मुंबई पुलिस और दाउद का कनेक्शन!

By: | Last Updated: Tuesday, 3 November 2015 4:30 PM
mumbai police and dawood connection

नई दिल्लीः इंडोनेशिया के बाली में पकड़े गए अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन ने मुंबई पुलिस  बड़ा इल्जाम पर लगाया है. छोटा राजन का कहना है कि मुंबई पुलिस के कुछ लोग भारत के गुनहगार दाऊद इब्राहिम के लिए काम करते हैं. एक गुनहगार का मुंबई पुलिस पर ये गंभीर आरोप कई सवाल खड़े कर रहा है और आपका चैनल एबीपी न्यूज इस इल्जाम की पूरी पड़ताल कर रहा है.

 

भारत लाए जाने से ठीक पहले इंडोनेशिया की पुलिस के गिरफ्त में छोटा राजन का ये बयान उस मुंबई पुलिस के लिए आया है जो अब उसके गुनाहों का हिसाब करेगी. 1993 के मुंबई हमले के गुनहगार दाऊद इब्राहिम का ये 20 साल पुराना दुश्मन कह रहा है कि दाऊद इब्राहिम के इशारे पर मुंबई पुलिस के कुछ वर्दीवाले काम करते हैं.

 

25 अक्टूबर को छोटा राजन की इंडोनेशिया के बाली एयरपोर्ट पर हुई गिरफ्तारी के बाद उसकी जुबां से निकलने वाली हर बात पर सारी दुनिया की सुरक्षा एजेंसी की नजरें लगी हुई हैं. वजह ये है कि छोटा राजन का हर बयान मुंबई के अंडरवर्ल्ड पर सबसे बड़ा सबूत बन सकता है.

 

इससे पहले कि अजित डोभाल, आर के सिंह, विकी मल्होत्रा, असलम मोमिन के फोटो परिचय के साथ इन चेहरों के साथ हम मुंबई पुलिस में दाऊद के भेदियों की पड़ताल शुरू करें देखिए कैसे छोटा राजन के बयान के बाद भारत के सुरक्षा विशेषज्ञ भी कह रहे हैं कि मुंबई पुलिस के दाऊद कनेक्शन का जो इशारा किया है वो भले ही पूरी तरह सच ना हो लेकिन पूरी तरह झूठा भी नहीं है.

 

 

छोटा राजन जो बाते कर रहा है वो 90 के दशक की बात कर रहा है . पहले पुलिस वाले गैंगस्टर के लिए काम करते है . अब अधिकतर रिटायर हो गए या सस्पेंड हो गए. पहले की तुलना भी मुम्बई पुलिस के अधिकारी अंडरवर्ल्ड के लिए सक्रिय नहीं लेकिन जो अंडरवर्ल्ड की जाल में है वो बाहर नहीं निकल पाता.

 

दरअसल महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने छोटा राजन को आर्थर रोड जेल के अंडा सेल में रखने की तैयारी की है और छोटा राजन मुंबई की बजाए दिल्ली की जेल में रहना चाहता था. ऐसे में मुंबई पुलिस की ईमानदारी पर उसका हमला एक योजना की तौर पर भी देखा जा रहा है.

 

मुंबई पुलिस और दाऊद का कनेक्शन की कहानी उतनी ही पुरानी है जितनी खुद दाऊद इब्राहिम की जिंदगी. देश के सुरक्षा सलाहकार बनते ही अजीत डोभाल ने इशारा किया था कि दाऊद को मारने के लिए भारत को एक दूसरी तरह की योजना और ताकत की जरूरत है. वो खुल कर तो नहीं बोले लेकिन हम बता रहे हैं कि डोभाल की अगुवाई में दाऊद को मारने का पूरा प्लान क्या था और मुंबई पुलिस से दाऊद के कनेक्शन ने कैसे इस प्लान को फेल कर दिया.

 

इसी साल मुंबई में हुए एक कार्यक्रम के बाद पत्रकारों को अजीत डोभाल ने जो कहानी सुनाई वो एक ऐसी गोली की कहानी है जो अगर चल जाती तो दाऊद और उसका खौफ हमेशा के लिए मिट जाता. अजीत डोभाल के इस खुलासे से पहले खुद देश के पूर्व गृह सचिव और मौजूदा बीजेपी सांसद ने पिछले साल अगस्त महीने में इसका खुलासा किया था.

 

 

दाऊद का द एंड करने की तैयारी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के दौरान की गई थी. ये तैयारी पूरी हो पाती इससे पहले ही दाऊद के गुर्गों को खबर लग गई.  पूर्व गृह सचिव और मौजूदा बीजेपी सांसद आर के सिंह ने इंडिया टुडे चैनल को दिए इंटरव्यू में बताया था कि कैसे दाऊद को मारने का प्लान तैयार किया था.

 

 

आर के सिंह के मुताबिक “दाऊद को मारने के लिए एक ग्रुप को तैयार किया गया था. पर मुबंई पुलिस में कुछ लोग दाऊद की नौकरी कर रहे थे जिन्हें आगाह किया गया. लेकिन मुंबई पुलिस वारंट लेकर पहुंच गई . मैं पक्के तौर पर नहीं कह सकता पर मैंने सुना है.. मेरे पास सबूत नहीं है.”

 

साल 2007 में ही आपके चैनल एबीपी न्यूज ने बताया था कि कैसे छोटा राजन के साथ हाथ मिलाकर ऑपरेशन मुच्छड़ की तैयारी की जा रही थी. इसमें छोटा राजन के शॉर्प शूटरों विकी मल्होत्रा और फरीद तनाशा को तैयार किया जा रहा था. ये तैयारी थी दाऊद की बेटी की शादी की हमला करने की.

 

 

दाऊद की बेटी माहरुख इब्राहिम और जावेद मियांदाद के बेटे जुनैद मियांदाद की शादी साल 2005 में होनी थी और इसी मौके के लिए ऑपरेशन मुच्छड़ की तैयारी की जा रही थी.

 

छोटा राजन साल 1993 में मुंबई बम धमाकों के बाद से दाऊद का कट्टर दुश्मन है. साल 2000 में छोटा राजन पर बैंकॉक में हमला भी किया गया था. छोटा राजन के पास वजह भी थी और खुफिया एंजेसियों के लिए ये सही मौका था.

 

आर के सिंह के मुताबिक मौजूदा सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल इस ऑपरेशन के इंचार्ज थे. इंडिया टुडे ग्रुप को इंटरव्यू में आर के सिंह ने बताया कि एक दिन डोवाल छोटा राजन गिरोह के सदस्यों के साथ बैठक कर रहे थे. कमलाकर की टीम होटल में आई. उस वक्त वो तीनों ग्रांट

 

दुबई का ग्रांट हयात होटल वो जगह है जहां माहरूख और जुनैद के निकाह का रिसेप्शन हुआ था. आर के सिंह का आरोप है कि मुंबई पुलिस में मौजूद दाऊद के शुभचिंतकों को इसकी भनक लगी और उन्हीं लोगों ने शॉर्प शूटरों को गिरफ्तार कर पूरी तैयारी पर पानी फेर दिया.

 

देखें वीडियो-

मुंबई पुलिस और दाउद का कनेक्शन! 

 

12 जुलाई 2005 को मुंबई की अदालत में छोटा राजन के शॉर्प शूटर को मुंबई की अदालत में पेश किए जाना था. 11 जुलाई 2005 को मुंबई पुलिस की टीम ने छोटा राजन के शूटरों को दिल्ली से गिरफ्तार किया था. विकी मल्होत्रा कहां है अभी किसी को पता नहीं पर इस ऑपरेशन से जुड़े दूसरे शॉर्प शूटर फरीद तनाशा को कुछ अरसे बाद दाऊद ने मार गिराया.

 

ऑपरेशन फेल हो गया और दाऊद पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में महफूज है. इस पूरे वाकये के बाद असलम मोमिन नाम के एक सीनियर पुलिस अफसर को हटा दिया गया. आरोप ये था कि यही वो शख्स था जिसे दाऊद को मारने के ऑपरेशन की भनक लगी और उसने दिल्ली पुलिस को छोटा राजन के शूटर विकी मल्होत्रा की जानकारी लीक कर दी थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: mumbai police and dawood connection
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: connection dawood mumbai police
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017