मोदी के खिलाफ आज से शुरू करेंगे लालू और नीतीश अभियान

By: | Last Updated: Wednesday, 12 August 2015 2:14 AM

पटना/नई दिल्ली: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अपने डीएनए को लेकर की गयी टिप्पणी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वापस नहीं लिए जाने पर जेडीयू के ‘शब्द वापसी’ अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि वे इस मुद्दे को परिणति तक ले जाएंगे.

 

इस अभियान के तहत करीब 50 लाख लोगों के हस्ताक्षर तथा डीएनए नमूना जांच के लिए प्रधानमंत्री को भेजा जाना है.

 

मोदी के डीएनए वाले बयान पर शब्द वापसी अभियान आज से शुरू होगा. नीतीश-लालू साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में एलान करेंगे. आधी रात के बाद बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने जनता के तमाम सवालों के जवाब ट्विटर पर दिए,  लोगों से ”टेक बैक योर वर्ड्स” कैंपेन में शामिल होने की अपील भी की. DNA विवाद पर बोले नीतीश, कहा – हम सिर्फ मोदी जी को सिर्फ सैंपल भेज रहे हैं, सैंपल की जांच करना उनके हाथ में हैं ताकि वो संतुष्ट हो जाएं कि हमारे DNA में कुछ भी गलत नहीं है।

 

जब नीतीश से पूछा गया कि क्या जात-पात के आधार पर वोट मांगेंगे तो उन्होंने कहा कि, अपने काम और जनता पर पूरा भरोसा हैं इसलिए अपने काम के आधार पर ही वोट मांगेंगे.

 

ट्विटर पर जब नीतीश से बिहार में निवेश के मुद्दे पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा,”पिछले दस साल में बिहार में विकास दर 9.5 %(भारत – 7.6 %), प्रति व्यक्ति आय 16.9 %(भारत – 7%) ”

 

पटना के गर्दनीबाग में जेडीयू द्वारा शब्द वापसी अभियान की शुरूआत किए जाने के साथ नीतीश ने यहां संवाददाताओं से कहा कि हमारा डीएनए वही है, जो बिहारियों का डीएनए है. हमारे डीएनए में बिहार का जो अतीत है, वही है.

 

उन्होंने कहा कि बिहार के अंदर के लोगों की खासियत है कि यहां के लोग परिश्रमी होते हैं. यहां की युवा पीढ़ी मेधावी हैं.

 

नीतीश ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को डीएनए पर शक है तो बिहार भर के पचास लाख लोग अपना-अपना सैम्पल भेज देंगे. अगर उनको लगता है कि बिहारियों के डीएनए में गड़बड़ है तो जांच करा लें और फिर जांच की रिपोर्ट से अवगत करायें. हमलोग सैम्पल भेज रहे हैं तो उन्हें ही जांच करवाना होगा , खर्च तो वही करेंगे. उन्हें सोचना चाहिये था कि क्या बोल रहे हैं.

 

उन्होंने कहा कि वे सब कुछ बोलकर निकलना चाहते हैं, उन्हें निकलने नहीं दिया जायेगा. ‘‘उन्होंने बोला है तो हम इसके लॉजिकल एंड तक जायेंगे.’’ नीतीश ने कहा कि पूरे बिहार में अभियान चलाकर प्रधानमंत्री को डीएनए जांच के लिये पचास लाख सैम्पल भेजे जाएंगे.

 

उन्होंने कहा ‘‘हमलोग इंतजार कर रहे थे कि गया की रैली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने शब्द वापस ले लेंगे. हमलोगों ने विनम्रतापूर्वक शब्द वापस लेने के लिये आग्रह किया था. उनके डीएनए के बयान से करोडों बिहारवासियों की भावनाओं को ठेस पहुंची है तो शब्द वापस ले लेना चाहिये.’

 

नीतीश कुमार ने कहा कि अच्छा होता , अगर प्रधानमंत्री अपने शब्द वापस ले लेते. शब्द वापसी के लिये हमलोग अभियान चलायेंगे. व्यापक कार्यक्रम चलेगा और इस सिलसिले में लोग अपना-अपना सैम्पल प्रधानमंत्री को भेजेंगे. प्रधानमंत्री जांच करा लें कि डीएनए में क्या है उन्हें पता चल जायेगा. उन्होंने कहा कि कल उनके आवास पर संयुक्त संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया गया है जिसमें उनके साथ राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे.

 

गर्दनीबाग में शब्द वापसी अभियान के तहत जेडीयू कार्यकर्ताओं को, डीएनए जांच के लिए अपने बाल और नाखून काटकर उसे प्रधानमंत्री को भेजने के वास्ते एक पैकेट में रखते देखा गया.

 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शब्द वापसी अभियान की कल घोषणा करते हुए कहा था कि आगामी 29 अगस्त में पटना के गांधी मैदान में आयोजित होने वाली स्वाभिमान रैली के साथ इस अभियान के प्रथम चरण को पूरा किया जाएगा तथा आगामी सितंबर महीने में अभियान के दूसरे चरण में ‘शब्द वापसी’ के लिए हस्ताक्षर एवं डीएनए नमूना भेजने के इस अभियान को हम बिहार के कोने-कोने में हर घर तक ले जाएंगे और साथ ही राज्य के 4-5 क्षेत्रों में स्वाभिमान रैली का भी आयोजन करेंगे.

 

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर, गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा के अन्य वरिष्ठ नेताओं के सम्मान में दिए गए भोज को वापस लेने को लेकर प्रधानमंत्री ने गत 25 जुलाई को मुजफ्फरपुर की अपनी परिवर्तन रैली के दौरान कथित तौर पर नीतीश के डीएनए में गडबडी होने का आरोप लगाया था.

 

इस बीच राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने भाजपा पर कडी टिप्पणी करते हुए उससे पूछा है कि वह मध्यप्रदेश में व्यापम घोटाला पर चुप्पी क्यों साधे हुए है.

 

अपने ट्विटर अकाउंट पर लालू ने पूछा है ‘जंगलराज पर बड़बड़ाने वाला, व्यापमंराज पर कुछ क्यों नहीं बोलता? उसपर बोले तो संसद चले.. इतना दोगलापन?’’ लालू ने प्रधानमंत्री द्वारा गया में संपन्न रैली के दौरान किए गए प्रहार पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है. प्रधानमंत्री ने कथित तौर पर कहा था कि प्रसाद का जेल से लौटने पर वहां का अनुभव ‘जंगलराज टू’ को और अधिक खतरनाक बना देगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: lalu_nitish
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017