मां से मुहब्बत करने का सलीका बताते हैं मुनव्वर राना!

By: | Last Updated: Sunday, 18 October 2015 2:38 PM

नई दिल्ली: भारतीय उर्दू साहित्य में मुनव्वर राना एक ऐसा लोकप्रिय नाम है जिसके बिना आज ग़ज़ल की दुनिया आबाद नहीं हो सकती. जिसकी जुबान आम आदमी की जुबान है जहां लफ्ज़ों में सजे अशार खुद-बखुद जज़्बात को बयान करते चले जाते हैं.

 

मुनव्वर राना ने उर्दू ही नहीं, बल्कि हिंदी में भी अपना नाम रोशान किया है. उर्दू और हिंदी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मशहूर इस उर्दू शायर का जन्म 1952 में उत्तर प्रदेश के शहर रायबरेली में हुआ.

 

जब भारत आजाद हुआ तो मुल्क के दो टुकडे हुए. उसी तरह मुनव्वर राना के घर के भी दो टुकड़े हुए. बंटवारे के बाद उनके दादा और नानी हिंदुस्तान से पाकिस्तान हिजरत कर गए. लेकिन उनके पिता ने भारत से अटूट मुहब्बत की वजह से इसी देश को अपना घर बनाया.

 

रायबरेली में कुछ साल रहने के बाद मुनव्वर राना का खानदान कोलकाता चला गया और इसी शहर को अपना नया बसेरा बनया. इसी शहर में मुनव्वर राना की शुरुआती तालीम हुई.

 

उर्दू शायरी में मुनव्वर राना ने ग़ज़ल को अपनी अदबी (साहित्यिक) सफर का केंद्र रखा. उनके मशहूर कृतियों में ‘मां’ पर लिखा उनका कलाम हरेक की जुबान की आवाज़ बन गई. आज हाल ये है कि अगर हिंदुस्तान में मां की अकीदत और मुहब्बत में शायरी की जुबान में दो लफ्ज़ कहें जाए और इस दौरान मुनव्वर राना का ज़िक्र न हो, ये सोच पाना नामुमकिन है.

 

मुनव्वर राना की शायरी की जुबान आम आदमी की जुबान है. जिसमें हिंदी और अवधी का बखूबी इस्तेमाल किया गया है और यही उनकी लोकप्रियता की कूंजी है.

एक बात आम है कि अगर शायरी की जुबान में मां से मुहब्बत का सलीका किसी शायर ने सिखाया है तो उनमें मुनव्वर राना का नाम सबसे ऊपर है.

 

साल 2014 में मुनव्वर राना को साहित्य अकादमी अवॉर्ड से नवाज़ा गया था, लेकिन आज उन्होंने एबीपी न्यूज़ के लाइव टीवी शो के दौरान अपना अवॉर्ड लौटाने की घोषणा की.

 

मुनव्वर राना की प्रमुख कृतियाँ हैं:-

 

माँ, ग़ज़ल गाँव, पीपल छाँव, बदन सराय, नीम के फूल, सब उसके लिए, घर अकेला हो गया, कहो ज़िल्ले इलाही से, बग़ैर नक़्शे का मकान, फिर कबीर, नए मौसम के फूल

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Munawwar Rana
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: India Munawwar Rana Urdu poetry
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017