क्योटो के विकास के बारे में मोदी को दी गई विस्तृत जानकारी

By: | Last Updated: Sunday, 31 August 2014 8:38 AM
kyoto_pm_modi

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आज क्योटो के मेयर दाईसाका कादोकावा ने विस्तार से बताया कि इस आधुनिक शहर के निर्माण के दौरान जापान की सांस्कृतिक राजधानी की प्राचीन परंपरा का संरक्षण कैसे किया गया.

 

गौरतलब है कि भारत ने क्योटो की तर्ज पर वाराणसी का विकास करने के लिए एक समझौते पर कल ही हस्ताक्षर किए हैं. मेयर कादोकावा ने 40 मिनट से अधिक की प्रस्तुति में बताया कि खुद नागरिकों ने क्योटो की किस तरह सफाई की.

 

उन्होंने मोदी को बताया कि स्थानीय छात्रों ने शहर की सफाई में सक्रियता से भाग लिया और कचरा कम करके 40 फीसदी तक ला दिया.

 

उन्होंने बताया कि शहर से पोस्टरों और बिलबोडरें को हटाया गया और आज शेष बचे दो पोस्टर भी हटा दिए जाएंगे. उन्होंने बताया कि यह कार्य कई बरसों से चल रहा है.

 

लोकसभा में वाराणसी सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे मोदी चाहते हैं कि क्योटो के अनुभवों का उपयोग कर पवित्र शहर को ‘स्मार्ट सिटी’ के रूप में विकसित किया जाए.

 

मोदी ने मेयर को एक किताब भेंट की जिसमें उन्होंने लिखा ‘‘मैं बनारस का प्रतिनिधित्व करता हूं. मैं यहां जानने आया हूं कि क्योटो शहर का विकास कैसे हुआ.’’ उन्होंने वाराणसी का एक डिजिटल नक्शा भी मेयर को दिया जिसमें कहा गया है ‘‘मैं खुद को भारत और जापान के बीच संवाद को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित करना चाहूंगा.’’ मेयर ने कहा कि बौद्ध विरासत भारत से प्रेरित है.

 

बाद में मोदी ने कहा ‘‘जिस कारण के चलते मैं क्योटो आया हूं, वह है संस्कृति. क्योटो तमाम परेशानियों के बावजूद अपनी सांस्कृतिक धरोहर सहेजे हुए है. क्योटो ने अपनी सांस्कृतिक विरासत में आधुनिक जरूरतों को शामिल किया है. यह शहर सांस्कृतिक धरोहर की नींव पर तैयार किया गया. भारत में, हम भी एक विरासत शहर तैयार करने के लिए प्रयासरत हैं.’’ करीब 2000 मंदिरों और पवित्र स्थलों का शहर क्योटो नारा काल (794 ईस्वी) के अंत के बाद से इतिहास के चौराहे पर रहा है. करीब 1,000 साल से अधिक समय तक यह जापान की राजधानी रहा.

 

भारतीय राजदूत दीपा वाधवा और क्योटो के मेयर कादोकावा ने कल एक समारोह में एक भागीदार शहर समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए. समारोह में मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिन्जो एबे भी थे.

 

धरोहर के संरक्षण, शहर के आधुनिकीकरण और कला, संस्कृति तथा अकादमियों के क्षेत्र में सहयोग के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर प्रधानमंत्री मोदी के यहां पांच दिवसीय दौरे पर आगमन के तत्काल बाद किए गए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: kyoto_pm_modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Japan Kyoto PM Modi
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017