योगेंद्र यादव -प्रशांत भूषण के चिट्ठी की बड़ी बातें, केजरीवाल की खोली पोल!

By: | Last Updated: Wednesday, 11 March 2015 11:43 AM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी का कलह अपने चरम पर पहुंच चुका है. कल पार्टी की ओर से आरोपों को जगजाहिर किया गया तो आज योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण ने एक चिट्ठी में साझा बयान जारी कर अरविंद केजरीवाल की पोल सबके सामने लाकर रख दी.

 

इस चिट्ठी से अरविंद केजरीवाल की अलग तरह की राजनीति करने के दावे पर सवाल खड़े हो गए हैं. इस चिट्ठी मे कई ऐसी बात हैं जो आम आदमी पार्टी को कार्यकर्ताओं और समर्थकों दोनों को ही निराश कर देंगी.

 

इस चिट्ठी में जो बड़े खुलासे किए गए हैं उन पर एक नजर हा

 

1. लोकसभा में बुरी तरह हारने के बाद दिल्ली में एक बार फिर कांग्रेस के साथ सरकार बनाना चाहते थे केजरीवाल

 

2.दिल्ली के ज्यादातर विधायकों ने उस वक्त केजरीवाल का साथ दिया था.

 

3. उस वक्त कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध किया था.

 

4. विरोध के बावजूद एलजी को सरकार बनाने के लिए चिट्ठी लिखी गई.

 

5. बीते नवंबर तक केजरीवाल इस कोशिश में जूटे रहे कि दिल्ली में सरकार कांग्रेस के साथ मिलकर बनाई जा सके.  

 

6. हम दोनों ने उस वक्त इसका विरोध किया था और तभी से मतभेद शुरु हुआ.

 

7. हार से लेकर अब तक संयोजक के पद पर कोई बवाल नहीं.

 

8.  हार के बाद पीएसी भंग करने का प्रस्ताव  संजय, सिसौदिया का था.

 

9. राज्यों के चुनाव लड़ने का फैसला राज्यों को करना था पर केजरीवाल  राज्यों को करने देने के खिलाफ थे.

 

10. भड़काऊं पोस्टर के आरोपी अमानातुल्लाह को टिकट दिया और ओखला प्रभारी भी बनाया.

 

11. दिल्ली में संगीन आरोपियों को टिकट बांटे गए.

 

12.अनुसाशन समिति प्रमुख प्रशांत आवाम पर कड़ी कार्रवाई करना चाहते थे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: major point of prashant yogendra yadav letter
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017