बेसहारा बुजुर्ग महिलाओं की जिंदगी में रोशनी बिखेरता उनका बनाया चिराग..

By: | Last Updated: Sunday, 27 July 2014 6:05 AM
malayali_chirag

नई दिल्ली: मलयाली लोग अपनी दादी को प्यार से ‘अम्मूमा’ कहते हैं और इन्हीं कुछ बेसहरा अम्मूमा द्वारा बनाए गए चिराग केरल में कई परिवारों के घरों में रोशनी बिखेर रहे हैं.

 

एकल परिवार के बढ़ते चलन के इस दौर में इन अनजान बुजुर्ग महिलाओं द्वारा बनाए गए चिराग (लैम्प) केरल में आत्म-निर्भरता और आत्मसम्मान के लिए संघर्ष के प्रतीक बन चुके हैं.

 

‘अम्मूमा चिराग’ अब बाजार में काफी मशहूर ब्रांड हो चुका है. इसे अपने घरों में रोशनी लाने के लिए जलाने वालों में ज्यादातर को यह नहीं पता कि ये दिये उन बेसहारा बुजुर्ग महिलाओं ने बनाए हैं जिन्होंने जिंदगी में अंधेरा छाने के बाद वृद्धाश्रमों का सहारा लिया.

 

एरनाकुलम जिले में कांजीरामत्तोम स्थित एक कल्याणकारी संस्था ने वृद्धाश्रमों में रहने वाली बुजुर्ग महिलाओं के समय बिताने के काम के तौर पर चिराग बनाने की पहल शुरू की.

 

देखते ही देखते यह पहल काफी उपयोगी साबित हो गई. इस पहल की सूत्रधार लक्ष्मी मेनन कहती हैं कि इससे बुजुर्ग महिलाओं को अच्छीखासी मासिक आय हो रही है.

 

पेशे से डिजाइनर लक्ष्मी मेनन ने कहा, ‘‘मैं अपनी दादी को चिराग बनाते हुए देखकर बड़ी हुई हूं. जब वह बुजुर्ग हुईं तो समय बिताने के लिए चिराग बनाना उनकी आदत सी हो गई थी. मेरे दिमाग में उनसे के जरिए ही इस ‘अम्मूमा चिराग’ की परिकल्पना पैदा हुई.’’ उन्होंने कहा कि इस काम के जरिए कई बेसहारा महिलाओं की जिंदगी और नजरिए में काफी बदलाव आया है. ये वे महिलाएं हैं जिन्हें अपनों ने उस वक्त खुद से अलग कर दिया जब उन्हें सहारे की जरूरत थी.

 

लक्ष्मी का कहना है, ‘‘जब हमने प्रायोगिक आधार पर कोच्चि के एक वृद्धाश्रम में इस काम को शुरू किया तो वहां रहने वाली कई बुजुर्ग महिलाओं ने इसमें दिलचस्पी दिखाई क्योंकि ये सभी महिलाएं अपनी जिंदगी में यह काम कर चुकी हैं.’’ इस काम के जरिए आज कई वृद्धाश्रमों में रहने वाली 70 साल से अधिक उम्र की 40 से ज्यादा महिलाएं 2500-3000 रूपये मासिक कमा रही हैं.

 

लक्ष्मी कहती हैं कि कई महिलाएं तो 13,000 रूपये मासिक तक कमा रही हैं.

 

उनके द्वारा बनाए गए ‘अम्मूमा चिराग’ की मांग काफी तेजी से बढ़ी है और कई सांस्कृतिक एवं धार्मिक संगठनों ने इसके लिए ऑर्डर दिए हैं. इनके द्वारा बनाए गए 30 चिरागों का एक पैकेट पांच रूपये में बिकता है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: malayali_chirag
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017