रिकॉर्ड चौथी बार भूमि अध्यादेश को फिर से जारी कर सकती है मोदी सरकार

By: | Last Updated: Sunday, 19 July 2015 5:52 AM

नई दिल्ली: संसद का मानूसन सत्र समाप्त होने के बाद सरकार अप्रत्याशित रूप से चौथी बार भूमि अध्यादेश को फिर से जारी कर सकती है क्योंकि इस विधेयक पर कोई आम सहमति अब तक नहीं बन पाई है.

 

इस विधेयक पर विचार कर रही, बीजेपी सांसद एस एस अहलूवालिया की अध्यक्षता वाली, संयुक्त संसदीय समिति की योजना अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने के लिए तीन अगस्त तक दो सप्ताह का समय विस्तार और मांगने की है.

 

संकेत हैं कि समिति मानसून सत्र के दौरान अपनी रिपोर्ट नहीं दे पाएगी और समय में विस्तार की मांग कर सकती है. ऐसी स्थिति में सरकार के लिए अध्यादेश एक बार फिर जारी करना जरूरी हो जाएगा. तीसरी बार यह अध्यादेश 31 मई को जारी किया गया था.

 

सरकार के सूत्रों को भूमि अध्यादेश फिर से जारी करने में कुछ भी असामान्य नहीं लगता. उन्होंने कहा कि कम से कम 15 अध्यादेशों को दो या अधिक बार जारी किया जा चुका है.

 

एक अध्यादेश की अवधि छह माह होती है. अगर संसद सत्र शुरू होने के छह सप्ताह के अंदर उसे संसद की मंजूरी नहीं मिलती तो अध्यादेश को फिर से जारी करना होता है.

 

संसद का मॉनसून सत्र 21 जुलाई से शुरू हो कर 13 अगस्त तक चलेगा.

 

सरकार का कहना है कि अध्यादेश को उसकी निरंतरता बनाए रखने और अधिगृहित की जा चुकी जमीन के एवज में लोगों को क्षतिपूर्ति का ढांचा मुहैया कराने के लिए पुन:जारी करना जरूरी है.

 

नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए नए भूमि विधेयक का विरोध कर रही कांग्रेस ने 31 मई को अध्यादेश पुन:जारी किए जाने पर केंद्र की जम कर आलोचना की थी. बहरहाल, सरकार से जुड़े सूत्रों ने कहा कि संप्रग द्वितीय सहित विभिन्न सरकारों के कार्यकाल में कम से कम छह अध्यादेशों को तीन तीन तीन बार जारी किया गया था.

 

कुछ ही दिनों पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जयपुर में एक कार्यक्रम में कहा था कि वे किसी भी कीमत  पर भूमि बिल पास नहीं होने देंगे. राहुल गांधी ने कहा है, ‘संसद में भूमि अधिग्रहण बिल पास नहीं होने देंगे. मोदी जी की 56 इंच की छाती 5.6 इंच की छाती हो जाएगी.’

 

राहुल ने कहा, ‘यहां राहुल गांधी नहीं बोल रहा, देश की जनता कह रही है. हिंदुस्तान के किसान, कांग्रेस और हमारी जनता 56 इंच की छाती को 5.6 इंच की छाती बना देगी. एक इंच जमीन नहीं देंगे, देख लेना आप.’

 

सूत्रों के अनुसार, इस बात की संभावना कम ही है कि अपने पांच साल के कार्यकाल में से एक साल पूरा कर चुकी सरकार इस विधेयक को पारित कराने के लिए संयुक्त सत्र की राह पर चलेगी तथा विधेयक को ‘‘बलपूर्वक’’ आगे बढ़ाने के लिए और अधिक आलोचनाओं को आमंत्रित करेगी.

 

विधेयक पर आम सहमति बनाने के लिए प्रयासरत संयुक्त संसदीय समिति ने पूर्व में अपना कार्यकाल 28 जुलाई तक यानी एक सप्ताह तक बढ़ाने का फैसला किया था. लेकिन उसे यह पर्याप्त नहीं लगा और उसने अपना कार्यकाल तीन अगस्त तक बढ़ाने का फैसला किया.

 

वास्तव में समिति को 21 जुलाई से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र के पहले ही दिन अपनी रिपोर्ट पेश करनी थी.

 

सूत्रों ने बताया कि सत्र शुरू होने पर समिति को कार्यकाल बढ़ाने के बारे में संसद की मंजूरी लेनी होगी. अब समिति ने दो सप्ताह का सेवा विस्तार मांगने का फैसला किया है.

 

समिति को अब तक मिलीं 672 प्रस्तुतियों में से 670 ने राजग सरकार द्वारा भूमि विधेयक में किए जा रहे संशोधनों का विरोध किया है. समिति के समक्ष 52 प्रतिनिधि भी पेश हो चुके हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Modi govt likely to re-promulgate land ordinance for record
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर ने फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी
'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी

नई दिल्ली: नागरिक अधिकार कार्यकर्ता इरोम शार्मिला और उनके लंबे समय से साथी रहे ब्रिटिश नागरिक...

अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे
अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे

 मुंबई: मुंबई पुलिस के मशहूर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा को महाराष्ट्र...

RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी
RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी

आरएसएस की देशभक्ति पर कड़ा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस संगठन ने तब तक तिरंगे को नहीं...

चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’
चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. चीन ने अब भारत के खिलाफ खूनी...

सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'
सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा
यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा

बहराइच: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. इस बीच बहराइच में...

बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगा आयकर
बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल...

नई दिल्ली:  लालू परिवार के लिए मुश्किलें बढ़ाने वाली है. एबीपी न्यूज को जानकारी मिली है कि...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017