मोदी का बिहार को बड़ा तोहफा, 1.25 लाख करोड़ के विशेष पैकेज का किया एलान

By: | Last Updated: Tuesday, 18 August 2015 7:18 AM

आरा : बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने राज्य के आरा में एक रैली को संबोधित करते हुए 1.25 लाख करोड़ के विशेष पैकेज का एलान किया. मोदी ने इस एलान के साथ ही ये भी साफ किया कि इस पैकेज में 40 हज़ार करोड़ के बिजली संयत्र के मिले पैकेज शामिल नहीं है.

 

मोदी के इस एलान का मतलब ये हुआ कि बिहार के विकास के लिए केंद्र सरकार ने 1.65 लाख करोड़ का पैकेज दिया.

 

लेकिन बिहार की सत्ताधारी पार्टी जेडीयू को मोदी का ये एलान रास नहीं आया है. जेडीयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने अपनी नाखुशी का इजहार करते हुए इसे राजनीतिक रिश्वत करार दिया है.

 

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि उन्हें पैकेज के डिटेल्स का इंतजार है. नीतीश का कहना है कि ये बिहार का हक है.

 

मोदी का एलान

 

विशेष पैकेज का एलान करते हुए मोदी ने कहा, “मैं आप से वादा करता हूं कि मैं इस पैकेज को पूरी तरह से लागू करूंगा. अगर हम बिहार की जनता की परेशानियों का समाधान चाहते हैं तो हमें विकास का सहारा लेना होगा.”

 

इस एलान के साथ ही मोदी ने कहा कि विकास से ही बिहार की तकदीर बदलेगी. उनका सपना है कि देश की गति के साथ बिहार भी कदम से कदम मिलाकर चले.

 

जानें मोदी ने आरा में सिलसिलेवार क्या कहा:-

 

मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी से की- रउवा सब लोग के हमार प्रणाम. लोकसभा चुनाव के बाद हम भोजपुर आइल बानी. वीर कुवर सिंह की धरती पर रउवा सब के बहुत बहुत अभिनन्दन.

 

आज ऐसे कामों का शिलान्यास हो रहा है जो आने वाले समय में बिहार की शक्ल सूरत बदल देंगे.

 

नीतीश कुमार के टुकड़ों में कुछ दिए जाने से कोई फायदा नहीं होने और विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने के बयान पर मोदी ने ये कहकर जवाब दिया- “दिल्ली सरकार टुकड़ों में में नहीं देती और न ही टुकड़े फेंककर देश के विकास को आगे बढाया जा सकता है. हम टुकड़ों में काम करना नहीं चाहते.”

 

बिहार की गिनती बीमारू राज्य में होती है यहाँ के मुख्यमंत्री जी नाराज हो गए. गुस्सा हो गए . होता क्या है ये मोदी. अब बिहार बीमारू राज्य नहीं है. आपके मुंह में घी शक्कर. यदि बिहार बीमारू से बाहर आ गया है तो मुझे सबसे ज्यादा ख़ुशी होगी. इस बात का मैं स्वागत करता हूँ. लेकिन पेट भरा हो तो कोई खाना मांगेगा क्या ? कोई तंदुरुस्त है वो कभी डॉक्टर के पास जायेगा क्या ? मैं हैरान हूँ. एक तरफ कहते है बीमारू नहीं हैं दूसरी तरफ कहते हैं-  हमें ये दो. हमें वो दो. हमें ये चाहिए. बिहार की जनता तय करे .

 

बिहार को अब तक दो पेकेज मिल चुके है. बिहार के विभाजन के बाद 2003 में अटल जी 10000 करोड़ का पैकज दिया. बाद में सरकार बदल गयी. अटल जी ने जो 10000 करोड़ दिया वो 2013 तक खर्च भी नहीं कर पाए. 9000 करोड़ ही खर्च कर पाए.

 

बिहार के स्वाभिमान को दांव पर लगा दिया गया. गिद्गिदाये. इज्जत की खातिर कुछ दे दो. उस समय की केंद्र सरकार ने उनको खुश रखने के लिए सिर्फ 12000 करोड़ दिया. 1000 करोड़ भी जोड़ दिया जो अटल जी के समय के लटके पड़े थे. बिहार के स्वाभिमान को ताक पर रख दिया. इसमें से अब तक सिर्फ 4000 करोड़ ही खर्च हुआ. 2013-14 में भी मामूली खर्च हुआ. 8000 करोड़ अभी तक पड़ा है खर्च नहीं हुआ है. अब तक दो पैकेज मिले वो भी खर्च नहीं हुआ. पिछले दौरे में संसद सत्र चलने के कारण मैं चुप रहा. फिर भी मेरे बाल नोच लिया गया.

 

मैं आज आरा की धरती से आपका वादा पूरा करने आया हूँ. आज मैं बिहार के लिए सवा लाख करोड़ रुपया बिहार का भाग्य बदलने के लिए देने का एलान करता हूँ. सवा लाख करोड़ के अतिरिक्त 40 हजार करोड़ भी है यानि कुल 1 लाख 65 हजार करोड़ हुआ.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Moni announce 1.25 lakh crore packages
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017