मुलायम से गठबंधन से मायावती का इनकार, कहा- मेरे लिए सत्ता से बड़ा सम्मान है

By: | Last Updated: Wednesday, 13 August 2014 6:19 AM

नई दिल्ली:  लालू प्रसाद यादव की अपील के बाद एसपी नेता मुलायम सिंह के संकेत के बाद ऐसा लगा था कि यूपी में बीजेपी के खिलाफ बीएसपी-एसपी साथ आ सकती हैं, लेकिन मायावती ने इस संभावना को ठुकरा दिया है.

 

आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव ने दो दिन पहले हाजीपुर में एक चुनावी रैली में कहा था कि बिहार की तरह ही यूपी में भी मुलायम-मायावती को करीब आना चाहिए, जिसके बाद मुलायम ने हाथ मिलाने के संकेत दिए थे.

 

लेकिन यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने मुलायम पर एक साथ दोहरा हमला किया है. मायावती ने मुलायम से हाथ मिलाने के सवाल पर कहा कि उनके लिए सत्ता से बड़ा सम्मान है.

 

मायावती ने कहा, ” हो सकता है कि मुलायम सिंह यादव और लालू प्रसाद यादव के लिए सत्ता पहले हो, लेकिन मेरे लिए सम्मान पहले है.”

 

इसको साथ ही मायावती ने उस गेस्टहाउस कांड का ज़िक्र किया, जिस दौरान एसपी कार्यकर्ताओं ने मायावती पर जानलेवा हमला किए थे.

 

आपको बता दें कि इससे लालू की अपील पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने मायावती से हाथ मिलाने के संकेत दिए थे.

 

मुलायम सिंह यादव ने कहा था, “लालू, मायावती का हाथ पकड़कर ले आएं तो मैं हाथ मिलाने को तैयार हूं.”

 

क्या है गेस्टहाउस कांड

 

मुलायम के साथ गठंबधन ठुकारने की बात करते हुए मायावती ने आज जिस गेस्टहाउस कांड की बात की वो दो जून उन्नीस सौ पनचानबे को हुआ था, उस वक्त यूपी में मायावती के समर्थन से मुलायम सिंह यादव की सरकार चल रही थी. एक जून 1995 को मायावती ने मुलायम की सरकार से समर्थन वापस ले लिया था उसके बाद अगले दिन दो जून को गेस्ट हाउस में मायावती पर हमला हुआ था. मायावती ने समाजवादी पार्टी के समर्थकों पर हत्या का आरोप लगाया था. इस घटना के बाद बीजेपी के समर्थन से मायावती की सरकार बनी थी.