क्या मुफ्ती को सीएम बनाकर फंस गई बीजेपी?

By: | Last Updated: Sunday, 1 March 2015 12:47 PM

नई दिल्ली: मुफ्ती मोहम्मद सईद ने जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री बनते ही दे दिया है विवादित बयान, सीएम सईद ने जम्मू कश्मीर के सफल चुनावों का श्रेय आतंकियों और पाकिस्तान को दे दिया है.

 

दो महीने की खींचतान के बाद जम्मू-कश्मीर में पीडीपी-बीजेपी की सरकार बनी, लेकिन सीएम की कुर्सी संभालते ही मुफ्ती मोहम्मद सईद बड़े ठसक से बोल गए विवादित बोल.

 

नेशनल कांफ्रेंस नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस बयान पर तंज कसने में देर नहीं लगाई.

 

उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर कहा, मुफ्ती साहब कह रहे हैं कि जम्मू-कश्मीर में शांतिपूर्ण चुनाव में पाकिस्तान, हुर्रियत कांफ्रेंस और उग्रवादियों ने मदद की. मुफ्ती साहब के इस बयान के लिए हजार बार शुक्रिया.

 

पिछले साल दिसंबर में आतंकियों ने कश्मीर घाटी में पोस्टर लगाकर जनता को चुनाव का बहिष्कार करने के लिए धमकाया था.

 

लेकिन घाटी की जनता ने आतंकी धमकी को ठेंगा दिखाते हुए जमकर मतदान किया था.

 

ऐसे में बड़ा सवाल ये कि बीजेपी से गठबंधन करने वाली पीडीपी के सीएम गद्दी संभालते ही पाकिस्तान, हुर्रियत और आतंकियों को शांतिपूर्ण चुनाव का श्रेय क्यों दे रहे हैं?

 

खासतौर से इसलिए भी, क्योंकि इस गठबंधन ने धारा 370 और सशस्त्र बल विशेषाधिकार जैसे विवादित मुद्दों को हटाकर कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के आधार पर जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाई है.

 

वैसे मुफ्ती मोहम्मद सईद के विवादित बयान से पहले ही विपक्ष इस गठबंधन को अवसरवाद का गठबंधन ठहरा रहा है.

 

जाहिर है पीडीपी के इस तरह के बयानों से सबसे बड़ी मुश्किल बीजेपी के लिए खड़ी होने वाली है क्योंकि उसने अपनी विचारधारा से समझौता कर आज ही पीडीपी के साथ सरकार बनाई है. वैसे मोदी सरकार की इस बयान पर क्या प्रतिक्रिया आती है, वो देखना भी दिलचस्प होगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: mufti sayeed controversial statement
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: BJP India jammu and kashmir mufti sayeed PDP
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017