घोषणापत्र में लालू ने कहा- ये जंगलराज पार्ट 2 नहीं मंडलराज पार्ट 2 है

By: | Last Updated: Thursday, 10 September 2015 2:37 PM

एबीपी न्यूज के खास कार्यक्रम घोषणापत्र में लालू यादव ने कहा कि जंगलराज पार्ट 2 नहीं मंडलराज पार्ट 2 है.

 

सवाल- नीतीश कुमार से हाथ क्यों मिलाया? मुलायम भी आपके साथ नहीं हैं.

 

उत्तर-  मुलायम सिंह, नीतीश कुमार और जनता दल परिवार हम सब इकट्टठे हुए. मुलायम सिंह हमारे वरिष्ठ नेता ही नहीं हमारे समधी हैं. किन्ही कारणों से अलग हैं . हमारी लड़ाई बीजेपी से है. बीजेपी को हराना है.  जहां तक नीतीश कुमार की बात है हमारे छोटे भाई हैं. जनता पार्टी बनी हम सब इकट्ठे थे. नीतीश हमारा भाई हमारे विचारों का है. अब ये सब बातें खत्म हो गई. हम नीतीश का टांग खींच रहे थे और वह मेरा  इस बीच बीजेपी आगे निकल गई. नीतीश मुख्यमंत्री हो चुके हैं बस औपचारिकता बाकी है.

 

सवाल-नीतीश सुशासन की बातें करते हैं और आप मंडल की?

उत्तर. देखिए गठबंधन हो चुका है. वोटर मिल चुका है. हम या नीतीश कुमार कोई गलत उठाए तो जनता माफ नहीं करेगी.

 

हमारे खिलाफ अफवाह फैलाई गयी. सामंती सोच के लोगो के द्वारा. कब मैंने कहा था कि भूराबाल साफ करो.

 

सवाल- गठबंधन छोड़कर क्यों जा रहे हैं नेता?

उत्तर- मुलायम के समधी हम, नीतीश कुमार और कांग्रेस हम सभी एक साथ हैं.  रही बात नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ रहने से तो नीतीश कुमार उनके घर में घुसकर सांप्रदायिकता को देखा और नाता तोड़ दिया.

 

क्या नीतीश के राज में यादव वोटरों को शंका है, इस पर लालू यादव ने कहा कि मैं यहां बैठा हूं सब एक साथ हैं. हम 243 पर लड़ रहे हैं. हम कांग्रेस का प्रचार कर रहे हैं. नीतीश कुमार भी सभी जगह प्रचार करेंगे. मोदी गया गए तो सूखा पड़ गया नेपाल गए तो भूकंप आया.

 

सवाल-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार पैकेज से महागठबंधन में बौखलाहट क्यों?

उत्तर-  ये पैकेज नहीं है ये जुमला है.

 

आप जाति कार्ड खेल रहे हैं युवा और नीतीश कुमार विकास?

लोग भूमिहीन हैं. क्या उनके परिवार में युवा नहीं हैं. जब पीस नहीं रहेगा तो विकास कैसे होगा?

 

सवाल-बिहार चुनाव में जंगलराज बनाम मंडलराज का है?

उत्तर-मोदी जी ध्यान दीजिए आपका हाल क्या है गुजरात में. अटल बिहार वाजेपयी जी ने क्या कहा था. राजधर्म भी कोई चीज होता है. आडवाणी जी ने इनका बचाव किया. आप क्या कर रहे हैं अपने नेता के साथ.

 

अब पिछड़ा यदुवंशी गरीब सब गुस्से में हैं कि हमको मोदी ने जंगली बोला है.  सब लोग चुनाव में बता देंगे.

 

सवाल-क्या लालू परिवारवाद को बढ़ावा देते हैं?

उत्तर- डॉक्टर का बेटा डॉक्टर. सब दल में सब परिवार वाले रखे हैं. नेता का बेटा सेवा भाव से जा रहे हैं तो क्या बुराई है. सरकार बनने पर हमारे बटों की मजबूत भूमिका रहेगी. जिसको नहीं मिलता है वह चिल्ला रहे हैं. ये लोकतंत्र है लोग मुहर लगाएंगे.

 

कौन हैं लालू प्रसाद यादव?

लालू प्रसाद यादव 1948 में गोपालगंज के फुलवरिया में  कुंदन राय और मरछिया देवी के घर पैदा हुए थे. बचपन से ही तेज दिमाग और दूसरों से घुल-मिल जाने की कला ने लालू को कम उम्र में मशहूर कर दिया. कानून में बैचलर डिग्री और राजनीति विज्ञान में मास्टर्स करने वाले लालू ने बिहार वेटेनरी कॉलेज में क्लर्क की नौकरी भी की. लेकिन लालू के नसीब में नौकरी नहीं राजनीति लिखी थी.

 

राजनीति में लालू यादव छात्र जीवन में ही आ गए. पटना यूनिवर्सिटी छात्र संघ के सचिव और अध्यक्ष रहे लालू 1974 में जेपी के आंदोलन से जुड़ गए. इस आंदोलन में लालू की छवि एक हीरो की तरह बन गई. लालू की काबलियत देख उन्हें 1977 में ही जनता पार्टी से लोकसभा का टिकट मिला और वो सिर्फ 29 साल की उम्र में लोकसभा पहुंच गए.

 

पिछड़ों के हक के लिए लालू ने लंबी लड़ाई लड़ी और यही लड़ाई उन्हें बिहार की सत्ता तक भी ले गई. धरती का लाल कहा जाने लगा लालू को.

 

जनता पार्टी, जनता दल से होते हुए लालू ने खुद का राष्ट्रीय जनता दल बना ली. लालू ने 1990 से 2005 तक बिहार में शासन किया. 1997 में चारा घोटाले में नाम आने पर मुख्यमंत्री पद छोड़े, पत्नी राबड़ी देवी को सीएम बनाये. लालू जब यूपीए सरकार में रेल मंत्री थे तो स्टेशन पर कुल्हड़ की शुरूआत की. लालू के कार्यकाल में रेलवे फायदे में रहा. लालू यादव को अक्टूबर 2013 में चारा घोटाले में पांच साल की सजा मिली, सजा के साथ ही लालू की लोकसभा सदस्यता भी छिन गई. लालू का बुरा दौर 2014 में भी जारी रहा.

 

लोकसभा चुनाव में लालू की पार्टी को सिर्फ 4 सीट मिलीं. ऐसे में लालू को अपने पुराने दोस्त नीतीश की फिर याद आई और बरसों पुरानी दुश्मनी, दोस्ती में बदल गई. बिहार में मोदी से टक्कर लेने के लिए महागठबंधन खड़ा हो गया. बिहार चुनाव लालू और उनकी पार्टी के लिए सबसे बड़ा इम्तिहान है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: lalu prasad yadav
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017