विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बनाएंगे राष्ट्रीय प्राथमिकता,अनुसंधान की होगी सहूलियत: मोदी

By: | Last Updated: Saturday, 3 January 2015 10:16 AM

नई दिल्ली: वैज्ञानिक समुदाय को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुसंधान की सहूलियत को कारोबार की सहूलियत जितना ही महत्वपूर्ण बताते हुए लाल-फीताशाही दूर करने का वादा किया और देश में ‘‘बदलाव’’ लाने में उनके सहयोग की अपेक्षा जताई.

 

मोदी ने यहां भारतीय विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन करते हुए कहा, ‘‘विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के बड़े स्रोत के तौर पर सरकार को अपना हिस्सा निभाना चाहिए. जब मैं भारत में कारोबार की सहूलियत की बात करता हूं तो मैं भारत में अनुसंधान एवं विकास की सहूलियत पर भी उतना ही ध्यान देना चाहता हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं चाहता हूं कि हमारे वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ता सरकारी प्रक्रियाओं की नहीं, विज्ञान की गुत्थियां सुलझाएं.’’ उनका इशारा देश में वैज्ञानिक समुदाय द्वारा अनुसंधान के लिए धन मिलने में विलंब तथा वैश्विक सम्मेलनों में शामिल होने के लिए अनुमति प्रक्रिया में विलंब के बारे में की जाने वाली शिकायतों की ओर था.

 

भारतीय वैज्ञानिकों के काम की सराहना करते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने कई क्षेत्रों में हमें सबसे आगे रखा. उन्होंने कहा ‘‘हमारे वैज्ञानिकों ने पहले ही प्रयास में मंगलयान को कक्षा में स्थापित कर दिया.’’ उन्होंने कहा कि देश की प्रगति और विकास विज्ञान से जुड़े हुए हैं.

 

प्रधानमंत्री ने जैव प्रौद्योगिकी, नैनो विज्ञान, कृषि और क्लीनिकल अनुसंधान जैसे क्षेत्रों में अनुसंधान एवं विकास के लिए स्पष्ट नियामक नीतियों का भी आह्वान किया.

 

उन्होंने कहा कि प्रत्येक सरकारी विभाग में एक अधिकारी ऐसा होना चाहिए जो उसके कार्य क्षेत्र से संबंधित विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित करे तथा अपने बजट का एक फीसदी इन गतिविधियों के लिए आवंटित करे.

 

मोदी ने कहा कि देश में अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों को हमें विश्वविद्यालयी तंत्र में सबसे आगे रखना होगा.

 

प्रधानमंत्री ने भारतीय उद्योग जगत से उसके हितों को देखते हुए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में निवेश बढ़ाने का आह्वान किया.

 

उन्होंने कहा कि भारत के अपने फर्मास्युटिकल उद्योग ने विश्व में अपने लिए खुद जगह बनाई है क्योंकि उसने अनुसंधान में उल्लेखनीय निवेश किया.

 

मोदी ने कहा कि चीन विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी प्रगति के समानांतर दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के तौर पर उभरा.

 

प्रधानमंत्री ने कहा ‘‘आपको मुझसे बेहतर समर्थक नहीं मिलेगा. इसके एवज में मैं भारत में बदलाव लाने में आपकी मदद का आकांक्षी हूं.’’ उन्होंने वैज्ञानिक समुदाय से कहा कि उनकी उपलब्धियों का जश्न उसी तरह मनाया जाना चाहिए जिस तरह हम अन्य क्षेत्रों में अपनी सफलता का जश्न मनाते हैं.

 

मोदी ने कहा ‘‘हमें विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार को राष्ट्रीय प्राथमिकताओं में सबसे उपर रखने की जरूरत है. इससे भी आगे, हमें भारत में विज्ञान एवं वैज्ञानिकों का गौरव और प्रतिष्ठा बहाल करनी चाहिए.’’ जारी

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के वैज्ञानिक कामकाज में मानव विकास मुख्य एवं व्यापक उद्देश्य रहा है और विज्ञान ने आधुनिक भारत को आकार देने में मदद की है. ‘‘दुनिया ने जब जब हमारे लिए अपने दरवाजे बंद किए’’ तब तब भारतीय वैज्ञानिकों के मजबूती से खड़े होने के लिए प्रधानमंत्री ने उनकी सराहना की.

 

उन्होंने कहा कि जब दुनिया ने हमारा सहयोग चाहा तो उन्होंने (भारतीय वैज्ञानिकों ने) उसी खुलेपन से साथ दिया जो हमारे समाज में निहित है.

 

प्रधानमंत्री ने चक्रवात हुदहुद का सटीक पूर्वानुमान लगा कर हजारों लोगों की जान बचाने के लिए भी भारतीय वैज्ञानिकों की सराहना की.

 

उन्होंने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में हजारों की संख्या में बच्चों और युवाओं को शामिल करने के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा की गई पहलों का स्वागत किया.

 

मोदी ने कहा कि भारत को ‘‘हमारे देश में विज्ञान एवं वैज्ञानिकों का गौरव एवं सम्मान बहाल किया जाना चाहिए, समाज में विज्ञान के लिए दीवानगी पुनर्जीवित करनी चाहिए, हमारे बच्चों में इसके लिए लगाव फिर से उत्पन्न करना चाहिए तथा हमारे वैज्ञानिकों को सपने देखने, कल्पना करने और रहस्यों की गुत्थी सुलझाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.’’ प्रधानमंत्री ने अपना संबोधन प्रख्यात वैज्ञानिक वसंत गोवारीकर को श्रद्धांजलि देते हुए शुरू किया. गोवारीकर का कल पुणे में निधन हो गया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: modi on science and technology
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017