैसेज की पड़ताल की. पड़ताल में हमें योगी आदित्यनाथ का रसोइया मिला जो उनके लिए पिछले कई सालों से खाना बना रहा है. उन्होंने अपना नाम मुख्तार बताया.
viral yogi cook pkg 2003 ma.00_16_52_22.Still002

एबीपी न्यूज की पड़ताल में पता चला कि योगी आदित्यनाथ के लिए खाना बनाने वाले शख्स का नाम मुख्तार जरूर है लेकिन वो मुसलमान नहीं हैं  मुख्तार भंडारी पिछले 25 सालों से योगी आदित्यनाथ के लिए खाना बना रहे हैं, यानी वायरल मैसेज झूठा है.

सिर्फ इतना जानने के बाद आप किसी नतीजे पर पहुंचे उससे पहले हम आपको ये बता दें कि योगी आदित्यनाथ को मुसलमानों से कोई परहेज नहीं है. क्योंकि योगी आदित्यनाथ जिस गोरखनाथ मठ के महंत हैं उस मठ में मुसलमान भी काम करते हैं

35 साल में मंदिर में अगर कोई नींव रखी गई तो वो योगी के लिए कम करने वाले मोहम्मद अंसारी की देखरेख में ही रखी गई. लाखों-करोड़ों रुपयों का भुगतान उन्हीं की अनुमति पर होता है. योगी मोहम्मद अंसारी के साथ बैठकर खाना भी खाते हैं.

First Published: Monday, 20 March 2017 8:35 PM

Related Stories