मोदी ने अफगानिस्तान से सैनिकों की जल्दबाजी में वापसी को लेकर अमेरिका को किया सतर्क

By: | Last Updated: Monday, 29 September 2014 8:07 PM

न्यूयार्क: अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ रात्रि भोज से कुछ घंटे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को निकालने में जल्दबाजी नहीं करने के प्रति अमेरिका को आज सतर्क किया. इस मामले में उन्होंने इराक में अमेरिका द्वारा की गयी गलती की ओर भी ध्यान दिलाया.

 

मोदी ने काउंसिल आन फारेन रिलेशंस में कहा कि भारत और अमेरिका ने हाल के वषरें में अफगानिस्तान में बड़ी भूमिका निभायी है.

 

उन्होंने कहा कि भारत ने अमेरिका से कहा है कि अफगानिस्तान से उसके सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया धीमी होनी चाहिए ताकि तालिबान के उदय को रोका जा सके.

 

मोदी ने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि अफगानिस्तान जहां हाल में राष्ट्रपति चुनाव हुए हैं और नयी सरकार गठित हुई है, में लोकतांत्रिक ढंग से विकास हो.’’

 

मोदी ने कहा, ‘‘अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया बहुत धीमी होनी चाहिए. अफगानिस्तान को उसके पैरों पर खड़े होने देना चाहिए और तभी तालिबान के उदय को वह रोक सकता है.’’

 

अच्छे और बुरे आतंकवाद के भेद को खारिज करते हुए प्रधानमंत्री ने इस वैश्विक समस्या से प्रभावी ढंग से निबटने के लिए सामूहिक मुहिम का आह्वान किया.

 

मोदी ने कहा, ‘‘अच्छा आतंकवाद या बुरा आतंकवाद नहीं होता. आतंकवाद की कोई सीमा या देश नहीं होता.’’ उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवाद की चुनौती को गंभीरता से लेने की जरूरत है. यह दुखद है कि कई देश पहले आतंकवाद के घिनौने चेहरे को पहचान नहीं पाये जो मानवता का शत्रु है.’’

 

यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस बात से संतुष्ट है कि राष्ट्रपति ओबामा ने भारत के साथ संबंधों को ‘भागीदारी वाले’ कहकर उल्लेख किया है, मोदी ने कहा, ‘‘हर बात पर संतुष्ट नहीं हुआ जा सकता. यहां तक कि पति एवं पत्नी भी एक दूसरे से 100 प्रतिशत संतुष्ट नहीं रहते हैं.

 

लेकिन इसके बावजूद दीर्घकालिक नाता होता है.’’ मोदी ने भारत एवं चीन के बीच सीमा मुद्दे को लेकर किसी भी पंचाट एवं मध्यस्थता की संभावना से इंकार किया.

 

प्रधानमंत्री ने एक प्रश्न पूछने वाले से कहा कि भारत इस तरह की मध्यस्थता स्वीकार नहीं करेगा क्योंकि दोनों देश सीधे बात कर रहे हैं और वे बातचीत के जरिये मुद्दों का समाधान करने में सक्षम हैं.

 

पश्चिम एशिया में इस्लामिक स्टेट :आईएस: उग्रवादियों के उदय और भारत में इस प्रकार की आशंति के प्रसार की आशंका के बारे में पूछने पर प्रधानमंत्री ने इसकी संभावना को नकार दिया और कहा कि हमारे देश में सभी प्रकार की आतंकवाद की गतिविधियां बाहर से आयातित हैं और वे देश में नहीं पनपी हैं.

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनसे सीएनएन ने भारत में अल कायदा के खतरे के बारे में पूछा था जिस पर उनका जवाब था कि ‘‘भारत के मुस्लिम अल कायदा को नाकाम कर देंगे.’’

 

प्रधानमंत्री ने आतंकवाद से खतरों की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि इसे राजनीतिक लाभ एवं हानि के आधार पर नहीं आंका जा सकता. उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘दुनिया को आतंकवाद के खिलाफ एक स्वर में बोलना पड़ेगा.’’

 

मोदी ने अपने संबोधन में इस बात को रेखांकित किया कि भारत अपने सभी पड़ोसियों के साथ मित्रतापूर्ण संबंध कायम करना चाहता है. उन्होंने कहा कि उनके शपथ ग्रहण समारोह में सभी दक्षेस नेताओं को आमंत्रित किया गया.

 

इसी प्रक्रिया के तहत उन्होंने नेपाल एवं भूटान का भी दौरा किया.

 

कई लोगों की जान लीलने वाली और भारी तबाही करने वाली जम्मू कश्मीर में आयी बाढ़ का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री कहा कि पाक अधिकृत कश्मीर में भी भारी नुकसान हुआ है. उन्होंने सीमा पार प्रभावित हुए लोगों को मदद करने की भारत की इच्छा का इजहार किया था.

 

प्रधानमंत्री ने इस अवसर का उपयोग अमेरिकी निवेशक को आकषिर्त करने के लिए भी किया. उन्होंने वादा किया कि भारत में सरल एवं प्रभावी शासन के साथ राजनीतिक स्थिरता का दौर रहेगा.

 

उन्होंने कहा कि प्रकियाओं को सरल बनाने के लिए पहले ही कई कदम उठा लिये गये हैं और उनकी सरकार ने श्रम सुधार की पहल की है और कौशल विकास के लिए योजनाएं शुरू की हैं.

 

विश्व व्यापार संगठन करार के बारे में भारत के रूख पर उन्होंने दावा किया कि खाद्य सुरक्षा एवं व्यापार सुविधा पर समझौते साथ साथ होने चाहिए.

 

अपने संबोधन में मोदी ने तुष्टीकरण और वोट बैंक की राजनीति के लिए अपनी पूर्व की सरकारों की आलोचना की और विकास एवं सुशासन की वकालत की. उन्होंने कहा कि वह नव मध्यम वर्ग के लिए अवसर पैदा करना चाहते हैं जो गरीबी की रेखा से उपर उठे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जो गरीबी रेखा से बाहर आए हैं लेकिन मध्यम वर्ग में स्थान नहीं बना पाये हंै.

 

देश के विकास का खाका पेश करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम अपने नव मध्यम वर्ग को नजरंदाज करते हैं, तो वे फिर गरीबी में डूब जायेंगे और तब गरीबों की गरीबी से बाहर आने की उम्मीद समाप्त हो जायेगी.’’

 

भारतीय राजनीति की दिशा में बदलाव लाने का श्रेय युवाओं को देते हुए मोदी ने कहा कि सरकार बदलने के बाद देश में नयी आकांक्षाओं की लहर सामने आई क्योंकि पूर्व में युवाओं को केवल निराशा ही दिखाई पडती थी.

 

उन्होंने कहा, ‘‘पहले हमारे देश में छोटे छोटे समूहों को खुश रखने की प्रवृत्ति थी. छोटे छोटे समूहों में बांटो और अपना वोट बैंक बनाये रखो. यह स्थिति अब बदल गई है.’’

 

मोदी ने कहा, ‘‘ भारत में युवा पीढ़ी की सोच बदली है . देश की युवा पीढ़ी टुकड़ों में बंटकर नहीं रहना चाहती है. यह बदलाव युवाओं के कारण आया है.’’

 

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने लोकसभा चुनाव में विकास और सुशासन के एजेंडा पर लड़ा था जिन पर वर्तमान राजनीतिक स्थिति में आगे बढना कठिन था जहां वोट बैंक की राजनीति हावी थी. उन्होंने कहा कि वे भारत की सभी समस्याओं का एकमात्र हल हैं.

 

नव मध्यम वर्ग के तीव्र विकास के लिए अवसर सृजित करने की इच्छा व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार की वृद्धि हासिल करने के लिए कृषि, विनिर्माण और सेवा क्षेत्र के बीच संतुलन स्थापित करने की योजना है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Modi on terrorism
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

गोरखपुर ट्रेजडी: बच्चों की मौत के मामले पर इलाहाबाद HC में आज सुनवाई
गोरखपुर ट्रेजडी: बच्चों की मौत के मामले पर इलाहाबाद HC में आज सुनवाई

इलाहाबाद: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले की न्यायिक जांच की मांग को...

गुजरात में स्वाइन फ्लू से अबतक 230 की मौत, राज्य ने केंद्र से मांगी मदद
गुजरात में स्वाइन फ्लू से अबतक 230 की मौत, राज्य ने केंद्र से मांगी मदद

अहमदाबाद: गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में स्वाइन फ्लू की स्थिति के बारे में...

मनमोहन वैद्य का राहुल को जवाब, कहा- 'RSS क्या देश के बारे में नहीं जानते कुछ'
मनमोहन वैद्य का राहुल को जवाब, कहा- 'RSS क्या देश के बारे में नहीं जानते कुछ'

नागपुर: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के नेता मनमोहन वैद्य ने कहा है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल...

गोरखपुर ट्रेजडी: जारी है बच्चों की मौत का सिलसिला, गुरुवार को 8 की मौत
गोरखपुर ट्रेजडी: जारी है बच्चों की मौत का सिलसिला, गुरुवार को 8 की मौत

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में बच्चों की मौत का सिलसिला...

मुरथल रेप केस: हाईकोर्ट ने SIT को एक महीने में जांच पूरी करने को कहा
मुरथल रेप केस: हाईकोर्ट ने SIT को एक महीने में जांच पूरी करने को कहा

चंडीगढ़: पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने साल 2016 के जाट आंदोलन के दौरान सोनीपत के निकट मुरथल में...

बाढ़ का कहर: बिहार में 98 तो असम में 133 की मौत, यूपी के 15 जिले भी चपेट में
बाढ़ का कहर: बिहार में 98 तो असम में 133 की मौत, यूपी के 15 जिले भी चपेट में

नई दिल्ली: बिहार, असम और पश्चिम बंगाल में बाढ़ ने जनजीवन पर बुरी तरह असर डाला है. बिहार में बाढ़...

यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र
यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गुरुवार को 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र दिया गया. इसके बाद 5...

सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की मंजूरी
सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की...

नई दिल्ली: रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को एक बड़ा फैसला लिया. मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए...

क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?
क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?

नई दिल्लीः सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक विदेशी महिला की चर्चा चल रही है.  वायरल वीडियों...

भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश
भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश

पटना/भागलपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भागलपुर जिला में सरकारी खाते से पैसे की अवैध...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017