जो सदियों की सोचते हैं वह इंसान बनाने की सोचते हैं: मोदी

By: | Last Updated: Friday, 5 September 2014 9:18 AM
LIVE: Modi lecture on Teachers day

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देशभर के छात्रों को संबोधित किया साथ ही उन्होंने स्कूली बच्चों के सवालों के जवाब दिए. एक छात्र के सवाल के जवाब में मोदी ने कहा कि उन्हें 2024 तक पीएम पद का खतरा नहीं है.

 

जब मोदी से छात्र ने ये सवाल किया कि वे देश का प्रधानमंत्री कैसे बन सकते हैं तो जवाब में मोदी पहले हंसे और फिर जो कहा वो आप में कई नए सवाल पैदा करता है.

 

मोदी ने कहा, 2024 के चुनाव की तैयारी करो. और  इसका मतलब ये हुआ कि तब तक मुझे कोई खतरा नहीं है.

 

पीएम ने हंसते-हंसते बच्चों के बहाने विरोधियों को भी ये बताने की कोशिश है कि अगले दस साल तक किसी और का नंबर नहीं लगने वाला.

 

पीएम की इस पाठशाला को लेकर जहां बच्चे खुश दिखे जबकि विरोधी पार्टी के नेता मोदी सर को कोई नंबर नहीं देने के मूड में हैं.

 

कार्यक्रम को लेकर विरोधी पहले से सवाल उठा रहे थे. दिल्ली के छात्र चिराग ने तो इससे मिलता जुलता सवाल भी पूछ लिया कि इस कार्यक्रम ने उन्हें क्या फायदा होने वाला है.

 

दिल्ली की छात्रा प्रेरणा ने पीएम से पूछ दिया कि निजी जिंदगी में आप कैसे इंसान हैं. जवाब में पीएम ने खुद को टास्क मास्टर बताया.

 

शुरुआत में प्रधानमंत्री ने 17 मिनट का भाषण दिया और करीब सवा घंटे तक देश भर के बच्चों के सवाल का जवाब दिया. बच्चों के बीच पीएम बच्चे भी बने और अपने बचपन की शरारतों को याद कर खूब खुश भी हुए.

 

पल-पल का अपडेट

 

#  मोदी ने अपना संबोधन खत्म किया.

 

# रोज़गार देने वाली शिक्षा पर मोदी से सवाल? मोदी का कहना है कि दुनिया के हर देश में स्किल पर जोर है. रोज़गार पाने वाले काम आने चाहिए…हमारे पास डिग्री हो उसके साथ ही हाथ में हुनर होना जरूरी है.

 

#  कैसे बचाएं बिजली? मोदी का कहना है कि कोशिश रहे कि जब रुम से निकले तो फैन को बंद कर दें.. क्लास बंद हो तो फैन बंद कर दें.. बिजली ही क्यों हमें पानी भी बचाना चाहिए…

 

# डिजिटल इंडिया का सपना पूरा करना हमारा सपना है, इसके माध्य से शिक्षा को बढ़ावा देना है- मोदी

 

#  क्या राजनीतिक का पेशा एक मुश्किल काम है? काम के दबाव को कैसे नियंत्रण करते हैं? इस सवाल के जबाव में मोदी का कहना है कि वह राजनीति को पेशा नहीं मानते, ये सेवा है.  जब मुझे लगता है कि 1.25 अरब लोग मेरे भाई हैं, मेरा परिवार है… तो मुझे थकान नहीं लगती.

 

#  पर्यावरण की रक्षा कैसे करें…. इस पर मोदी ने कहा कि हमें खुद बदलने की जरूरत है. प्रकृति के प्रति हमें प्रेम करना चाहिए. हम प्रकृति के साथ जीना भूल गए हैं.

 

#  बालिकाओं के लिए स्कूल में टॉयलेट बने. बच्चियां स्कूल नहीं छोड़ें, इसे लेकर हमारी कोशिश जारी है

 

मोदी की शरारत

# एक छात्रा का सवाल, मोदी जी आपने छात्र जीवन में क्या शरारत की है? … कोई बालक ऐस नहीं हो सकता जो शरारत नहीं करे. मैं भी शररात करता था.  हम शरारत के तौर पर शहनाई बजाने वालों के सामने ईमली ले जाते थे.  शादी की महफिल में जब कोई पुरुष और महिला खड़े होते थे तो हम उनके कपड़े में स्टैपलर लगा देते थे.  पर आप ऐसा नहीं करेंगे.

# शिक्षकों को सभी छात्रों को सम्मान रुप से व्यहार करना चाहिए- मोदी

 

# जापान में छात्रों का ग़ज़ब अनुशासन है. जापान में बच्चों को स्कूल नहीं छोड़ते-मोदी

 

# जब इंफाल से निक्शन ने सवाल किया कि मोदी जी मैं देश का पीएम कैसे बन सकता हूं  — इस पर मोदी ने कहा कि वे 2024 का चुनाव लड़ें और देश में लोकतंत्र है और कोई भी इस देश का पीएम बन सकता है.

 

# मोदी ने कहा कि टीवी की वजह से बच्चों से सवाल किए गए कि वे बताएं कि वे पीएम से क्या सवाल करेंगे. एबीपी न्यूज़ पर सुबह से ही दिखाया जा रहा है कि आपका मोदी से क्या सवाल होगा.

 

# जब पीएम से पूछा गया कि शिक्षक दिवस पर आपको क्या लाभ होगा… मोदी ने कहा कि कुछ काम लाभ के लिए नहीं किए जाते…. उन्होंने एबीपी न्यूज़ का नाम न लिए बिना हमारी रिपोर्टिंग की तारीफ की.

 

# कुछ करने की सोचें और अगर थोड़ी बहुत सफलता मिल जाती है तो भी संतोष होना चाहिए- मोदी

 

# कभी मॉनिटर का चुनाव नहीं लड़ा, पीएम बनने का सपना नहीं सोचा- मोदी

 

# मोदी पर किसका ज्यादा असर है शिक्ष या अनुभव- इस सवाल पर मोदी का कहना है कि ये कहा जाता है कि अनुभव सबसे बड़ा शिक्षक है… लेकिन मैं मानता हूं कि शिक्षा संस्कार का जीवन में बहुत बड़ा दखल है.

 

# मोदी का दिनचर्या है– ऑफिस से घर और घर से ऑफिस. जब एक छात्र ने मोदी से पूछा कि गांधीनगर से दिल्ली आने के बाद क्या बदला तो उन्होंने कहा, अब ज्यादा सचेत रहना पड़ता है. जगह बदलने में जीवन में फर्क नहीं पड़ता.

 

# मोदी अब बच्चों से बातचीत करेंगे

 

# मोदी ने अपना संबोधन खत्म किया.

 

# सिर्फ गूगल  पर निर्भर नहीं रहें, जानकारी तो मिल जाएगी, पर ज्ञान नहीं मिलेगा

 

# जीवन चरित्र को पढ़ना चाहिए, जिससे इतिहास के करीब पहुंचने में मदद मिलती है- मोदी

 

# खेलखूद से जीवन खिलता है- मोदी

 

# दिनभर में चार बार पसीना निकलना चाहिए- मोदी

 

# आधुनिक विज्ञान से बच्चों को आगे बढ़ाना चाहिए- मोदी

 

#  मैं नहीं मानता हूं कि परिस्थियां किसी को रोक पाती हैं- मोदी

 

# हम राष्ट्र निर्माण को जन आंदोलन से जोड़े, हर किसी की शक्ति को जोड़ने की जरूरत है – मोदी

 

# सप्ताह में एक पीरियड उन बच्चों को पढ़ाने का तय करें तो अनपढ़ हैं- मोदी

 

# जापान में छात्र-शिक्षक मिलकर सफाई का काम करते हैं- मोदी

 

# चीन में कहावत है, जो लोग साल की सोचते हैं वो अनाज बोते हैं, जो दस साल का सोचते हैं वो फल बोते हैं और जो सदियों  की सोचते हैं वो इंसान बनाना सोचते हैं- मोदी

 

# बहुत बच्चे शिक्षक की बात मानते हैं- मोदी

 

# गांव में पहले आदरणीय शिक्षक होते थे-मोदी

 

# बच्चों में अच्छे शिक्षक का भाव जगाना जरूरी है- मोदी

 

# आज विश्व में अच्छे टीचर्स की मांग है, क्या भारत इस मांग को पूरी नहीं कर सकता- मोदी

 

# क्या कराण है कि बहुत ही तेज़ छात्र टीचर बनना पसंद क्यों नहीं करते- मोदी

 

# हमें कोशिश करने की चाहिए कि जानें कि समाज में शिक्षा महकमे का महत्व क्या है- मोदी


#  शिक्षा दिवस पर देश के सपने यानी बच्चों से संवाद करने को मोदी ने खुद के लिए सौभाग्य बताया.

 

# मोदी ने बोलना शुरू किया.

 

# अभी स्कूली बच्चे अपनी बात रख रहे हैं. 

 

# मोदी से पहले एक छात्रा ने देश के दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन और उनकी शख्सियत पर रोशनी डाली.

 

#  राधाकृष्णन के ही जन्मदिन पर शिक्षा दिवस मनाया जाता है.

 

# मानेक शॉ स्टेडियम में पीएम से पहले एक छात्रा ने छात्र दिवस के इतिहास पर रोशनी डाली.

 

# मोदी से बोलने से पहले शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी अपनी बात रख रही हैं.

# मोदी मानेक शॉ स्टेडियम पहुंच चुके हैं.

 

# मोदी दिल्ली के मानेक शॉ स्टेडियम से पीएम मोदी बच्चों को संबोधित करेंगे.

 

 

 

# चंद मिनट बाद मोदी बच्चों को संबोधित करेंगे.

 

 

 

मोदी की पाठशाला: शिक्षक दिवस पर दोपहर तीन बजे स्कूली बच्चों को संबोधित करेंगे पीएम

 

 

देखें लाइव अपडेट: