मनुष्यों में नए अंग उगा सकती है छिपकली की पूंछ

By: | Last Updated: Friday, 22 August 2014 4:22 AM
Lizard’s tail can grow new organs in human body

न्यूयार्क: छिपकली की पूंछ प्राचीन समय से मानवजाति को आकर्षित करती रही है. छिपकली की पूंछ का खुद से झड़ना और फिर नई पूंछ उग आना मनुष्य के लिए कौतूहल का विषय रहा है. लेकिन वैज्ञानिकों ने अब इस रहस्य का पता लगा लिया है कि आखिर कैसे छिपकली नई पूंछ उगा सकती है.

 

वैज्ञानिकों ने वह आनुवांशिक नुस्खा खोज निकाला है, जो छिपकली में अंग के पुनर्निमाण के लिए कारक है. वैज्ञानिकों का कहना है कि आनुवांशिक सामग्रियों के सही मात्रा में मिश्रण से यह संभव हो सकता है.

 

छिपकली में पाए जाने वाले अंग पुनर्निमाण के आनुवांशिक नुस्खे का पता लगाकर उन्हीं जीन को मानव कोशिका में आरोपित कर उपास्थि, मांसपेशी और यहां तक कि रीढ़ की हड्डी की पुर्नसरचना भविष्य में संभव हो सकती है.

 

एरीजोना स्टेट यूनिवर्सिटी की केनरो कुसुमी ने कहा, ‘दरअसल छिपकली में भी वही जीन होते हैं जो मनुष्यों में होते हैं, वे मनुष्यों की शारीरिक संरचना से सबसे ज्यादा मेल खाने वाले जीव हैं’

 

कुसुमी ने कहा, ‘अंग की पुर्नसंरचना में शामिल जीनों के पूरी जानकारी हासिल कर अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से हम इस रहस्य को सुलझा सकते हैं कि आखिर छिपकली की पूंछ के दोबारा उगने के लिए जीनों को किन-किन कारकों की आवश्यकता होती है’.

 

जर्नल ‘पीएलओएस ओनएई’ में प्रकाशित शोध में कहा गया कि इस खोज से रीढ़ की हड्डी की चोट, जन्म संबंधी विकृतियां और गठिया जैसे रोगों को ठीक करने में मदद मिल सकती है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Lizard’s tail can grow new organs in human body
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017