पाकिस्तान को यूएन में करारा जवाब, कहा-यूएन में कश्मीर मुद्दा उठाने का कोई फायदा नहीं

By: | Last Updated: Saturday, 27 September 2014 1:34 PM
Modi’s UN speech

नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हिंदी में भाषण दे रहे हैं. ये भाषण वहां सभी समझ जाएं इसके लिए खास इंतजाम भी किए गए हैं.

LIVE UPDATE:

#हम प्रकृति के साथ जुड़ने की बात करते हैं. तो आपको बताना चाहता हूं कि योग स्वास्थ्य और कल्याण का समग्र दृष्टिकोण है. यह केवल व्यायाम नहीं है. यह हमारी जीवन शैली में परिवर्तन लाकर जलवायु और परिवर्तन से लड़ने में सहायक है. आइए हम योग दिवस को लागू करने के बारे में सोचें.

 

#संयुक्त राष्ट्र को नई पीढ़ी के मुताबिक सोचना होगा.

#जब व्यापारिक समझौते होते हैं तो दूसरे की चिंताओं को भी समझने की जरूरत है.

#सभी देशों को यह तय करना है कि कोई देश अंतराष्ट्रीय कानूनों का पालन करें.

 

#आतंकवाद के खिलाफ ठोस प्रस्ताव को पास करना चाहिए.

 

#पूरी दुनिया आतंकवाद की शिकार.

 

#आज भी कई देश आतंकवाद को पनाह दे रहे हैं.

#आतंकवाद से लड़ना है तो सबको एकजुट होना पड़ेगा.

 

#जी समूहों को जी ऑल बनाना होगा.

 

#विश्व बदल रहा है समय के अनुरूप हमें भी बदलना होगा.

#आज बड़े युद्ध नहीं हो रहे हैं लेकिन संघर्ष और तनाव जारी है.

 

#जो समंदर हमें जोड़ता था उसी समंदर से आज टकराव की खबरें आ रही हैं.

बातचीत के लिए हम तैयार है.

 

#हमारा भविष्य पड़ोसियों के साथ जुड़ा हुआ है. हमने शुरू में पड़ोसियों से अच्छे रिश्तों को प्राथमिकता दी. पाकिस्तान के प्रति भी मेरी यही नीति है.

 

#हमने रिश्ते सुधारने की कोशिश की. आतंकवाद का साथ छोड़कर बातचीत के लिए गंभीर हो पाकिस्तान.

#हमारी सरकार ने पड़ोसी देशों से पहली दिन से ही सहयोग की भावना रखा है.

 

#हमने पाकिस्तान से भी कहा कि हम जैसे कश्मीर बाढ़ पीड़ितों की सेवा कर रहे हैं आपकी भी करेंगे.

 

# अफगानिस्तान में शांतिपूर्वक राजनीतिक परिर्वतन दिखाता है कि लोकतंत्र मजबूत हो रहा है. हिंसा पर लोकतंत्र का विजय है.

 

#हम पाकिस्तान से बिना आतंक के साए में द्विपक्षीय वार्ता चाहते हैं.

#यूएन में कश्मीर उठाने से कोई फायदा नहीं है.

 

#पश्चिम एशिया में आतंकवाद बढ़ रहा है.

 

#हम भी चार दशक से आतंकवाद झेल रहे हैं.

क्या नवाज शरीफ को करारा जवाब देंगे मोदी ? 

#हमे एशिया और उसके पूरे समृद्धि का अभ्युदय देखा है. अपार संभावनाओं से समृद्धि लैटिन अमेरिका साझा प्रयास से एकजूट हो रहा है.

 

#भारत अपने प्रगति के लिए एक शांतिपूर्ण और स्थिर अंतराष्ट्रीय वातावरण की अपेक्षा करता है.

 

 

# हमने कई लड़ाईयों को रोका है.भूखमरी हटाने में योगदान दिया है. इस धरती को बचाने के लिए भी हम सब साथ जुटे हुए हैं.

 

# भारत अपने लिए ही नहीं विश्व पर्यन्त , एकता, संमृद्धि की आवाज उठाता रहा है.

# सर्वप्रथम संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष चुने जाने पर आपको बधाई.

 

# भारत वह देश है जहां दुनिया छठवां हिस्सा का आवाज है.

 

# संयुक्त राष्ट्र में पहली बार संबोधित करना मेरे लिए गर्व की बात है.

 

# भारत आर्थिक और सामाजिक बदलाव से गुजर रहा है.

 

# भारत एक देश है जहां बसुंधैव कुटुंबकम में विश्वास करता है.

# संयुक्त राष्ट्र संघ में पीएम मोदी पहुंच चुके हैं.

 

# प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव बान-की -मून से मुलाकात की.

 

# यूएन के सामने कुछ लोग मोदी का विरोध भी कर रहे हैं.

 

प्रधानमंत्री के तौर पर अमेरिका की अपनी पहली यात्रा पर मोदी एयर इंडिया के विशेष बोइंग विमान से न्यूयार्क के जेकेएफ हवाई अड्डे पर उतरे. मोदी जब अमेरिका पहुंचे तो उनके लिए लोगों में जबरदस्त दीवानगी दिखी.

 

क्या है खास इंतजाम

नरेंद्र मोदी जब संयुक्त राष्ट्र सभा में भाषण देंगे तो पूरी दुनिया के 193 देशों के प्रतिनिधि उन्हें सुनेंगे. लेकिन आखिर कैसे?

 

संयुक्त राष्ट्र में हिंदी मे भाषण देंगे प्रधानमंत्री मोदी, किए गए हैं खास इंतजाम 

प्रधानमंत्री का 15 मिनट का भाषण हिंदी में होगा. जिसे ट्रांसलेट करने के लिए संसद के दो अधिकारी साथ जा रहे हैं. पहली बार होगा जब प्रधानमंत्री बोल रहे होंगे उसी वक्त भाषण को हेडफोन्स पर ट्रांसलेट किया जाएगा.

 

संयुक्त राष्ट्र की 6 आधिकारिक भाषाओं में हिंदी नहीं है. आमतौर पर 6 भाषाओं इंग्लिश, फ्रांसिसी स्पैनिश, रूसी, चीनी और अरबी के तुरंत अनुवाद की व्यवस्था है, पर हिंदी के तुरंत अनुवाद की व्यवस्था नहीं है. इस बार खास ये है कि भारत की तरफ से तुरंत अनुवाद देने की व्यवस्था की जा रही है.

 

लोग उनका फोटो एवं वीडियो लेते हुए नजर आए. लोग उनका स्वागत करने के लिए दो घंटे पहले से वहां पहुंचे हुए थे. उस समय थोड़ी भगदड़ जैसी स्थिति हो गयी जब लोग मोदी को देखने के लिए धक्का मुक्की करने लगे. लोग उनके व्यक्तित्व और उनके आचरण के बारे में भी चर्चा कर रहे थे.

 

आखिर क्यों हो रहा ऐसा

संयुक्त राष्ट्र की 6 आधिकारिक भाषाओं में हिंदी नहीं है, इसलिए भारत को 6 आधिकारिक भाषाओं में से किसी एक में अनुवाद देना होगा.मोदी से पहले पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और अटल बिहारी वाजपेयी भी हिंदी में संयुक्त राष्ट्र में बोल चुके हैं.

 

संयुक्त राष्ट्र में लिखा हुआ भाषण पढ़ने की परंपरा है. इसलिए मोदी का भाषण भी पहले लिखा जाएगा. प्रिपेयर्ड टेक्टर की भाषा है यूएन की. इसलिए अनुवाद की सुविधा रहती है.

 

अमूमन जो भी नेता बोलता है उसे बाद में ट्रांसलेट किया जाता है पहली बार हो रहा है कि पीएम की स्पीड का इतना इम्पेक्ट रहे की पूरी दुनिया में असर रहे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Modi’s UN speech
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: PM Modi UN speech
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017