धोती पहनने के कारण हाई कोर्ट के जज को नहीं मिली क्लब में इंट्री

By: | Last Updated: Sunday, 13 July 2014 1:54 PM

चेन्नई: मद्रास हाई कोर्ट के धोती पहने एक जज को एक क्लब में प्रवेश देने से इंकार करने पर विवाद पैदा हो गया है. द्रमुक ने जहां घटना की निंदा की है वहीं माकपा ने मुद्दे को कल तमिलनाडु विधानसभा में उठाने की बात कही जिसका फिलहाल सत्र चल रहा है.

 

द्रमुक प्रमुख एम. करूणानिधि और टीएनसीसी के अध्यक्ष बी. एस. गनानादेसिकन ने कहा कि सरकार को सार्वजनिक समारोहों में किसी भी तरह के ड्रेस कोड को हटाने के कदम उठाने चाहिए.

 

करूणानिधि ने कहा कि वेती (धोती) तमिलनाडु की संस्कृति का हिस्सा है और यह ‘निंदनीय’ है कि किसी को सार्वजनिक समारोह में परंपरागत वस्त्र पहनने से रोका जाए.

 

करूणानिधि ने आज यहां बयान जारी कर कहा, ‘‘इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए सरकार को ड्रेस कोड हटाने पर स्वत: संज्ञान लेकर सलाह जारी करना चाहिए .’’ मद्रास हाई कोर्ट के न्यायाधीश डी. हरिपराथमन को तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन क्लब में हाल में धोती पहनकर घुसने से रोक दिया गया था.

 

वह जब हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश टी. एस. अरूणाचलम के पुस्तक विमोचन समारोह में शिरकत करने के लिए अपने सरकारी वाहन से क्लब परिसर में उतरे तो क्लब के कुछ कर्मचारियों ने उनसे कहा कि वह धोती पहनकर परिसर में प्रवेश नहीं कर सकते क्योंकि पदाधिकारियों की तरफ से उन्हें निर्देश है कि क्लब में ड्रेस कोड का उल्लंघन करने वाले किसी भी व्यक्ति को प्रवेश नहीं करने दिया जाए.

 

न्यायाधीश ने घटना को ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ करार दिया है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: madras high court judge
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017