LIVE: केजरीवाल को कांग्रेस का समर्थन लेकिन उठाए सवाल, बिजली पर हम भी सब्सिडी देते थे और आपने भी दी तो फिर हममें और आपमें क्या फर्क है?

By: | Last Updated: Thursday, 2 January 2014 2:58 AM
LIVE: केजरीवाल को कांग्रेस का समर्थन लेकिन उठाए सवाल, बिजली पर हम भी सब्सिडी देते थे और आपने भी दी तो फिर हममें और आपमें क्या फर्क है?

नई दिल्ली: 28 विधायकों वाली अल्पमत की आम आदमी पार्टी की सरकार आज विधानसभा में बहुमत साबित करेगी. आज विधानसभा में विश्वास मत के जरिए अरविंद केजरीवाल अपना बहुमत साबित करेंगे.


लाइव-

कांग्रेस ने विश्वास प्रस्ताव का समर्थन किया-

कांग्रेस नेता अरविंदर सिंह लवली ने बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इस आंधी में भी आप सत्ता में नहीं आये तो उधर ही बैठे.

-कांग्रेस ने विश्वास प्रस्ताव का समर्थन किया, कहा- हम अपनी गलती का खामियाजा भुगत रहे हैं लेकिन बीजेपी हमेशा विपक्ष में ही रहेगी.

 

कांग्रेस नेता अरविंद लवली ने कहा कि पानी दिल्ली वालों के लिए महंगा हो गया है. मुफ्त पानी केवल मीटर वालों के लिए है तो मीटर केवल अच्छे और महंगे कॉलोनियों में हैं.

 

बिजली पर हम भी सब्सिडी देते थे और आपने भी दी तो फिर हममें और आपमें क्या फर्क है. सस्ती बिजली पर 1350 करोड़ रुपया देना होगा. सिर्फ 200 करोड़ सब्सिडी की बात करना गलत है. सरकार को अफसर गुमराह कर रहे हैं.

बीजेपी नेता डॉ. हर्षवर्थन ने उठाए सवाल- कांग्रेस से किस मजबुरी में हाथ मिलाया? विश्वास प्रस्ताव का विरोध किया


-आपने 10 प्रतिशत दिल्ली के लोगों के पानी का बिल क्यों बढ़ा दिया? आपने झुग्गी झोपडियों के लोगों के साथ अन्याय किया है. हमने कहा था कि हर घर के अंदर सोलर ऊर्जा का केंद्र बना देंगे. हमने गुमराह करने की कोशिश नहीं की थी.


-आपने 10 प्रतिशत दिल्ली के लोगों के पानी का बिल क्यों बढ़ा दिया? आपने झुग्गी झोपडियों के लोगों के साथ अन्याय किया है.

-हम किसी भी किमत पर ना कोई खरीद फरोख्त करना चाहते हैं. ना ही किसी पार्टी को डिस्टर्ब करना चाहते हैं. आपने उस समय कहा कि ये बीजेपी के लोगों को चार लोग खरीद लेने चाहिए थे. आपने ये नहीं बताया कि आपके कौन से चार लोग बिकाऊ थे जिसे हम खरीद सकते.

मेट्रो ट्रेन में चलना कोई बड़ी बात नहीं है. मैं भी मेट्रो से जाता हूं लेकिन फोटो नहीं खिंचवाई. राजनीति में सादगी के हम भी पक्षधर हैं. रामलीला मैदान में 4000 सुरक्षाकर्मी लगाये गये.

-दिल्ली में जनलोकपाल कानून पारित करने के लिए लोगों से झूठ बोला

– शीला को जेल भेजने की बात केजरीवाल ने किया था. वे कांग्रेस को भ्रष्ट कहते रहे. बीजेपी नेता हर्षवर्धन ने विधान सभा में कहा कि केजरीवाल ने समर्थन न लेने की कसम खाई थी. फिर भी भ्रष्ट पार्टी से हाथ मिलाया.

 

– बीजेपी नेता डॉ. हर्षवर्धन ने सवाल उठाए- कांग्रेसियों को जेल भेजने के वादे का क्या? ऐसी क्या मजबुरी थी जो भ्रष्ट कांग्रेस से हाथ मिला लिया?
 

-अरविंद केजरीवाल जिस पार्टी को सबसे खराब बोलते थे..जिनके खिलाफ उन्होंने चुनाव लड़ा..उन्ही से बहुतम लिया. केजरीवाल ने कहा था कांग्रेस सरकार के खिलाफ जितने भी घोटाले हैं उनकी जांच करेंगे. सरकार के सारे मंत्रियों के खिलाफ भी करेंगे. सारे अधिकारियों के खिलाफ भी करेंगे. जनता जानना चाहती है कि ऐसी कौन सी मजबुरी थी जो उन्होंने कांग्रेस से समर्थन लिया.

 

यह विडंबना ही है कि जो पार्टी 15 साल से  राज कर रही थी वो 8 पर ही सिमट गई. जिसे ज्यादा सीटें मिली वो विपक्ष में बैठी है और जिसे 28 सीटें मिली वो सरकार चला रही है. अरविंद ने कहा था कि कांग्रेस से ना समर्थन लेंगे ना देंगे. सभी के मन में उनके लिए आदर उत्पन्न हुआ था. उसी पार्टी के साथ गठबंधन की सरकार बनाई.

 

मनीष सिसौदिया ने प्रस्ताव पेश किया-

-मनीष सिसोदिया ने विधान सभा में विश्वास प्रस्ताव पेश करते हुए कहा कि दिल्ली में स्वराज का कानून देंगे. साथ ही यह भी कहा कि पानी व बिजली का वादा आम आदमी पार्टी ने पूरा किया. सिसोदिया ने कहा कि जब सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी ने सरकार बनाने से इंकार किया तब नैतिक जिम्मेदारी निभाते हुए सरकार बनाई.

 

-मंत्री मनीष सिसोदिया ने विधान सभा में विश्वास प्रस्ताव पेश करते हुए कहा कि दिल्ली की जनता ने हमें नैतिक बहुमत दिया है.

क्या है विश्वास मत का गणित-

 

सरकार को बाहर से समर्थन दे रही कांग्रेस ने विश्वास मत से पहले फिर साफ किया उसके सारे विधायक आप के पक्ष में वोट करेंगे. दिल्ली में बहुमत परीक्षण से एक दिन पहले कांग्रेस महासचिव शकील अहमद ने कहा कि आप अपने विधायकों को बचाकर रखे.
 

70 सदस्यों की विधानसभा में बीजेपी के पास 32 विधायक हैं जबकि आप के पास 28, कांग्रेस के पास 8, जेडीयू का एक और एक विधायक निर्दलीय है. आप के 28 विधायकों के अलावा कांग्रेस के 8, जेडीयू के एक और एक निर्दलीय विधायक सरकार के साथ हैं. ऐसे में अरविंद केजरीवाल को बहुमत साबित करने में दिक्कत नहीं होगी.

 

6 विधायक गैरहाजिर तो गिरेगी सरकार

अगर आप, कांग्रेस, जेडीय़ू या निर्दलीय में से 6 विधायक गायब हुए तो केजरीवाल की सरकार गिर जाएगी. 6 विधायकों के अनुपस्थित रहने पर सदन की ताकत होगी 64… और बहुमत के लिए जरूरत होगी 33 विधायकों की. ऐसे में आप के पास रह जाएंगे सिर्फ 32 विधायक और सरकार गिर जाएगी.

 

 

बहुमत साबित करने से पहले एक जनवरी को दिल्ली के नवनियुक्त मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व अन्य नव निर्वाचित विधायकों ने बुधवार को दिल्ली विधानसभा के सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण किया. पिछले महीने हुए विधानसभा चुनाव और नई सरकार के गठन के बाद विधानसभा के पहले सत्र की शुरुआत बुधवार को हुई है.
 

सरकार के खिलाफ वोट करेगी बीजेपी
विश्वासमत से पहले बीजेपी ने साफ कर दिया है कि पार्टी के विधायक केजरीवाल की सरकार के खिलाफ वोट करेंगे. बीजेपी की ओर से व्हिप भी जारी कर दिया गया है.

 

दिल्ली कॉंग्रेस के प्रभारी शकील अहमद ने एबीपी न्यूज से कहा कि तकनीकी तौर पर चीफ व्हिप अभी नहीं बना है, इसलिए व्हिप जारी नहीं किया गया है. सभी 8 विधायकों से बात हो गई है और सभी पार्टी के निर्णय के मुताबिक आप की सरकार का समर्थन करेंगे.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: LIVE: केजरीवाल को कांग्रेस का समर्थन लेकिन उठाए सवाल, बिजली पर हम भी सब्सिडी देते थे और आपने भी दी तो फिर हममें और आपमें क्या फर्क है?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ?????? ????????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017