महाराष्ट्र सरकार जेलों में योग और ध्यान शुरू करेगी

By: | Last Updated: Friday, 5 June 2015 2:21 AM

मुंबई/नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर महाराष्ट्र सरकार ने 21 जून से राज्यभर के कैदियों के लिए शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक प्रशिक्षण शुरू करने का फैसला किया है. यह कैदियों को अवसाद से छुककारा दिलाने में सहायता करेगा.

 

गृह (ग्रामीण) राज्य मंत्री राम शिंदे ने बताया कि दोषियों को जेल इसलिए भेजा जाता है ताकि वे सुधर जाएं और योग ने वैज्ञानिक तौर पर यह साबित किया है कि वह कुत्सित सोच में सुधार में सहायता करता है. इसलिए हमने 21 जून से राज्य की सभी जेलों में योग और ध्यान को शामिल करने का फैसला किया है.

 

उन्होंने बताया कि राज्य की तकरीबन 50 जेलों में लगभग 28000 कैदी हैं.

 

मंत्री ने कहा कि इनमें से, हमने पाया कि तकरीबन 10 से 15 फीसदी कैदी अवसाद से ग्रस्त हैं. योग और ध्यान उनके मस्तिष्क पर सकारात्मक प्रभाव डालेगा और वे आइस्ता आइस्ता अवसाद से बाहर आ सकेंगे.

 

शिंदे ने कहा कि हमने इस उद्देश्य के लिए शिक्षकों को रखा है, जो एक सप्ताह कैदियों को तकनीकों से रू-ब-रू कराएंगे. एक बार एक निश्चित संख्या में कैदी मूल तकनीक सीख गए तो वे आगे आ सकते हैं और अन्य कैदियों को सिखाएंगे.

 

शिंदे ने कहा कि सरकार आकाशवाणी की तर्ज पर ‘‘सुधारवाणी’’ भी शुरू करेगी जो कैदियों की आध्यामिकता को जगाएगी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: maharashtra_gov_yoga_jail
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??? ?????????? jail Maharashtra Yoga Yoga day
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017