मोदी सिर्फ हवाबाजी कर रहे हैं: सोनिया

By: | Last Updated: Tuesday, 8 September 2015 11:22 AM

नई दिल्ली : भूमि अध्यादेश पर सरकार के कदम पीछे खींचने से उत्साहित कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह ‘‘अशोभनीय हद तक ढुलमुल’’ साबित हुए हैं और उनके अधिकांश चुनावी वादे ‘हवाबाजी’ से अधिक और कुछ नहीं हैं.

 

भूमि कानून पर सरकार के कदम पीछे खींचने का श्रेय राहुल गांधी के सक्रिय मार्गदर्शन में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को देते हुए पार्टी अध्यक्ष ने श्रम सुधार, महिला एवं बाल विकास, आरटीआई और मनरेगा जैसे विषयों पर भी ऐसे ही अभियान चलाने की बात कही.

 

सोनिया ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार अपनी कथनी को करनी में बदलने में बुरी तरह से विफल रही है.

 

उन्होंने कांग्रेस कार्य समिति की बैठक को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘ भूमि अध्यादेश पर यूटर्न से स्पष्ट है कि सरकार को जमीनी हकीकत का पता नहीं है. यह पीड़ादायक रूप से स्पष्ट हो चुका है कि प्रधानमंत्री ने चुनाव अभियान के दौरान जो वादे किये, वे हवाबाजी से अधिक और कुछ भी नहीं है.’’

प्रधानमंत्री द्वारा भूमि अध्यादेश को पुन:स्थापित नहीं करने की बात कहने के बाद कांग्रेस कार्य समिति की इस पहली बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि कांग्रेस के सतत अभियान के कारण सरकार को किसान विरोधी संशोधन को वापस लेने को मजबूर होना पड़ा. उन्होंने कहा, ‘‘ इसका श्रेय कांग्रेस पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता को जाता है जिन्होंने राहुल के सक्रिय मार्गदर्शन में सतत विरोध जारी रखा.’’ उन्होंने किसानों के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष के नेतृत्व की सराहना की.

 

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि यह तभी संभव हो सका जब सभी समान सोच वाले दलों और नागरिक समाज के लोगों ने इस लड़ाई में कांग्रेस से हाथ मिलाकर आगे बढ़ाने का काम किया.

 

भारत के पड़ोस में सुरक्षा की स्थिति काफी खराब होने पर चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि जवानों और नागरिकों को निशाना बनाया जा रहा है.

 

सोनिया ने कहा, ‘‘ पाकिस्तान के बारे में सुसंगत नीति की बजाए, यह सरकार तय नहीं कर पा रही है कि उसे क्या करना चाहिए . ’’ उन्होंने कहा, ‘‘ चुनाव प्रचार के दौरान मनमोहन सिंह और उनकी नीतियों का उग्र रूप से मजाक बनाने के बाद प्रधानमंत्री का रवैया अशोभनीय रूप ढुलमुल बन गया है, जिससे यह संदेह उत्पन्न हो रहा है कि वास्तव में वह क्या सोचते हैं.’’ उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था नीचे की ओर जा रही है जबकि कीमतों में वृद्धि जारी है. मोदी सरकार अपनी कथनी को करनी में बदलने में बुरी तरह विफल रही है, मीडिया कार्यक्रमों के अनुरूप वास्तविक उपलब्धियां पाने और हेडलाइन के अनुरूप वास्तविकता सृजित करने में विफल रही है. जारी

 

 

सोनिया ने कहा, ‘‘ देश को पिछले सप्ताह स्पष्ट रूप से यह साक्ष्य मिला कि मोदी सरकार आरएसएस के नियंत्रण और निर्देशन के तहत है और उस संगठन के एजेंडे से हम सब अवगत हैं.’’ उनका संकेत आरएसएस के साथ प्रमुख मंत्रियों, भाजपा नेताओं के साथ की बैठक की ओर था जिसमें प्रधानमंत्री भी शामिल हुए थे. कांग्रेस अध्यक्ष ने याद दिलाया कि कांग्रेस कार्य समिति की पिछली बैठक मोदी सरकार की ओर से बर्बर भूमि अध्यादेश को पहली बार जारी करने के दो सप्ताह बाद हुई थी.

 

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने संसद के प्रति असम्मान प्रदर्शित करते हुए हमारे किसानों की जमीन छीनने में बेहद जल्दबाजी का दिखायी और इसका कारण वे ही बता सकते हैं.

 

सोनिया ने कहा कि आदिवासी कल्याण, महिला एवं बाल कल्याण, श्रम कानून, पर्यावरण एवं वन संरक्षण कानूनों, आरटीआई, मनरेगा जैसी पहल को सुनियोजित तरीके से कमतर करने का प्रयास किया जा रहा है और इन सब के लिए अभियान चलाने की जरूरत है.

 

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अत्यधिक वष्रा और सूखे की स्थिति के कारण किसान काफी परेशानी में है और सरकार की असंवेदनशीलता के कारण उन तक पर्याप्त राहत नहीं पहुंच रही है.

 

स्मृति ईरानी का जवाब

सोनिया के हमले का जवाब बीजेपी की तरफ से शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी ने दिया. स्मृति ईरानी ने कहा सोनिया अपनी नाकामी छिपाने के लिए ऐसे हमले कर रही हैं, मोदी सरकार काम करने वाली सरकार है.

यूपीए शासनकाल के कथित घोटाले का जिक्र करते हुए स्मृति ईरानी ने कहा, ‘‘ अपनी तबाह पार्टी का संचालन करते हुए सोनिया गांधी ने आज मोदी के नाम की मदद ली ताकि अपनी नीतियों की नाकामियों को छिपाया जा सके. उन्होंने कहा कि जमीन पर कुछ नहीं हो रहा है. यह हास्यास्पद है कि जिन लोगों ने देश का खजाना खाली कर दिया, वे ऐसे व्यक्ति पर हमला बोल रहे हैं जो जमीन पर विकास लाने में कामयाब रहा है.’’ राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने में कांग्रेस की ओर से देरी की रिपोटो’ के बारे में पूछे जाने पर स्मृति ईरानी ने कहा कि भाजपा के लिए राहुल का बहुत महत्व नहीं है. उन्होंने दावा किया कि उन्होंने अमेठी में सिर्फ 20 दिनों के चुनाव प्रचार में ही राहुल की जीत के अंतर को कम कर दिया था. वह यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रही थीं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस उन्हें पार्टी अध्यक्ष बनाने को क्यों इच्छुक नहीं है, इसका जवाब उसे देना है, भाजपा को नहीं.’’ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने आज मोदी पर हमला बोलते हुए कहा था कि उनके अधिकतर चुनावी वादे और कुछ नहीं बल्कि हवाबाजी थे. प्रधानमंत्री पर टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा नेता ने कहा कि यह कांग्रेस थी जिसने पिछले 40 साल से वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे पर हवाबाजी की जबकि मोदी ने 18 महीनों में उस वादे को पूरा कर दिया.

 

कांग्रेस के लगातार विरोध के बाद भूमि अध्यादेश पर सरकार के यू टर्न को लेकर सोनिया गांधी द्वारा निशाना साधे जाने के जवाब में मानव संसाधन विकास मंत्री ने अमेठी भूमि विवाद का जिक्र किया.

 

स्मृति ईरानी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के वे नेता जो किसानों के प्रति सहानुभूति रखने का दावा करते हैं, अपने उपाध्यक्ष पर चुप्पी साधे हुए हैं जिन पर अपने निर्वाचन क्षेत्र में रोजगार देने के नाम पर किसानों की जमीन पर कथित ‘‘कब्जा’’ का आरोप है.

 

इस बीच पाकिस्तानी सेना के प्रमुख की भारत संबंधी टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर स्मृति ने कहा कि पड़ोसी देश ने जब कभी युद्ध थोपा, भारत ने जीत हासिल की.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Modi government failed abysmally: Sonia
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: failed government MODI Sonia Gandhi
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017