शिवसेना पर जमकर बरसे मोदी, कहा- माफिया शाही और गुंडागर्दी करने वालों को वोट ना दें

By: | Last Updated: Monday, 13 October 2014 6:30 AM

नई दिल्ली: इस विधानसभा चुनावों में महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना का 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया. शिवसेना तो पहले से बीजेपी पर वार कर रही थी लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी ने अभी कुछ ही दिनों पहले दिए एक भाषण में कहा था कि वे बाला साहेब ठाकरे का बहुत सम्मान करते हैं और इसी वजह से वे शिवसेना के खिलाफ कुछ नहीं बोलेंगे.

 

लेकिन बस कुछ ही दिन बाद पीएम मोदी अपनी कही बात को भूल गए और शिवसेना पर अप्रत्यक्ष रूप से जमकर वार किया. मुंबई के बोरीवली में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “एक तरफ भ्रष्टाचार दूसरी तरफ माफिया शाही है और गुंडागर्दी है. हर गली मुहल्ले में भाई लोग बैठे हैं. आपको कार नई आई पहले प्रसाद बाहर चढ़ाना पड़ता है, आपने फ्लैट बुक कराया पहले आरती वहां उतारनी पड़ती है.”

 

मोदी ने अपने इस भाषण में किसी का नाम तो नहीं लिया लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से सब कुछ कह दिया .

 

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए 15 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे, जबकि 19 अक्टूबर को नतीजों का एलान होगा, महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं.

 

इस विधानसभा चुनाव में सभी पार्टियां अलग अलग चुनाव लड़ रही हैं. शिवसेना और भाजपा ने 1995-99 के बीच महाराष्ट्र में सरकार बनाई थी, जब 1999 में केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी, लेकिन केंद्र में मौजूदा मोदी सरकार के दौरान 25 सितंबर को बीजेपी ने सर्वसम्मति से शिवसेना से गठबंधन तोड़ लिया. दोनों के गठबंधन टूटने के बाद कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) का वर्षो पुराना गठबंधन भी इसी दिन टूट गया. महाराष्ट्र में पार्टियों की ‘चौकड़ी’ में शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) हैं, जो एकदूसरे की अपेक्षा बीजेपी को टक्कर देने की कोशिश ज्यादा कर रहे हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Modi indirectly attacks on shivsena
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017