जानें- खूनी लाउडस्पीकर का पूरा सच

By: | Last Updated: Thursday, 1 October 2015 4:15 PM
man brutally killed by mob over rumor he ate beef

नई दिल्ली: गौमांस खाने की अफवाह फैलाकर जान ले ली. ग्रेटर नोएडा के बिसाड़ा गांव में सोमवार की रात हुई इस घटना कई सवाल खड़े कर रही है. अचानक एक रात मंदिर के लाउडस्पीकर से गौमांस की अफवाह निकली और भीड़ ने 52 साल के अखलाक की जान ले ली, आखिर सोमवार की हुआ क्या था. ग्रेटर नोएडा के गांव का खूनी लाउडस्पीकर का पूरा सच पढिए?

यूपी के ग्रेटर नोएडा के बिसाड़ा गांव की गलियों में हर रोज की तरह चहल पहल नहीं है. सिर्फ एक घर के बाहर लोगों का जमावड़ा है. घर की सुरक्षा के लिए कुछ पुलिसवाले भी तैनात हैं. ये घर है अखलाक का. 52 साल के अखलाक सोमवार की रात कुछ असामाजिक तत्वों के हमले का शिकार हो गए. गोमांस पकाकर खाने की अफवाह ने अखलाक की जान ले ली, जबकि उनका बेटा अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच झूल रहा है. एक मां…एक दादी भीड़ के अंधाकानून पर सवाल खड़ा कर रही है.

 

अखलाक के घर सोमवार की रात जो कुछ हुआ उसकी शुरुआत एक अफवाह से हुई. अफवाह फैलाने के लिए गांव के ही कुछ युवकों ने शिव मंदिर का सहारा लिया.

 

आरोप है कि इस मंदिर के लाउडस्पीकर से अनाउंसमेंट किया गया था, जिसके बाद भीड़ इकट्ठा होकर अखलाक के घर गई थी. ABP न्यूज ने जब इस मंदिर के महंत से बात की, तो उसने बताया कि दो युवक आए थे, जिनके कहने पर ही उन्होंने लाउडस्पीकर से अनाउंसटमेंट किया था. महंत का दावा है कि उन्होंने किसी का नाम लेकर लोगों को नहीं भड़काया.

 

मंदिर से दो गली छोड़कर अखलाक का घर है. गलियों से होते हुए भीड़ अखलाक के घर आ धमकी. घर वालों को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि ये भीड़ क्यों आई है?

 

भीड़ ने घर के पीछे लकड़ी के दरवाजे को तोड़ दिया. जिसके बाद कुछ युवकों ने लोहे का मेन दरवाजा खोला और बाकी सारे लोग घर में घुस आए. इसके बाद जो कुछ हुआ उसे सोचकर परिवार अब भी सहम जाता है.

 

सोमवार की रात भीड़ में मौजूद लोगों के सिर पर मानो खून सवार था. भीड़ ने शाइस्ता के पिता अखलाक और भाई दानिश के साथ बेरहमी से मारपीट की. भीड़ में शामिल युवकों ने महिलाओं और बुजुर्गों को भी नहीं बख्शा. अखलाक की मां की आंखों पर अब भी चोट के निशान हैं. उस भीड़ में ऐसे भी लोग थे जिन्होंने कुछ महीने पहले ही ईद पर साथ बैठकर सेवईयां खाई थीं. लेकिन एक अफवाह ने उन्हें भी दुश्मन बना दिया.

 

अपने को खोने का गम आंखों से बार बार छलक आता है. एक अफवाह के बाद टूटे विश्वास से असगरी बेगम बेहद आहत हैं. वो अब इस गांव में नहीं रहना चाहतीं.

 

अखलाक के अलावा इस गली में एक और मुस्लिम परिवार रहता है. अखलाक के साथ जो कुछ हुआ. उसके बाद इलियास का परिवार भी यहां नहीं रहना चाहता.

 

अखलाक के घर पर हमले में समाधान सेना नाम के एक संगठन का नाम भी जुड़ रहा है. समाधान सेना का गठन गोविंद चौधरी नाम के एक युवक ने किया है. इस संस्था का दफ्तर बिसाड़ा से 15 किलोमीटर दूर है. संस्था का दावा है कि वह गांव के लोगों के मुद्दों को सुलझाने का काम करती है.

 

ABP न्यूज ने समाधान सेना के गोविंद चौधरी से बात की, तो उन्होंने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को खारिज किया.

 

बिसाड़ा गांव हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल हुआ करता था. गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि दोनों धर्म के लोग भाई-भाई की तरह रहते थे.

 

गांव में करीब डेढ़ सौ साल पुराना मस्जिद भी है, जिसे हिंदू और मुस्लिम ने मिलकर बनवाया था. लेकिन इलाके के कुछ युवकों ने इस हिंदू-मुस्लिम एकता की तहजीब पर ही चोट कर दी.

WATCH: क्या है खूनी लाउडस्पीकर का पूरा सच? 

पुलिस ने अखलाक की हत्या के आरोप में 10 नामजद और सैंकड़ों अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. पुलिस ने अब तक 6 को गिरफ्तार किया है. बाकी की तलाश में जुटी हुई है. अखलाक के परिवार को इस पूरे मामले में किसी बड़ी साजिश का शक है.

 

अपने बेटे को अंतिम विदाई दे चुकी मां अब सरकार से सिर्फ इंसाफ मांग रही है. इंसाफ अपने बेटे के लिए…इंसाफ इंसानियत के लिए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: man brutally killed by mob over rumor he ate beef
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: beef beef rumor
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017