व्यापम घोटाले में मेरा नाम घसीटना राजनीति का 'घिनौना' चेहरा: उमा

By: | Last Updated: Wednesday, 18 February 2015 2:04 AM
MPPEB scam: Bharti terms Cong allegations as conspiracy

भोपाल: कांग्रेस द्वारा व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) घोटाले में उनका नाम घसीटे जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने इसे साजिश की राजनीति का सबसे ‘घिनौना’ चेहरा बताया है.

 

उमा भारती ने मंगलवार को अपने निवास पर संवाददाताओं से कहा, ‘करीब एक साल पहले जब मैंने अपने नाम से व्यापम से जुडी खबर समाचार पत्रों में पढी तब मुझे घोर आश्चर्य हुआ. जिस मामले की मैं सीबीआई की जांच की मांग कर रही हूं उसी मामले में अचानक छह महीने बाद मेरे नाम आने को मैं साजिश की राजनीति का सबसे घिनौना चेहरा मानती हूं.’

 

व्यापम घोटाले को लेकर कांग्रेस द्वारा लगाये गये आरोपों के बारे में पूछे जाने पर उमा भारती ने कहा कि लगाये गये आरोपों का विषय न्यायालयीन प्रक्रिया के विचाराधीन हैं, इसलिए वह इस विषय पर कुछ नहीं बोलेंगी.

 

उमा भारती ने बाद में एक बयान में कहा कि डेढ साल पहले जब उन्हें व्यापम घोटाले की जानकारी मिली थी तब ही उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इस मामले को सीबीआई को सौंपने का सार्वजनिक सुझाव दिया था. बाद में मुख्यमंत्री ने इस मामले की जांच एसटीएफ को सौंपने का फैसला किया.

 

उमा भारती ने कहा, ‘इस मामले में मुझे इतना आत्मविश्वास था कि मैं पिछले साल पुलिस मुख्यालय जाकर अपना बयान दर्ज कराने को तैयार थीं. लेकिन एसटीएफ के पुलिस महानिरीक्षक ने मेरी संलग्नता नहीं होने का बयान जारी किया और स्वयं पुलिस महानिदेशक ने मेरे निवास पर आकर इसकी जानकारी दी.’ उल्लेखनीय है कि उमा भारती ने मंगलवार सुबह ही उज्जैन में संवाददाताओं के प्रश्नों के उत्तर में चुप्पी साध ली थी और कहा था कि वह इस बारे में शीघ्र ही बयान जारी करेंगी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: MPPEB scam: Bharti terms Cong allegations as conspiracy
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: madhya pradesh Uma Bharti Vyapam Scam
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017