LIVE: दिल्ली गैंगरेप के दोषियों को उम्रकैद या फांसी? फैसला आज

LIVE: दिल्ली गैंगरेप के दोषियों को उम्रकैद या फांसी? फैसला आज

By: | Updated: 12 Sep 2013 09:06 PM


01:27 PM: सभी दोषियों
को कोर्ट में लाया गया. कमरा
नंबर तीन में फैसला सुनाया
जाएगा.





12:52 PM: बचाव पक्ष के
वकील का कहना है कि राजनीतिक
दबाव है.





12:02 PM: एबीपी न्यूज़ पर
जारी बहस में कांग्रेस नेता
अलका लांबा का कहना है कि अगर
इन दोषियों को मौत की मौत की
सजा नहीं मिली तो गलत मैसेज
जाएगा. 




12:01 PM: आज दोपहर 2.30 बजे साकेत
कोर्ट से आएगा फैसला.





12:00 PM: दिल्ली के साकेत कोर्ट
परिसर में दिल्ली गैंगरेप के
दोषियों की सजा के एलान की
कवरेज के लिए मीडिया का
जमावड़ा बढ़ना शुरू हो गया
है.










नई दिल्ली:  दिल्ली
गैंगरेप के चारों दोषियों को
क्या सजा मिलेगी इसका फैसला
आज दोपहर को हो आएगा. बुधवार
को सजा पर बहस पूरी होने के
बाद कोर्ट ने फैसला सुरक्षित
रख लिया था. मंगलवार को चारों
आरोपियों को हत्या और
गैंगरेप का दोषी ठहराया गया
था. दोषियों को अधिकतम फांसी
और कम से कम उम्रकैद की सजा हो
सकती है.




अभियोजन पक्ष ने सभी
आरोपियों के लिए मौत की सजा
मांगी है. बुधवार को बहस पुरी
होने के बाद अदालत ने
शुक्रवार तक फैसला सुरक्षित
रख लिया था.




ग़ौरतलब है कि देश के सबसे
बहुचर्चित और बर्बर दिल्ली
गैंगरेप केस में साकेत की
फास्ट ट्रैक कोर्ट ने
मंगलवार को चारों आरोपियों
को हत्या, गैंगरेप और डकैती
का दोषी पाया था. दोषियों की
मौत या उम्रकैद की सजा मिलती
है इस फैसले पर दुनियाभर की
निगाहें रहेंगी, क्योंकि इस
घटना ने आम जनता को झकझोर
दिया था.




हत्या के दोषी











साकेत कोर्ट के अतिरिक्त
सत्र न्यायाधीश योगेश खन्ना
ने इस मामले के चार आरोपियों,
मुकेश, पवन गुप्ता, विनय
शर्मा और अक्षय ठाकुर को दोषी
ठहराया.




फैसले की अहम बात यह रही है कि
कोर्ट ने आरोपी विनय को भी
दोषी माना है जिसकी ओर से
मौके पर नहीं होने का दावा
किया जा रहा था.




चारों आरोपियों पर अन्य
आरोपों के साथ-साथ गैंगरेप,
हत्या, हत्या का प्रयास,
अप्राकृतिक अपराध, सुबूतों
को नष्ट किए जाने और लूट के
मामले दर्ज थे और अदालत ने इस
भी मामलों में उन्हें दोषी
पाया. अदालत ने सभी आरोपियों
को ताज़ीरात-ए-हिंद की दफा 302,
376(2जी) 377, 307, 365, 366, 396, 395, 397, 412, 201, 120 बी
और 34 के तहत दोषी पाया.




मिलेगी मौत की सज़ा?




अब सब के जेहन में सवाल है कि
क्या इन्हें मौत की सजा
मिलेगी, क्योंकि देश के सामने
एक नजीर पेश हो और फिर ऐसी
हरकतें करने वालों के दिलों
में खौफ पैदा हो.




ग़ौरतलब है कि राष्ट्रीय
राजधानी दिल्ली में पिछले
साल 16 दिसंबर को चलती बस में
एक युवती के साथ गैंगरेप की
घटना घटी थी. इस घटना के छह
आरोपियों में से 4 आरोपियों
पर फैसला आया.




एक आरोपी ने केस की सुनावाई
के दौरान जेल में खुदकुशी कर
ली थी, जबकि एक नाबालिग आरोपी
को जूवेनाइल जस्टिस बोर्ड
तीन साल की सजा दे चुका है.




याद रहे कि इस बर्बर घटना
के बाद फैले व्यापक जनाक्रोश
के कारण केंद्र सरकार को सख्त
एंटी रेप कानून बनाना पड़ा
था.




इस मामले में आरोपी नाबालिग
को किशोर न्याय बोर्ड ने 31
अगस्त को तीन वर्ष किशोर
सुधार गृह में बिताने की सजा
सुनाई. हालांकि नाबालिग के
खिलाफ न्यायालय के फैसले पर
पीड़ित के परिवार वालों ने
नाराजगी जाहिर की थी और
नाबालिग को और सख्त सजा दिए
जाने की इच्छा जाहिर की थी.




अदालती सुनवाई

इस
मामले में तीन जनवरी को
आरोपपत्र दाखिल हुआ और पांच
फरवरी को सुनवाई शुरू हुई.
अभियोजन पक्ष ने 85 गवाह पेश
किए जबकि बचाव पक्ष के 17
गवाहों के बयान लिए गए.




पुलिस ने अपने आरोपपत्र में
कहा था कि घटना में नाबालिग
ने पीड़ित के साथ सबसे अधिक
बर्बरता वाला व्यवहार किया
था.




मामले में कुल पांच व्यक्ति
आरोपित थे, लेकिन मुख्य आरोपी
राम सिंह ने सुनवाई के दौरान
तिहाड़ जेल में न्यायिक
हिरासत में फांसी लगाकर
आत्महत्या कर ली थी.




क्या हुआ था 16 दिसंबर को




16 दिसंबर 2012 को
दिल्ली के मुनिरका में चलती
बस में गैंगरेप की वारदात हुई
थी. आरोपियों ने पीड़ित को
उसके दोस्त के साथ पहले बस
में बैठाया था. बाद में
गैंगरेप के बाद दोनों को बस
से फेंक दिया था.




पीड़ित लड़की का पहले
सफदरजंग अस्पताल में इलाज
किया गया. घटना के 13 दिन बाद
सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ
अस्पताल में पीड़ित की उपचार
के दौरान मौत हो गई थी.




दिल्ली गैंगरेप के बाद पूरे
देश में विरोध प्रदर्शन हुआ
था. देश के गुस्से को देखते
हुए सरकार ने यौन अपराधों से
निपटने के लिए जस्टिस वर्मा
कमेटी का गठन किया. वर्मा
कमेटी की ज्यादातर
सिफारिशों को स्वीकार करते
हुए सरकार ने क्रिमिनल लॉ
अमेंडमेंट एक्ट 2013 बनाया, जिस
पर 2 अप्रैल को राष्ट्रपति की
भी मुहर लग चुकी है.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पर्रिकर को मुंबई के अस्पताल से मिली छुट्टी, गोवा विधानसभा में किया बजट पेश