मसर्रत की गिरफ्तारी के खिलाफ आज कश्मीर घाटी में हुर्रियत का बंद, पुलिस ने लगाई मसर्रत पर देशद्रोह की धाराएं

By: | Last Updated: Saturday, 18 April 2015 2:22 AM
masrat_alam_arrest

नई दिल्ली: अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने आज मसर्रत आलम की गिरफ्तारी को लेकर घाटी में बंद बुलाया है. अलगाववादी नेता यासीन मलिक भी त्राल एनकाउंटर की घटना को लेकर आज भूख हड़ताल करेंगे.

 

गौरतलब है कि यासीन शुक्रवार को करने वाले थे लेकिन नजरबंद होने की वजह से भूख हड़ताल नहीं कर पाये थे. वहीं बीजेपी ने अपने नाराज कार्यकर्ताओं को मनाने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव को जिम्मेदारी दी है.

 

जम्मू-कश्मीर में बीजेपी कार्यकर्ता बुधवार को अलगाववादी नेता मसर्रत आलम और सैयद अली शाह गीलानी को श्रीनगर में भारत विरोधी रैली करने की अनुमति देने से नाराज हैं.

 

शुक्रवार देर रात मसर्रत आलम पर 121 ए के तहत देश द्रोह 124 के तहत  देश में युद्ध के हालत पैदा करना  का मामला दर्ज हो गया है. इसके साथ ही मसर्रत आलम को सात दिन के लिए पुलिस हिरासत दे दी गई है.

 

गुरुवार को लाहौर में एक रैली को सम्बोधित करते हुए हफ़ीज़ सईद ने भी मसर्रत और गिलानी की हरकतों को जायज़ ठहराया है और उनकी तारीफ़ करते हुए समर्थन दिया है. हफ़ीज़ ने कहा कि कश्मीरी भाई पाकिस्तान को पसंद करते है और कश्मीर में पाकिस्तान का झंडा फहराना कोई गलत बात नहीं है क्योंकि कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं है यह विवाद क्षेत्र है.

 

वहीं बीजेपी ने अपने नाराज कार्यकर्ताओं को मनाने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव को जिम्मेदारी दी है. जम्मू-कश्मीर में बीजेपी कार्यकर्ता बुधवार को अलगाववादी नेता मसर्रत आलम और सैयद अली शाह गीलानी को श्रीनगर में भारत विरोधी रैली करने की अनुमति देने से नाराज हैं.

45 वर्षीय कट्टरपंथी अलगाववादी मसर्रत को गुरुवार सुबह श्रीनगर के हब्बाकादल स्थित उसके मकान से गिरफ्तार किया गया और उसे राष्ट्रद्रोह की गतिविधियों और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने का आरोपी बनाया गया है.

 

बीते बुधवार को मसर्रत आलम को एक रैली के दौरान पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करते देखा गया था. हुर्रियत के कट्टरपंथी धड़े के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी के साथ आलम को कल रात नजरबंद कर दिया गया था.

 

सलाखों के पीछे नफरत

मसर्रत आलम एक बार फिर गिरफ्तार हो गया है. अपनी जिंदगी के पिछले बीस बरसों में से 17 साल जेल में काटने वाले मसर्रत को कानून की 13 धाराओं में आरोपी बनाकर जेल भेजा गया है. भारत की ही जमीन यानी जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में अलगाववादी नेता गिलानी दिल्ली से लौट रहे थे और उनका उत्तराधिकारी माने जाने वाले मसर्रत ने इसे देश के खिलाफ नफरत फैलाने के मौके में बदल दिया.

 

श्रीनगर में हो रही इस रैली की अगुवाई अलगाववादी नेता मसर्रत आलम के हाथ में थी इंतजार था सैयद अली शाह गिलानी का जो पिछले कई महीनों से दिल्ली में थे जैसे ही गिलानी की गाड़ी मौके पर पहुंची उनके घर के बाहर मौजूद भीड़ नारे लगाने लगी.

 

भारत की धरती पर पाकिस्तान का झंडा लहराया गया . भारत की धरती पर पाकिस्तान की हुकूमत के नारे बुलंद किए गए. और फिर मसर्रत ने लिया हाफिज सईद का नाम. वही हाफिज सईद जो मुंबई में 26 नवंबर साल 2008 को हुए सबसे बड़े आतंकी हमले का गुनहगार है. वो हाफिज सईद जिसे अमेरिका से लेकर संयुक्त राष्ट्र तक मोस्ट वांटेड आतंकवादी की लिस्ट में शामिल कर चुके हैं. मसर्रत ने इस रैली में बता दिया कि उसका आका एक आतंकवादी है.

 

मसर्रत की इस हिमाकत के फौरन बाद उसे नजरबंद कर दिया गया था और अब सरकार ने 17 अप्रैल को आधिकारिक ऐलान कर दिया है कि एक बार फिर मसर्रत को गिरफ्तार कर लिया गया है. मसर्रत ने सैयद गिलानी के स्वागत में जिस तरह नफरत की रैली की जिस तरह अगुवाई की वो नई नहीं थी .

 

यह भी पढ़ें-

सलाखों के पीछे ‘नफरत’ की पूरी कहानी 

श्रीनगर: मसर्रत की गिरफ्तारी के बाद हिंसा, लोगों ने किया जवानों पर पथराव

मुंबई के गुनहगार ने फिर उगला जहर

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: masrat_alam_arrest
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017