मोदी की ‘हल्की’ बातों से जीडीपी, सेंसेक्स लुढक रहा है: नीतीश

By: | Last Updated: Wednesday, 2 September 2015 3:17 AM

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उनके ‘पैकेज’ को लेकर की गयी टिप्पणी पर कहा कि ऐसी हल्की बात अगर मुल्क के प्रधानमंत्री करेंगे तो मुल्क का क्या होगा, जिसके कारण देश का जीडीपी घट रहा है और सेंसेक्स लुढक रहा है.

 

आगामी बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर भागलपुर जिले में भाजपा नीत राजग द्वारा आयोजित एक परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार के बिहार के विकास के लिए 2.70 लाख करोड रूपये के पैकेज की घोषणा को संदेह के घेरे में लाते हुए मोदी के यह कहे जाने कि यह बिहार के लोगों की आंखों में धूल झोंकना है, इस पर नीतीश ने कहा कि ऐसी हल्की बात अगर मुल्क के प्रधानमंत्री करेंगे तो मुल्क का क्या होगा. जिस प्रकार से सेंसेक्स लुढक रहा है और भारत की रेटिंग हो रही है, देश का जीडीपी घट रहा है. हमें लग रहा है कि वे परेशान जरूर हैं नहीं तो देश के प्रधानमंत्री भला ऐसी बातें करते.

 

मोदी ने नीतीश के 2.70 लाख करोड रूपये के पैकेज के बारे में कहा कि वित्त आयोग की सिफारिश पर केंद्र की सरकार अगले पांच साल में बिहार को 3.74 लाख करोड़ रूपये देने वाली है.

 

मोदी ने कहा, ‘‘आप (नीतीश) दे रहे हैं 2.7 लाख करोड़ और दिल्ली से जो आ रहा है, वह 3.74 लाख करोड़ रूपये है. यह पूछा जाना चाहिए कि 1.06 लाख करोड़ रूपये कहां जायेगा, बताएं. तो 1.06 लाख करोड़ रूपये चारे के लिए जायेगा क्या. चारे के खाते में लगेगा क्या. यह बिहार के लोगों की आंखों में धूल झांेकना है, बिहार के लोगों के साथ धोखा है.’’ उल्लेखनीय है कि चारा घोटाले में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद दोषी करार दिये गए हैं.

 

नीतीश ने वित्त आयोग की अनुशंसा के अनुसार बिहार को अगले पांच सालों में मिलने वाली 3.74 लाख करोड़ रूपये की राशि के बारे में कहा ‘संघीय ढांचा’ के अंतर्गत यह केंद्र सरकार को देना है, यह उसकी ‘ड्युटी’ है.

 

नीतीश ने कहा ‘वित्त आयोग की अनुशंसा से मिलने वाली राशि राज्य का आंतरिक संसाधन कहलाता है, प्रधानमंत्री जी. आप भी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे और हम भी बैठकों में बोलते रहे हैं पर आप अब देश के प्रधानमंत्री हैं. आपकी जिम्मेदारी बदल गयी है. आपके कंधे पर पूरे देश का भार है. किसी भी बात को सही नजरिए में पेश किया जाना चाहिए. इस रूप में रखेंगे तो सामने आपकी समर्थक जनता क्या सोचती है वह मायने नहीं रखता देश के भर के लोग क्या सोचेंगे और आज वे क्या महसूस कर रहे होंगे.’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इसे बिहार को तोहफा बता रहे हैं जबकि सच्चाई यह है कि यह हमारा पैसा है.

 

नीतीश ने मोदी के आज के भाषण को सुनकर जनता के उनके पक्ष में और भी एकजुट होकर उनके पक्ष में आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में वोट देने का दावा करते हुए कहा ‘चिंता नहीं करें प्रधानमंत्री जी, राज्य को विभिन्न योजनाओं में 2.70 लाख करोड रूपये के पैकेज में जितनी राशि का प्रबंध करना होगा, इसके लिए अलग से आपसे पैसा नहीं मांगने जाएंगे.’ उन्होंने कहा ‘प्रधानमंत्री का पौने चार लाख करोड रूपये केंद्र सरकार के देने का दावा कितना खोखला है क्योंकि यह देने का प्रश्न नहीं है बल्कि हमारी संघीय व्यवस्था में इसका प्रावधान है. यह केंद्र की कृपा नहीं है या उनकी कोई मर्जी नहीं है. हां उसे बढाना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं.’ नीतीश ने कहा कि 14वें वित्त आयोग की अनुशंसा से बिहार को होने वाले अनुपातिक दृष्टिकोण से 50 हजार करोड रूपये के नुकसान को लेकर उनसे तथा वित्त मंत्री से मिलकर ज्ञापन भी दे चुके हैं.

 

नीतीश ने कहा कि वह यह सुनकर आश्चर्यचकित थे देश के प्रधानमंत्री के स्तर से इस तरह की बातें हो रही है, इस देश का क्या होगा. यह सबके लिए चिंता का विषय है. कहने के लिए संघवाद है और सारी बात कह रहे हैं ‘हम देंगे.’ प्रधानमंत्री के नीतीश और लालू से पिछले 25 साल के बिहार के उनके शासन का हिसाब मांगे जाने पर नीतीश ने कहा ‘बिहार की जनता ने जबसे काम सौंपा है तबसे हम प्रत्येक साल रिपोर्ट कार्ड पेश करते हैं और इस साल अपने दोनों कार्यकाल का मिलाकर राज्य सरकार का दस सालों का समेकित रिपोर्ट कार्ड भी जारी कर दिया. हम तो हर साल रिपोर्ट कार्ड जारी करते हैं. आपको 15 महीने हो गये, एक साल का तो रिपोर्ड कार्ड जारी देते. आप पांच साल में :2019 में लोकसभा चुनाव के समय: जारी करने की बात कर रहे हैं.

 

उन्होंने कहा ‘इसलिए यह सब बताने की जरूरत नहीं. सुशासन के मुद्दे पर भी मुझे किसी से कोई पाठ नहीं सीखना है.’ आप तो पांच साल पर दीजिएगा हम तो हर साल हिसाब देते हैं. उस लिहाज से अगर आप भी एक साल में रिपोर्ट कार्ड देते तो बहुत अच्छा रहता.

 

नीतीश ने केंद्र सरकार की अभी की उपलब्धियों को खस्ताहाल होने का आरोप लगाते हुए कहा ‘अप्रैल-जून 2014 में देश में कृषि क्षेत्र का विकास दर 2.6 प्रतिशत था जो कि अप्रैल-जून 2015 में घटकर 1.9 प्रतिशत प्रधानमंत्री जी. उद्योग क्षेत्र में पिछले साल 7.7 प्रतिशत जो घटकर 6.5 प्रतिशत हो गया. खदान के क्षेत्र का विकास दर इस अवधि में 4.3 से घटकर 4 प्रतिशत हो गया. उत्पादन क्षेत्र का विकास दर आपके मेक इन इंडिया के नारे के बाद 8.4 प्रतिशत से घटकर 7.2 प्रतिशत हो गया.’

 

उन्होंने कहा ‘आपके नेतृत्व में आज अर्थव्यवस्था में मंदी आयी है उसका परिणाम है कि संसेक्स लुढकता जा रहा है, तो संसेक्स के लुढकने की परेशानी तो नहीं थी जो कि सब गुस्सा हम पर उतार रहे थे.’ नीतीश ने परसों गांधी मैदान में अपने गठबंधन की एकजुटता को धुमिल कर पाना और उसका सामना कर पाने की भाजपा नीत राजग की क्षमता नहीं होने का दावा करते हुए कहा था कि आज हमारी चिंता यह है कि देश का क्या होगा. अर्थव्यवस्था का भट्ठा बैठ रहा है. प्रधानमंत्री जी परेशान है और जो संघीय ढांचा है उसके प्रतिकूल सब बात बोल रहे हैं.’

 

नीतीश ने कहा, ‘जब देश की अर्थव्यवस्था की यह हालत है तो ऐसे में प्रधानमंत्री जी का थोडा विचलित होना स्वभाविक है क्योंकि आज पहली बार ऐसा देखा कि मंच से उन्होंने किसी का नाम ही नहीं लिया. असल आलोचना के लिए उनके पास आज कुछ था नहीं. पिच बढा देने से बात में दम नहीं आता है. मुझको पिच बढाने आता नहीं अपनी बात का, मैं तो सहज ढंग से वस्तुस्थिति को रख देता हूं.’ उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले लोकसभा चुनाव के समय किए गए वादे पर कटाक्ष करते हुए तथा अपने 2.70 लाख करोड रूपये के पैकेज के बारे में कहा कि हम जो बोलते हैं उसको करते हैं. हम दूसरों की तरह नहीं बोलते है कि कालाधन वापस आने पर हर गरीब को मुफ्त में 15 से 20 लाख रूपये यूं ही मिल जाएंगे. हर सरकारी कर्मचारी को 5 से 10 प्रतिशत राशि मिल जाएगी. सौ दिन में कालाधन आ जाएगा.

 

मोदी के जातिवाद और सम्प्रदायवाद का जहर फैलाने वालों को मजबूरन विकास के लिए पैकेज लाने तथा उन्हें इस बात की खुशी है कि चुनाव अब विकास के मुद्दे पर सही दिशा में आया को उनका विरोधाभासी बयान बाताते हुए नीतीश ने कहा ‘आजतक मेरा यही ट्रैक रिकार्ड रहा है जो कहते हैं उसे करके दिखाते हैं और आज मुझे यह खुशी है उन्हें इस बात का एहसास हो गया कि हम विकास और अपने काम के आधार पर वोट मांग रहे हैं. उन लोगों तरह नहीं कि जात का समीकरण बिठा रहे हैं. जरा देख लीजिए प्रभारी से लेकर एक-एक आदमी क्या-क्या सोचकर बहाल कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘राज्यपाल (बिहार के नवनियुक्त राज्यपाल) जैसे गरिमामय पद का परिचय किस तरह से दे रहे थे. दुनिया जानती है वे बोलेंगे कुछ करेंगे कुछ. प्रधानमंत्री का यह कहना कि यदुवंशियों की रक्षा हम करेंगे, यह विकास की राजनीति है और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रधानमंत्री को भी ओबीसी प्रधानमंत्री बता देते हैं. ऐसे में जातिवाद की राजनीति वे कर रहे हैं या हमलोग कर रहे हैं. जाति एवं सांप्रदायिक राजनीति भाजपा का एजेंडा है और विकास एक मुखौटा है.’

 

नीतीश ने तंज किया कि आज तो खुद ही बिहार आए नहीं तो हर दिन कितने केंद्रीय मंत्री बिहार का दौरा लगा रहे हैं यह सभी देख रहे हैं जो कि उनकी परेशान होने का घोतक है. उन्होंने कहा ‘किसी न किसी कारण से आज प्रधानमंत्री जी विध्न में थे…शब्दों के चयन में भी दिखाई दे रहा था. हम लोगों को कह दिया लोहिया जी के चेले चपाटे. आप किनके चेले चपाटे हैं…हमलोग किसी भी कीमत पर इस तरह के शब्द का प्रयोग नहीं करते हैं. अधिक से अधिक हम यही कह सकते हैं कि हिटलर का प्रचार मंत्री था गोएबेल्स जिसका सिद्धांत था कि एक झूठ को सौ बार दोहराओ तो वह सच का रूप धारण कर लेता है, तो आप सब लोग गोएबेल्स के अनुयायी हैं. हमने कभी नहीं कहा कि गोएबेल्स के चेले चपाटे हैं.’

 

इससे पहले नीतीश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भागलपुर में आयोजित परिवर्तन रैली से पूर्व ट्विट के जरिए उनसे कहा था कि वह बिहार के लिए नए वादे न करें बल्कि ‘‘नैतिक साहस का परिचय दें’’ और आज तक किए गए सभी वादों का कार्यान्वयन सुनिश्चित करें.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Modi’s ‘shallow’ remark due to falling GDP, Sensex: Nitish
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

गोरखपुर ट्रेजडी: इलाहाबाद HC ने योगी सरकार से पूछा सवाल, बच्चों की मौत कैसे हुई ?
गोरखपुर ट्रेजडी: इलाहाबाद HC ने योगी सरकार से पूछा सवाल, बच्चों की मौत कैसे...

इलाहाबाद: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले की न्यायिक जांच की मांग को...

योगी के बयान पर बोले अखिलेश- थानों में पहले भी मनती थी जन्माष्टमी, हमने रोक नहीं लगाई
योगी के बयान पर बोले अखिलेश- थानों में पहले भी मनती थी जन्माष्टमी, हमने रोक...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री...

ABP न्यूज़ का खुलासा: सृजन NGO में बाहर से सामान मंगाकर सिर्फ पैकिंग होती थी
ABP न्यूज़ का खुलासा: सृजन NGO में बाहर से सामान मंगाकर सिर्फ पैकिंग होती थी

भागलपुर:  बिहार में जिस सृजन घोटाले को लेकर राजनीति गरम है उसको लेकर बड़ा खुलासा किया है. एबीपी...

CCTV में कैद दिल्ली का 'दुशासन': 5 स्टार के सिक्योरिटी मैनेजर ने की महिला से छेड़खानी
CCTV में कैद दिल्ली का 'दुशासन': 5 स्टार के सिक्योरिटी मैनेजर ने की महिला से...

नई दिलली: राजधानी दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल में महिला से छेड़खानी का एक सनसनीखेज मामला सामने...

आज हर कीमत पर चुनाव जीतना चाहती हैं राजनीतिक पार्टियां: चुनाव आयुक्त
आज हर कीमत पर चुनाव जीतना चाहती हैं राजनीतिक पार्टियां: चुनाव आयुक्त

गुरुवार को एडीआर के एक कार्यक्रम में चुनाव आयुक्त ने कहा, जब चुनाव निष्पक्ष और साफ सुथरे तरीके...

भारत को मिला जापान का साथ, डोकलाम में सेना की तैनाती को सही ठहराया
भारत को मिला जापान का साथ, डोकलाम में सेना की तैनाती को सही ठहराया

नई दिल्ली: डोकलाम को लेकर चीन से तनातनी के बीच भारत को जापान का समर्थन मिला है. जापान ने डोकलाम...

2015 से पहले के तेजाब हमला पीड़ितों को मिल सकता है मुआवजा
2015 से पहले के तेजाब हमला पीड़ितों को मिल सकता है मुआवजा

नई दिल्ली: दिल्ली की आप सरकार तेजाब हमलों के उन मामलों पर विचार करेगी, जो सरकार की 2015 में...

बलात्कार पीड़ित 10 साल की लड़की ने  बच्चे को जन्म दिया
बलात्कार पीड़ित 10 साल की लड़की ने बच्चे को जन्म दिया

चंडीगढ़: बलात्कार पीड़ित एक 10 साल की लड़की ने कल अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया. लड़की के...

‘साझी विरासत’ को बचाने के लिए एकजुट होकर लड़ेंगी विपक्षी पार्टियां
‘साझी विरासत’ को बचाने के लिए एकजुट होकर लड़ेंगी विपक्षी पार्टियां

नई दिल्ली:  लगभग एक दर्जन से ज्यादा विपक्षी पार्टियों ने कल एक मंच पर आकर आरएसएस पर तीखा हमला...

गुजरात में स्वाइन फ्लू से अबतक 230 की मौत, राज्य ने केंद्र से मांगी मदद
गुजरात में स्वाइन फ्लू से अबतक 230 की मौत, राज्य ने केंद्र से मांगी मदद

अहमदाबाद: गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में स्वाइन फ्लू की स्थिति के बारे में...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017