सामाजिक भेदभाव’ जब तक है तब तक आरक्षण जारी रहना चाहिए: मोहन भागवत

By: | Last Updated: Friday, 29 January 2016 9:14 AM
mohan bhagwat supports reservation

पुणे: आरएसएस (राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ) प्रमुख मोहन भागवत को कॉलेज छात्रों के साथ एक बातचीत के दौरान नौकरियों में आरक्षण से लेकर राम मंदिर तक अलग-अलग मुद्दों से जुड़े करारे सवालों का सामना करना पड़ा. पिछले साल बिहार विधानसभा चुनाव से पहले भागवत ने आरक्षण व्यवस्था की समीक्षा की जरूरत की बात कहकर विवाद छेड़ दिया था.

लेकिन उन्होंने सरकारी नौकरियों और शिक्षा संस्थाओं में पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण का समर्थन किया. उन्होंने आरक्षण नीति पर अपने रूख के बारे में पूछे जाने पर कहा कि समाज में ‘सामाजिक भेदभाव’ जब तक है तब तक आरक्षण जारी रहना चाहिए लेकिन इसका ईमानदारी से कार्यान्वयन होना चाहिए. महाराष्ट्र टेक्नॉलजी इंस्टीट्यूट (एमआईटी) ने ‘छात्र संसद’ का आयोजन किया था जिसका पिछले कई सालों से हर साल आयोजन किया जा रहा है.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख की छात्रों के साथ संभवत: इस तरह की यह पहली बातचीत थी. जब एक छात्र ने भागवत से देश में धर्म और राजनीति को मिलाने के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, ‘‘जो ऐसा करते हैं, उनसे पूछिए. यह सवाल मेरे लिए नहीं है.’’ इसके बाद राम मंदिर के मुद्दे पर एक छात्र ने सवाल किया, ‘‘क्या राम मंदिर बनाने से गरीबों की थाली में रोटियां आ जाएंगी.’’ भागवत ने जवाब में कहा, ‘‘क्या मंदिर का निर्माण ना होने से रोटियां आ गईं.’’ उन्होंने साथ ही कहा कि राम हिन्दू संस्कृति के आदर्श व्यक्ति थे और इसलिए प्रेरणा के लिए आदर्शों की स्थापना की जानी चाहिए.’’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: mohan bhagwat supports reservation
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: BJP Mohan Bhagwat Ram Mandir Reservation rss
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017