LIVE CHAT में आज शाम 5 बजे आपके साथ होंगे एबीपी न्यूज़ के एंकर किशोर अजवाणी

LIVE CHAT में आज शाम 5 बजे आपके साथ होंगे एबीपी न्यूज़ के एंकर किशोर अजवाणी

By: | Updated: 06 May 2014 10:48 AM
नई दिल्ली: कल यानी बुधवार को लोकसभा के आठवें चरण के लिए 64 सीटों पर वोट डाले जाएंगे. इनमें यूपी की 15, बिहार की सात और आंध्र प्रदेश की 25 सीटें शामिल हैं. यूपी में जिन 15 सीटों के लिए मतदान होने वाले हैं वहां पिछले चुनाव में बीजेपी को एक सीट भी नहीं मिली थी, जबकि एपी में बीजेपी हाशिए पर है. ऐसे में इस चरण का चुनाव बीजेपी के लिए खासा अहम है.

 

जब चुनाव अहम हैं तो बहस का तेज़ और तीखी होना लाज़मी है. एबीपी न्यूज़ और www.abpnews.in इस बहस में अपने दर्शकों और पाठकों को भी शामिल करना चाहता है.

 

इसी कड़ी में आज चुनावों से जुड़े सवाल का जबाव देने के किए आप के साथ होंगे एबीपी न्यूज़ के एंकर किशोर अजवाणी.

 

शाम 5 बजे से लगातार आधे घंटे तक आपके साथ रहेंगे किशोर अजवाणी. आपके हर सवालों का बिना लाग-लपेट देंगे जवाब.

 

कैसे पूछेंगे सवाल?

 

अगर आप सवाल पूछना चाहते हैं तो आप www.abpnews.abplive.in/livechat/ के लिंक पर जा सकते हैं. इस लिंक पर जाने के बाद आप facebook, twitter या फिर chatroll.com से लॉगिन कर सकते हैं.

 

कौन हैं किशोर अजवाणी?

 

किशोर अजवाणी, एबीपी न्यूज़ पर ‘एबीपी लाइव’ को एंकर करते हैं, रात 9 से 10, सोमवार से शुक्रवार. 13 साल से टेलिविज़न पत्रकारिता कर रहे किशोर की शुरुआती पढ़ाई दिल्ली में हुई. इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में बी.ई. करने के बाद किशोर ने कुछ वर्ष तक एक इंजीनियर के तौर काम किया. फिर प्रतिष्ठित दिल्ली स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स से पोस्ट-ग्रैजुएशन की डिग्री हासिल की और कम्युनिकेशन्स में एमबीए किया अहमदाबाद के माइका से. कुछ साल विज्ञापन की दुनिया में काम करने के बाद किशोर ने टेलिविज़न न्यूज़ की दुनिया में क़दम रखा और पिछले 6 साल से एबीपी न्यूज़ में हैं. एंकरिंग के अलावा किशोर अर्थ जगत की ख़बरों की रिपोर्टिंग भी कर चुके हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story राजस्थान विधानसभा भवन में 'बुरी आत्माओं' का साया, हवन कराने की मांग